कैथलेब की स्थापना में सक्रिय भूमिका निभाने वाले डा. अशोक सेठ कार्यप्रणाली से बेहद खुश

अलीगढ मीडिया डाट कॉम, अलीगढ़। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र एवं प्रमुख हृदय रोग विशेषज्ञ फोर्टिस एस्कोर्ट हार्ट इंस्टीटयूट के चैयरमैन पदमभूषण डा. अशोक सेठ ने आज अपने ससुर जेएन मेडीकल कालिज के नेत्र चिकित्सा संस्थान के संस्थापक निदेशक, जेएन मेडीकल कालिज प्राचार्य एवं एएमयू के कार्यवाहक कुलपति प्रो. बीआर शुक्ला की स्मृति में एएमयू के जवाहर लाल नेहरू मेडीकल कालिज के 45 वर्ष से कम आयु के क्लीनिकल चिकित्सक के लिये किसी भी अन्तर्राष्ट्रीय संस्थान में उच्च स्तरीय प्रशिक्षण हासिल करने के लिये अन्तर्राष्ट्रीय फैलोशिप दिये जाने की घोषणा की। उन्होंने यह ऐलान जेएन मेडीकल कालिज के हृदय रोग केन्द्र द्वारा आयोजित सीएमई के उद्घाटन सत्र को सम्बोधित करते हुए किया।
डा. सेठ ने कहा कि वह जब भी अपने परिजनों से चर्चा करते हैं तो हमेशा एएमयू में अपने छात्र जीवन की यादों में खो जाते हैं। उन्होंने बताया कि एएमयू ने उन्हें उच्च शिक्षा के अलावा और भी बहुत कुछ दिया है और वह अपनी इस मात्र संस्था की सेवा करना चाहते हैं जहां उन्होंने बहुत कुछ सीखा है। उन्होंने कहा कि ऐसी ही एक चर्चा के दौरान उन्होंने जेएन मेडीकल कालिज में यह फैलोशिप आरंभ करने का निर्णय लिया जिसका उद्देश्य पश्चिमी देशों के प्रख्यात चिकित्सा संस्थानों में जाकर चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में हो रहे आधुनिक शोध कार्यों के बारे में जानकारी तथा प्रशिक्षण हासिल कर स्वास्थय के मैदान में उच्च स्तरीय चिकित्सकों को तैयार कर सकें। डा. सेठ ने कहा कि यह फैलोशिप एक माह के लिये होगी जिसमें यात्रा समेत तमाम खर्चे इसमें शामिल होंगे।
जवाहर लाल नेहरू मेडीकल कालिज में कैथलेब की स्थापना में सक्रिय भूमिका निभाने वाले डा. अशोक सेठ ने कहा कि वह कैथलेब की कार्यप्रणाली से बेहद खुश हैं और अपनी स्थापना के तीन वर्षों में इस लैब ने सफलतापूर्वक आपरेशन अंजाम देकर जेएन मेडीकल कालिज को देश के अग्रणी चिकित्सा संस्थानों की सूचि में शामिल करा दिया है। एएमयू कुलपति प्रो. तारिक मंसूर ने कहा कि डा. सेठ की उपलब्धियों पर पूरे संपूर्ण समुदाय को गर्व है। उन्होंने कहा कि डा. सेठ हृदय रोग में हो रहे नित नई प्रगति से सदैव न केवल परिचित रहते हैं बल्कि निरंतर रूप से सीखते भी रहते हैं। यही कारण है कि वह देश के सबसे प्रमुख हृदय रोग विशेषज्ञ हैं। उन्होंने कहा कि डा. सेठ का एएमयू से हमेशा ही भावनात्मक लगाव रहा है और उन्होंने 30 लाख रूपये की लागत से जेएन मेडीकल कालिज में दो स्मार्ट क्लास रूम का निर्माण भी कराया है। कुलपति ने कहा कि जेएन मेडीकल कालिज के हृदय रोग केन्द्र में शीघ्र ही डीएम कार्डियोलोजी का कोर्स प्रारंभ हो जायेगा जिसमें डा. सेठ का सहयोग भी अपेक्षित है। कुलपति ने कहा कि जेएन मेडीकल कालिज में उत्कृष्ट बुनियादी सुविधाऐं और संसाधन मौजूद हैं और डीएम कार्डियोलोजी पाठ्यक्रम चलाने के लिये शिक्षकों की वांछित तादाद भी उपलब्ध है। कुलपति ने आशा जताई कि यह सीएमई चिकित्सा विज्ञान में हो रहे आधुनिक शोध कार्यों से परिचित कराने के लिये लाभप्रद सिद्व होगी। मानद् अतिथि सहकुलपति प्रो. अख्तर हसीब ने उम्मीद जताई कि सीएमई चिकित्सकों के व्यवसायिक विकास के लिये एक नया मार्ग प्रशस्त करेगी। मेडीसिन फैकल्टी के डीन प्रो. एससी शर्मा ने सीएमई के महत्व पर प्रकाश डाला। सीएमई के आयोजन सचिव प्रो. आसिफ हसन ने कैथलेब और सेंटर आफ कार्डियोलोजी में हो रहे कार्यों पर संतोष जताया। आयोजन समिति के अध्यक्ष प्रो. एमयू रब्बानी ने कहा कि कैथलेब ने इसकी स्थापना से ही सफल आपरेशन अंजाम दिये गये हैं और यहां आने वाले रोगियों की तादाद में दिन प्रतिदिन इजाफा हो रहा है।
कार्डियोलोजी सेंटर के संस्थापक निदेशक प्रो. मोहम्मद अहमद को भी इस अवसर पर उनकी सेवाओं पर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का संचालन कम्यूनिटी मेडीसिन विभाग के डा. सलमान शाह ने किया। सीएमई में एम्स के प्रो. राकेश यादव, मेक्स के डा. विवेका कुमार सहित सफदरजंग हास्पिटल तथा आरएमएल लखनऊ के हृदय रोग विशेषज्ञ भी भाग ले रहे हैं।

...हमारी खबरों को अपने फेसबुक, ट्यूटर के जरिये दोस्तों को शेयर जरूर करें

Aligarh Media Group

www.aligarhmedia.com (उत्तर प्रदेश के अलीगढ जनपद का नंबर-१ हिंदी न्यूज़ पोर्टल) अपने इलाके की खबरे हमें व्हाट्सअप करे: +91-9219129243 E-mail: aligarhnews@gmail.com