आजादी मिलने के 70 वर्षो बाद भी बंजारा समाज विकास के मामले में पिछड़ा हुआ है: ओमप्रकाश नायक

अलीगढ़ मीडिया ब्यूरो, अलीगढ़ । अखिल भारतीय बंजारा महासभा ने बंजारा समाज के उत्थान के लिये उत्तर प्रदेश में बंजारा समाज को अनुसूचित जनजाति का दर्जा दिये जाने की मांग की है। आज स्थानीय कलेक्ट्रेट सभागार में राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के सदस्य ओमप्रकाश नायक ने पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुये बंजारा समाज के पिछड़ेपन का जिक्र करते हुये कहा कि राजनैतिक दलों की उपेक्षा व शासन प्रशासन की उदासीनता के चलते आजादी मिलने के 70 वर्षो बाद भी बंजारा समाज विकास के मामले में पिछड़ा हुआ है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने अवश्य बंजारा समाज के उत्थान के लिये कार्य किया है और हमारी सरकार से मांग है कि उत्तर प्रदेश में बंजारा समाज को अनुसूचित जनजाति में शामिल कर सामाजिक व शैक्षिक उत्थान किया जाये।

ओमप्रकाश नायक ने बताया कि आज यहां अ.भा.बंजारा महासभा के प्रदेश पदाधिकारियों व कार्यकारिणी सदस्यांे की मीटिंग हुई, जिसमें उत्तर प्रदेश में बंजारा समाज को अनुसूचित जनजाति मंे शामिल किये जाने के लिये भारत सरकार के निर्देश पर शोध सर्वें को कल (आज) 8 अक्टूबर को प्रदेश के समस्त जिलों में अधिकारियों की 2-2 टीमें आ रही है उन टीमों को बंजारा समाज की बस्तियों में ले जाकर बंजारा समाज के सामाजिक, आर्थिक शैक्षिक व राजनैतिक पिछड़ी स्थिति से अवगत कराते हुये सर्वें में सहयोग करने के लिये अ.भा.बंजारा महासभा के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं को निर्देश दिये गये।
ओमप्रकाश नायक ने कहा कि 1947 में देश को तो आजादी मिली लेकिन तब भी बंजारा समाज को आजादी नहीं मिली थी। अंग्रेजों के खिलाफ गुरिल्ला युद्ध लड़ते रहने के कारण बंजारा समात पर क्रिमिनल एक्ट लगा हुआ था,1952 में तत्कालीन प्रधानमंत्री पं.जवाहर लाल नेहरू द्वारा बंजारा समाज से क्रिमिनल एक्ट हटाये जाने पर ही बंजारा समाज को वास्तव में आजादी मिली थी। उसके बाद से राजनैतिक दलों द्वारा लगातार बंजारा समाज की उपेक्षा की जाती रही है,एमपी,एमएलए,एमएलसी किसी भी राजनैतिक पद के लिये बंजारा समाज को प्रतिनिधित्व नहीं दिया गया। राजनैतिक दलों, शासन व प्रशासन ने कभी भी बंजारा समाज के उत्थान के लिये काम नहीं किया। लेकिन तब से भाजपा सरकार आयी है इस दिशा में उल्लेखनीय प्रगति हुई है।
ओमप्रकाश नायक की मांग थी कि बंजारा समाज के गांवों को डेरा,मजरा समाप्त कर राजस्व ग्राम घोषित कर उनको पहचान दिया जाये। उत्तर प्रदेश में अभी भी बंजारा समाज अति पिछड़े वर्ग में शामिल है,जबकि अन्य राज्यों में बंजारा समाज अनुसूचित जाति में शामिल है। हमारी मांग है कि बंजारा समाज की अलग भाषा व अलग सांस्कृतिक पहचान होने की वजह से अनुसूचित जनजाति में शामिल किया जाये।
हमने आज अलीगढ़ में आयोजित बैठक में बंजारा महासभा के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं को निर्देशित किया है कि वो केन्द्र सरकार द्वारा बंजारा बस्तियों में कराये जा रहे शोध सर्वें में सहयोग कर बंजारा समाज को अनुसूचित जनजाति में शामिल किये जाने की दिशा में सहयोग करें।
एक सवाल के जबाब में ओमप्रकाश नायक ने कहा कि भाजपा ने कभी भी दलितों के साथ किसी भी तरह का भेदभाव नहीं किया है। भाजपा एससी/एसटी एक्ट का दुरूपयोग नहीं होने देगी। भाजपा एससी/एसटी एक्ट की वजह से किसी का उत्पीड़न नहीं होने देगी ना ही सवर्ण समाज का और ना ही दलित समाज का। उनका कहना था कि भाजपा सर्वसमाज के लिये काम कर रही है। भाजपा अपने नारे सबका साथ सबका विकास के अनुरूप काम कर रही है।
एक सवाल के जबाब में उन्होंने कहा कि अलीगढ़ जनपद में बंजारा समाज 76 गांव है,अलीगढ़ लोकसभा सीट पर बंजारा समाज के पचास हजार से अधिक मतदाता है। उ.प्र.में बंजारा समाज की 65 लाख से अधिक आबादी है। उन्होंने कहा कि बंजारा समाज के लोगों ने देश की आजादी के लिये अंग्रेजों के साथ गुरिल्ला युद्ध किया इसकी वजह से उन पर क्रिमिनल एक्ट लगा था।
इस मौके पर उ.प्र.बंजारा महासभा के प्रदेश उपाध्यक्ष ताराचन्द्र नायक, प्र्रदेश उपाध्यक्ष महेन्द्र सिंह नायक प्रदेश महासचिव राजेन्द्र सिंह प्रदेश सचिव राकेश सिंह नायक प्रदेश मंत्री मनवीर सिंह मीडिया प्रभारी गजेन्द्र सिंह, पिंटू नायक विवेक नायक और जिलाध्यक्ष ओमप्रकाश आदि उपस्थित थे।

...हमारी खबरों को अपने फेसबुक, ट्यूटर के जरिये दोस्तों को शेयर जरूर करें

Aligarh Media Group

www.aligarhmedia.com (उत्तर प्रदेश के अलीगढ जनपद का नंबर-१ हिंदी न्यूज़ पोर्टल) अपने इलाके की खबरे हमें व्हाट्सअप करे: +91-9219129243

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *