प्रत्येक गौशाला पर हो 100 कुन्तल भूसे की व्यवस्था और चौकीदार की नियुक्ति

अलीगढ मीडिया न्यूज़,अलीगढ: गौवंश की रक्षा के लिए सौंपे गये कार्यों को सभी विभाग मुस्तैदी के साथ पूर्ण करें। प्रत्येक गौशाला में मूलभूत सुविधाएं यथा- गौवंश की छाया के लिये टिनशेड, पानी की व्यवस्था, उनकी देखरेख के लिए एक चौकीदार तथा भूसे का भण्डारण आवश्यक रूप से किया जाए जिससे गौवंश एवं किसानों को किसी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े।
यह निर्देश जिलाधिकारी चन्द्र भूषण सिंह ने कलैक्ट्रेट सभागार में गौवंश के संरक्षण एवं भरण पोषण के निराकरण हेतु गठित जनपद स्तरीय अनुश्रवण एवं मूल्यांकन समिति की बैठक लेते हुए दिये। उन्होंने कहा कि प्रत्येक गौशाला में 100 कुन्तल भूसे का आवश्यक रूप से भण्डारण किया जाए। उन्होंने कहा कि जिन गौशालाओं में भूसा भण्डारण के लिए स्थान नहीं है वहां बाजार से रेडीमेड भूसा भण्डारण बैग खरीदकर उसमें भूसे का भण्डारण किया जाए।
श्री सिंह ने निर्देश दिये कि प्रत्येक गौशाला में एक चौकीदार की नियुक्ति की जाए जो गौवंश की देख-रेख करने के साथ उनकी समय से पानी एवं चारे की व्यवस्था भी समय से करे। उन्होंने निर्देश दिये कि पशु चिकित्सा विभाग इस प्रकार अपनी योजना तैयार करे कि प्रत्येक माह कम से कम एक बार गौशाला के पशुओं का स्वास्थ्य परीक्षण किया जा सके। उन्हांंने कहा कि जनपद में निराश्रित घूम रहे पशुओं को गौशालाओं में भेजा जाए तथा उनकी टैगिंग भी कराई जाए। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में निर्मित गौशालाओं में स्थानीय निराश्रत पशुओं को प्राथमिकता के आधार पर रखा जाए। यदि गौशाला में और जगह शेष हो तो पड़ौस के अन्य ग्रामों के गौवशं को भी उसमें रखा जाए।
जिलाधिकारी ने कहा कि प्रशासन द्वारा गौवंश के पालन पोषण के लिए धन की कमी नहीं आने दी जाएगी। ग्राम पंचायतें एवं समाजसेवी संस्थाएं भी गौवंश की रक्षा हेतु अपना सहयोग प्रदान करें। उन्होंने नगर निगम को निर्देश दिये कि शासन द्वारा उन्हें 1 करोड़ रूपया भेजा जा चुका है वह उसमें से अधिकांश धन का प्रयोग भूसा भण्डारण में कर लें। उन्होंने नगर निगम द्वारा बनाये गये काजी हाउस एवं गौशालाओं में निराश्रित गौवंश को यथाशीघ्र उनमें पहुॅचाने की व्यवस्था की जाए तथा उनके पानी एवं भूसे की व्यवस्था भी उचित प्रकार से की जाए। 6 माह से कम उम्र के नर गौवंश को बधियाकरण करने एवं प्रत्येक गौशाला में रजिस्टर बनाकर उसमें प्रत्येक गौवंश को एक नम्बर देकर उसकी सम्पूर्ण स्थिति की जानकारी रखने के निर्देश दिये। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी अनुनय झा ने निर्देश दिये कि जहां ग्राम पंचायतों पर धनराशि की कमी हो वहां क्षेत्र पंचायत के धन से गौशालाओं का निर्माण कराया जाए। उन्होंने कहा कि ग्रामों में आवारा पशु मिले तो ग्राम प्रधान एवं ग्राम पंचायत सचिव के विरूद्ध कार्यवाही की जाए। इस अवसर पर एडीएम प्रशासन कृष्णलाल तिवारी, सभी उप जिलाधिकारी, पशु चिकित्सा, नगर निगम आदि से सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे।

...हमारी खबरों को अपने फेसबुक पेज, ट्यूटर & WhatsAap Gruop के जरिये दोस्तों को शेयर जरूर करें

Aligarh Media Group

www.aligarhmedia.com (उत्तर प्रदेश के अलीगढ जनपद का नंबर-१ हिंदी न्यूज़ पोर्टल) अपने इलाके की खबरे हमें व्हाट्सअप करे: +91-9219129243 E-mail: aligarhnews@gmail.com