सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को दिये जाएंगे 7-7 लाख रूपये: सिद्धार्थ नाथ

अलीगढ़ मीडिया न्यूज़, अलीगढ़। प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री श्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने बुधवार को कमिश्नरी सभागार में संचारी रोग नियंत्रण कार्यक्रम तथा चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण की मण्डलीय समीक्षा में हाथरस के सहपऊ सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के चिकित्सा अधीक्षक डा0 प्रकाश मोहन को चिकित्सालय में डस्टबिन का प्रयोग न करने एवं लोगों को किसी प्रकार की जांच की सुविधा उपलब्ध न कराने एवं एटा के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र निंधौली के गेट पर झाड़ियां पाए जाने, पार्किंग, पेयजल की व्यवस्था ठीक न होने, डेन्टल एवं ईसीजी रूम के कूलर में एडीज के लार्वा पाए जाने, ब्लॉक स्तर पर लोगों को फॉगिंग की जानकारी न होने, कार्यालय से अनुपस्थित रहने आदि कारणों से वहां चिकित्सा अधीक्षक डा0 राहुल यादव को निलम्बित करने के निर्देश दिये। उन्होंने सीएमओ एटा को चेतावनी देते हुए कहा कि सभी पीएचसी एवं सीएचसी का स्थलीय भ्रमण कर जांच रिपोर्ट से अवगत कराएं। श्री सिंह ने जिला मलेरिया अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि संचारी रोग नियंत्रण अभियान के तहत, जिसका आगामी चक्र माह सितम्बर में शुरू होने जा रहा है में आम लोगों के साथ जनप्रतिनिधियों को जानकारी देते हुए कार्यक्रमों में शामिल किया जाए। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि जनप्रतिनिधियों के घरों एवं छतों पर भी कूलर व इकट्ठे पानी की चैकिंग की जाए, इससे आम जन पर अच्छा प्रभाव पडे़गा और लोग जागरूक होंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में बच्चों की मृत्यु दर में कमी आई है, इसी प्रकार भविष्य में कार्य किये जाएं तो इसके अच्छे परिणाम आएंगे और हमारा प्रदेश राष्ट्रीय स्तर सम्मानित भी होगा। उन्होंने सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि संचारी रोग नियंत्रण हेतु अगले चक्र के लिए अपनी कार्ययोजना 27 अगस्त तक तैयार कर मण्डलायुक्त को प्रस्तुत कर दें। उन्होंने कहा कि यह डायरिया का सीजन है इससे बचाव के लिए लोगों को उबला पानी पीने, वासी खाना न खाने, शौच के बाद एवं खाने से पहले हाथ धोने आदि की जानकारी उपलब्ध कराई जाए। उन्होंने कहा कि सभी हैण्डपम्पों के प्लेटफार्म अनिवार्य रूप से बनाए जाएं, अधिकारियों को लगाकर इसका सत्यापन कराते हुए जहां फाउण्डेशन नहीं बने हैं उन्हें शीघ्र बनवाया जाए। उन्होंने कहा कि मण्डल में 415 बच्चे अति कुपोषण के शिकार है जिनमें 269 बच्चों को एनआरसी केन्द्र में स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराई गयी है शेष बच्चों को भी स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराई जाए।
स्वास्थ्य मंत्री ने समीक्षा में पाया कि सादाबाद सीएचसी में 16 बेड क्रियाशील हैं और महिला वार्ड में केवल 02 बेड ही हैं जिसके कारण महिला एवं पुरूषों को एक ही वार्ड में रखा जा रहा है, इसी प्रकार सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सासनी में मात्र दो चिकित्सक होने, मलखान सिंह चिकित्सालय में जनरेटर की व्यवस्था न होने, गेट पर बने जर्जर कक्ष को ध्वस्त करने, जलभराव तथा एक बेड पर दो बच्चों को रखने, जिला चिकित्सालय एटा में बायोमेडीकल की सफाई एवं वाटर कूलर में गंदगी पाए जाने, सीएमओ ऑफिस के सामने हैण्डपम्प खराब होने पर सभी चिकित्सा अधीक्षकों को निर्देश देते हुए कहा कि इन कमियों का निराकरण करते हुए एक सप्ताह में रिपोर्ट प्रस्तुत करें। जिला चिकित्सालय कासगंज, अलीगढ़ एवं पं0 दीनदयाल उपाध्याय संयुक्त चिकित्सालय में साफ-सफाई, मरीजों को पेयजल व अन्य बेहतर सुविधाओं की प्रशंसा करते हुए कहा कि सभी सीएमएस एवं सीएमओ अपने कार्यों में सुधार लाएं, कार्यशील बनें और लोगों को सरकार की मंशा के अनुरूप बेहतर चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराएं। उन्होंने कहा कि अभियान में अच्छे कार्य करने वालों की प्रशंसा व पुरस्कृत तथा लापरवाह अधिकारियों को दण्डित किया जाए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पहली बार हैल्थ पॉलिसी एवं हैल्थ विजन बनाया जा रहा है जो अन्य प्रदेशों में नहीं है। सम्बन्धित विभाग अपने उत्तरदायित्वों को समझें और सेवाभाव से कार्य करते हुए प्रदेश का नाम रोशन करें।

मण्डलायुक्त अजय दीप सिंह ने संचारी रोग नियंत्रण अभियान तथा चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की जानकारी देते हुए स्वास्थ्य मंत्री को अवगत कराया कि मण्डल में 729 स्वीकृत पद के सापेक्ष 312 चिकित्सक कार्यरत हैं जिसमें से कुछ अनुपस्थित रहते हैं उनके विरूद्ध कार्यवाही किये जाने के साथ ही रिक्त पदों पर चिकित्सकों की तैनाती किया जाना आवश्यक है। उन्होंने बताया कि चिकित्सालयों में ओपीडी की संख्या संतोषजनक है, दवाओं की उपलब्धता बेहतर है, एम्बुलेंस सपोर्ट सिस्टम के साथ क्रियाशील हैं। इस वर्ष डेंगू का कोई केस नहीं पाया गया है। जिलाधिकारी एवं मेरे द्वारा संचारी रोग नियंत्रण अभियान की समीक्षा की गयी है। उन्होंने बताया कि आयुष्मान भारत के तहत 6500 से अधिक परिवारों का चयन किया गया है, उनके इलाज के लिए 36 अस्पताल पंजीकृत हैं। सीटी स्कैन की सुविधा तीन जनपदों एवं डायलिसिस की सुविधा अलीगढ़ एवं एटा में उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए चिकित्सालयों का आकस्मिक निरीक्षण भी जिला प्रशासन द्वारा किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि एटा में विद्यालयों में संचारी अभियान की रैलियों का आयोजन कम किया गया है। उन्होंने एडी बेसिक एवं डीपीआरओ को निर्देश देते हुए कहा कि अगले चक्र में इस कमी को पूरा कर लिया जाए। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में नालियों की सफाई की प्रगति कम है जिलाधिकारी अपने स्तर पर बैठक कर अभियान के रूप में स्वच्छता कार्य कराएं।

संचारी रोग अभियान के अपर निदेशक द्वारा प्रजेन्टेशन के माध्यम से यह अवगत कराया गया कि 14646 विद्यालयों में रैली का आयोजन कर छात्रों एवं आम लोगों को संचारी रोग के प्रति जागरूक किया गया। पर्यावरणीय स्वच्छता पर ग्राम प्रधानों द्वारा अच्छा सहयोग प्रदान किया गया है। इस अवसर पर शिक्षा राज्यमंत्री श्री संदीप सिंह, श्रम बोर्ड के अध्यक्ष/दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री ठा0 रघुराज सिंह, एटा सांसद श्री राजवीर सिंह, शहर विधायक श्री संजीव राजा, छर्रा विधायक ठा0 रवेन्द्र पाल सिंह, जिलाध्यक्ष ठा0 गोपाल सिंह के साथ महानिदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य श्री पद्माकर सिंह, महानिदेशक परिवार कल्या डा0 बद्री प्रसाद, सभी मुख्य चिकित्साधिकारी, चिकित्सा अधीक्षक, उप निदेशक पंचायती राज, दिव्यांग सशक्तीकरण, संयुक्त कृषि निदेशक, अपर निदेशक पशुपालन, संयुक्त निदेशक शिक्षा एवं सहायक निदेशक बेसिक शिक्षा आदि उपस्थित थे।

http://www.aligarhmedia.com/raksha-bandhan-2019/

...हमारी खबरों को अपने फेसबुक, ट्यूटर के जरिये दोस्तों को शेयर जरूर करें

Aligarh Media Group

www.aligarhmedia.com (उत्तर प्रदेश के अलीगढ जनपद का नंबर-१ हिंदी न्यूज़ पोर्टल) अपने इलाके की खबरे हमें व्हाट्सअप करे: +91-9219129243 E-mail: aligarhnews@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *