बेहतर स्वास्थ्य और समग्र कल्याण के लिए 50 बालिकाओं ने कीं 10 साहसिक सिफारिशें

अलीगढ मीडिया डाट कॉम, बिहार: झारखंड में सामूहिक प्रयास के लिए ‘अब मेरी बारी’ की लगभग 50 बालिकाओं ने सरकारी प्रतिनिधियों, अग्रिम पंक्ति के स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं, सामुदायिक नेताओं, गैर-सरकारी संगठनों और अन्य किशोरों को दस साहसिक सिफारिशों का एक चार्टर दिया। बालिका समर्थकों ने महत्वपूर्ण कमियों को सामने रखा और किशोर उम्र में गर्भधारण, बीच में बाधित शिक्षा, शीघ्र विवाह और घरेलू हिंसा और यौन शोषण के मामले में गंभीर जोखिम की रोकथाम के उद्देश्यी से यौन एवं प्रजनन स्वास्थ्य अधिकार (एसआरएचआर), शिक्षा, सुरक्षा और पोषण तक बेहतर पहुंच की मांग की।
बालिका समर्थकों द्वारा तैयार की गई 10 सिफारिशों का चार्टर निम्नालिखित है:
1. प्रत्येक ब्लॉक में हमारे लिए किशोर हितैषी हेल्था क्लीनिक उपलब्ध कराएं, जहां दी जा रही सेवाओं के बारे में स्पष्ट जानकारी भी हो।
2. किशोर हितैषी हेल्थल क्लीनिक में उपलब्ध गर्भनिरोधक विधियों, परामर्श सेवाओं और अन्य दवाओं को समझने मंम हमारी मदद करें।
3. सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों के माध्य म से आरटीआई, एसटीआई, एड्स जैसे गैर-संचारी और संचारी रोगों के बारे में हमें जानकारी दें।
4. हमारे स्कूलों में नामांकित छात्रों की संख्या के लिए शिक्षकों की संख्या बढ़ाने की आवश्यकता है।
5. सरकारी स्कूलों में कम से कम 8वीं कक्षा तक एक्स्ट्रा करिकुलर गतिविधियों के साथ, समय पर अध्ययन सामग्री वितरित करें।
6. सरकारी स्कूलों में लड़कों और लड़कियों के लिए स्वच्छ और सुरक्षित प्रसाधन सुविधाएं मिलनी चाहिए।
7. सुनिश्चित करें कि हमारे आंगनवाड़ी केंद्रों में हमेशा सैनिटरी पैड उपलब्ध हों।
8. बाल विवाह को रोकने के लिए, सभी संस्थानों में, हमारे साथ खुली बातचीत करें।
9. हमारी सुरक्षा के लिए पोक्सोड और जेजे एक्टे के बारे में हमें जानकारी दें।
10. ग्राम स्तरीय बाल संरक्षण समिति (वीएलसीपीसी) को बनाने में हमें कोई भूमिका दें।
बालिका समर्थकों की सिफारिशें निर्णायक समय पर आयी हैं, क्योंकि सरकार के प्रतिनिधि झारखंड में किशोर गर्भधारण और बाल विवाह की उच्च दर को चिंता का विषय मान रहे हैं। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस) के आंकड़ों से पता चलता है कि झारखंड में 17.8% किशोर लड़कियों की शादी कानूनी उम्र से पहले हो जाती है, जो राष्ट्रीय औसत 11.9% से अधिक है। 18 वर्ष से पहले शादी करने वाली युवा माताओं और लड़कियों को हिंसा, अभाव, कुपोषण और प्रसव संबंधी मृत्यु का उच्च जोखिम है। युवा माताओं से पैदा हुए बच्चों में भी जीवित रहने की संभावना कम होती है। सेंटर फॉर कैटेलाइजिंग चेंज के स्टेट हेड संजय पॉल ने कहा कि “ ‘अब मेरी बारी’ अभियान के अंतर्गत सोशल ऑडिट, पत्र लेखन और सामुदायिक बैठकों के माध्यम से, झारखंड के कई किशोरों के पास अपनी सिफारिशों और दैनिक चुनौतियों को प्रभावी ढंग से सुनाने के लिए एक मंच है। किशोरों को समग्र विकास के अवसर प्रदान करने के लिए जिला, समुदाय और स्कूल के स्तर पर मौजूद गतिरोध को तोड़ना हमारे लिए महत्वपूर्ण है।”
गुमला की गर्ल चैंपियन प्रियंका कुमारी सिंह ने कहा, “अब मेरी बरी अभियान के माध्यम से हमने किशोरों के किशोर स्वास्थ्य केंद्र (एएफएचसी) और युवा मैत्री केंद्र (वाईएमके) के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त की। मेरे किशोर किशोरी समुँह को यह जानकर खुशी हुई कि हम प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल केंद्रों में एक विशेष सुविधा है जहा हम अपने समस्याओ के बारे में खुलकर चर्चा कर सकते हैं और समाधानों का उपयोग कर सकते है। सरकार से मेरा विनम्र अनुरोध है कि सामुदायिक स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं वह को सप्ताह के छह दिनों के लिए उपलब्ध कराया जाए जो अब २ दिन उपलब्ध है। उन्हें किशोरों को मार्गदर्शन देने के लिए उचित प्रशिक्षण और जानकारी दी जानी चाहिए। ”
जिला परिषद् अध्यक्ष किरण माला बेडा ने कहा,” मेरी बारी अभियान के वजह से में गर्ल चैंपियंस में बहुत उत्साह देख रही हूँ| हमें बाल विवाह की प्रथा को समाप्त करने के लिए इस तरह के आंदोलनों को शुरू करना चाहिए। मुझे विश्वास है कि आप इन आंदोलनों के माध्यम से बाल विवाह को रोकेंगे। बाल विवाह के साथ, हमारे पास है बाल तस्करी को भी रोकें। मैं गर्ल चैंपियंस से आग्रह करती हूं कि वे अपने समुदायों में बदलाव के एजेंट बने रहें और स्वतंत्र बनें।”
ब्योमकेश लाल, सीनियर प्रोग्राम अफसर, सी ३ संस्था ने कहा, “झारखंड में आंदोलनों का नेतृत्व करने वाली महिलाओं की एक परंपरा है। गर्ल चैंपियन सरकार को लिए अपनी मांगों व्यक्त करने वाली महिला नेतृत्व का महान उदाहरण हैं।” बालिका समर्थकों ने चार्टर को एक बस यात्रा के हिस्से के रूप में प्रस्तुत किया, जो झारखंड, उत्तर प्रदेश और राजस्थान में सात जिलों में जा रही है। इस बस यात्रा की मेजबानी ‘अब मेरी बारी’ अभियान कर रहा है, जो मार्च 2019 में शुरू हुआ है, जिसका उद्देश्यल देशव्यापी स्तर पर किशोरों की प्राथमिकताओं के बारे में जागरूकता पैदा करना है।
बस यात्रा का पहला पड़ाव गुमला है, जहां बालिका समर्थकों ने स्थानीय सरकार के प्रतिनिधि और 100 से अधिक सामुदायिक नेताओं, किशोरों और गैर-सरकारी संगठनों के साथ बातचीत की। यहां से बस उत्तर प्रदेश के लिए रवाना होने से पहले झारखंड के अंतिम पड़ाव, सिमडेगा और फिर रांची जाएगी।
चार्टर में दी गईं सिफारिशें झारखंड के सिमडेगा, सरायकेला, दुमका, गुमला, देवघर और लोहरदगा जिले के 63 गांवों में की गई किशोर केंद्रित योजनाओं और सेवाओं के सोशल ऑडिट और रिसोर्स मैपिंग पर आधारित हैं, जिसमें राष्ट्री य किशोर स्वािस्य्ंद कार्यक्रम (आरकेएसके), माहवारी स्वच्छता योजना (एमएचएस) और सर्व शिक्षा अभियान (एसएसए) जैसी योजनाएं शामिल हैं। वर्ष 2019 के अगस्त और सितंबर में कुल 63 सोशल ऑडिट एकत्र किए गए और उनका मिलान किया गया। लड़कियों द्वारा प्रस्तुत किए गए डेटा और सिफारिशें एक छोटे सैम्पंल साइज पर आधारित हैं और यह बालिका समर्थकों और सामुदायिक हितधारकों की धारणाओं पर केन्द्रित हैं।
…‘अब मेरी बारी’ के बारे में
‘अब मेरी बारी’ अभियान मार्च 2019 में शुरू किया गया था। यह अभियान किशोरों को उनके यौन और प्रजनन स्वास्थ्य, सुरक्षा, शिक्षा, पोषण जैसे कारकों के मुद्दों को सामने लाने और बातचीत चलाने का प्रयास है जो उनके समग्र विकास और सेहत में योगदान करते हैं। किशोरों की प्राथमिकताओं के बारे में जागरूकता पैदा करने के उद्देश्य से ‘अब मेरी बारी’ अभियान को एक राष्ट्रव्यापी अभियान बनाने के लिए तैयार किया गया है। अभियान के पहले चरण में, गतिविधियों को झारखंड और राजस्थान में केंद्रित किया गया। अभियान की गतिविधियों को 60 से अधिक बालिका समर्थकों और गैर-सरकारी संगठनों द्वारा क्रियान्वित किया जा रहा है जिसमें क्वेस्ट एलायंस, सेंटर फॉर कैटेलाइजिंग चेंज, चाइल्ड इन नीड इंस्टीट्यूट, मैजिक बस, अरावली, दासरा पूरे झारखंड और राजस्थान में शामिल हैं। इन लड़कियों को उनके संबंधित गांवों में सरकारी सेवाओं का आकलन करने, अपने साथियों, समुदायों और सेवा प्रदाताओं के साथ जुड़ने, सोशल ऑडिट करने, सिफारिशें तैयार करने और अपने स्थानीय प्रशासन के साथ काम करने के लिए प्रशिक्षित किया गया है।अगले चरण में, 60 से अधिक बालिका समर्थक 300 बालिका समर्थकों को एक समान स्किनल सेट पर प्रशिक्षित करेंगे। ये 300 बालिका समर्थक किशोर-केंद्रित सरकारी योजनाओं और कार्यक्रमों की बेहतर डिलीवरी के लिए आकलन करना, विश्लेषण करना, साझा करना और सहयोग करना जारी रखेंगे।

आरटीओ दफ्तर में कुर्सी की लड़ाई, राजकुमार गौतम ने दबंगई दिखाई

...हमारी खबरों को अपने फेसबुक पेज, ट्यूटर & WhatsAap Gruop के जरिये दोस्तों को शेयर जरूर करें

Aligarh Media Group

www.aligarhmedia.com (उत्तर प्रदेश के अलीगढ जनपद का नंबर-१ हिंदी न्यूज़ पोर्टल) अपने इलाके की खबरे हमें व्हाट्सअप करे: +91-9219129243 E-mail: aligarhnews@gmail.com

You May Also Like