वस्तुओं की सप्लाई में कैमिस्टों की बड़ी भूमिका होती है: प्रो0 सहरूल

अलीगढ मीडिया डॉट कॉम,अलीगढ: अलीगढ़: अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के रसायन विज्ञान विभाग द्वारा रसायनिक विज्ञान के उभरते हुए रूझानों पर दो दिवसीय राष्ट्रीय कांफ्रेंस का आज शनिवार से प्रारंभ हो गई।उद्घाटन समारोह को सम्बोधित करते हुए अमुवि के सहकुलपति प्रोफेसर अख्तर हसीब ने कहा कि रसायन विज्ञान विभाग अमुवि के प्राचीन विभागों में से एक है जिसने महान शिक्षक एवं विद्वान पैदा किये हैं तथा उन्होंने इस संस्था एवं देश का नाम गोरवान्वित किया है। प्रो. हसीब ने कहा कि शोध एवं शिक्षण के उच्च स्तर ने रसायन विज्ञान विभाग को सर्वश्रेष्ठ स्थान प्रदान किया है। उन्होंने कहा कि रसायन एक सैद्धांतिक विज्ञान है जो जीवन तथा भूमण्डल के विभिन्न पहलुओं पर प्रभावशाली है तथा यदि अपने चहुंओर देखें तो प्रत्येक वस्तु रसायन है।

रसायन विज्ञान के रूझानों पर अपने विचार व्यक्त करते हुए मुख्य अतिथि मिस्र के मंसूरी विश्वविद्यालय के रसायन विज्ञान विभाग के प्रोफेसर सहरूल मुस्तफा ने कहा कि औषधियों, खाद्य एवं अन्य रसायनिक वस्तुओं की सप्लाई में कैमिस्टों की बड़ी भूमिका होती है। उन्होंने कहा कि उनकी एक जिम्मेदारी यह भी होती है कि पर्यावरण के लिये हानिकारक रसायनिक पदार्थों को उत्पन्न होने से रोकें। प्रोफेसर सहर ने खाद्य पदार्थों के विभिन्न तत्वों की रसायनिक प्रक्रिया पर भी चर्चा करते हुए बताया कि किस प्रकार फिजिकल कैमिस्ट, प्लास्टिक, सेरीमिक्स, ईंधन की पैदावार, बैटरी आदि की तैयारी में अपनी भूमिका निभाते हैं।
विज्ञान संकाय के अधिष्ठाता प्रोफेसर काजी मज़हर अली ने कहा कि रसायन विज्ञान विभाग की स्थापना 1911 में हुई थी जहां से उत्तीर्ण हजारों छात्र व छात्राओं ने सरकारी, प्राइवेट तथा अन्तर्राष्ट्रीय संस्थाओं में उल्लेखनीय सेवायें अंजाम दी हैं।
आईआईटी खड़गपुर के प्रोफेसर तारा शंकर पाल ने मानद् अतिथि के रूप में अपने सम्बोधन में कहा कि अमुवि के रसायनिक विज्ञान विभाग ने कैमिस्ट्री, बायोकैमिस्ट्री तथा अन्य सम्बन्धित विषयों में अपने उच्च स्तरीय शोध से देश की प्रख्यात संस्थाओं को प्रभावित किया है। प्रो. तारा शंकर ने उद्घाटन समारोह के पश्चात एक सत्र में विशेष व्याख्यान भी प्रस्तुत किया।

अन्य मानद् अतिथि आलिया विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर मोहम्मद अली ने मालीक्यूलर प्रोब्स के डिजाइन तथा सिंथेसिस के विषय पर सम्बोधन किया। समन्वयक, डीआरएस द्वितीय प्रोफेसर मोहम्मद शाकिर ने इस अवसर पर बताया कि डीआरएस द्वितीय (एसएपी) के अन्तर्गत सीरीज़ की पांचवी कांफ्रेंस है।
इससे पूर्व रसायन विज्ञान विभाग के अध्यक्ष प्रो. सरताज तबस्सुम ने स्वागत भाषण प्रस्तुत किया। आयोजन सचिव प्रोफेसर फर्रूख अंर्जुमंद ने कार्यक्रम का संचालन किया। डा. एम शाहिद नईम ने उपस्थितजनों के प्रति आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर शोध पत्रों पर आधारित एक पुस्तक का भी विमोचन किया गया।

...हमारी खबरों को अपने फेसबुक पेज, ट्यूटर & WhatsAap Gruop के जरिये दोस्तों को शेयर जरूर करें

Aligarh Media Group

www.aligarhmedia.com (उत्तर प्रदेश के अलीगढ जनपद का नंबर-१ हिंदी न्यूज़ पोर्टल) अपने इलाके की खबरे हमें व्हाट्सअप करे: +91-9219129243 E-mail: aligarhnews@gmail.com