…इस बार दो दिनों की है श्रीकृष्ण जन्माष्टमी, जानिये आप कब मनाये कृष्ण जन्मोत्सव

अलीगढ़ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ: भाद्रपद मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि के दिन रोहिणी नक्षत्र में भगवान विष्णु के आठवें अवतार कृष्ण का जन्म हुआ था। भगवान कृष्ण का जन्म अष्टमी तिथि को रोहिणी नक्षत्र में हुआ था लेकिन कई बार ऐसी स्थिति बन जाती है कि अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र दोनों एक ही दिन नहीं होते। इस बार भी कृष्ण जन्म की तिथि और नक्षत्र एक साथ नहीं मिल रहे हैं, जिसको लेकर भक्तों के अंदर असमंजस की स्थिति बनी हुई है। इस साल कृष्ण जन्माष्टमी 11 और 12 अगस्त दो दिन दिन देखने को मिल रही है। इस असमंजस्य की स्थिति को वैदिक ज्योतिष संस्थान के अध्यक्ष महामंडलेश्वर स्वामी श्री पूर्णानंदपुरी जी महाराज ने दूर करते हुए विस्तार से श्री कृष्ण जन्माष्टमी की जानकारी दी|

खामियां दूर करने में जुटी बसपा, ग्राम प्रधानी और पंचायत चुनावों पर नजर

महामंडलेश्वर स्वामी श्री पूर्णानंदपुरी जी महाराज ने बताया कि इस साल जन्माष्टमी पर कृतिका नक्षत्र लग रहा है और सूर्य कर्क और चंद्रमा मेष राशि में रहेगा। इस संयोग से वृद्धि योग भी बन रहा है। मथुरा-वृंदावन में सालों से पंरपरा रही है कि भगवान कृष्ण जन्माष्टमी के जन्मोत्सव सूर्य उदयकालिक और नवमी तिथि विद्धा जन्माष्टमी मनाने की परंपरा है। कृष्ण जन्माष्टमी को मनाने वाले दो अलग-अलग संप्रदाय के लोग होते हैं, स्मार्त और वैष्णव। इनके विभिन्न मतों के कारण दो तिथियां बनती हैं।

उन्होंने बताया कि 11 अगस्त को सुबह 09 बजकर 06 मिनट के बाद अष्टमी तिथि का आरंभ हो जाएगा, जो 12 अगस्त को 11 बजकर 16 मिनट तक रहेगी। वहीं रोहिणी नक्षत्र का आरंभ 13 अगस्त को सुबह 03 बजकर 26 मिनट से 05 बजकर 21 मिनट तक रहेगा। अतः शास्त्रों के अनुसार गृहस्थों को उस दिन व्रत रखना चाहिए जिस रात अष्टमी तिथि हो। पंचांग के अनुसार, 11 अगस्त दिन मंगलवार को गृहस्थ आश्रम के लोगों को जन्माष्टमी का पर्व मनाना सही रहेगा क्योंकि 11 की रात को अष्टमी है, 12 अगस्त को व्रत का पारण करें और कृष्ण जन्मोत्सव धूमधाम से मनाएं, जो कि श्रेष्ठ एवं उत्तम रहेगा।

चोरी व धमकी देने के मामले में 27 नामजद व 50 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकद्दमा दर्ज

 

वहीँ साधू संतों एवं वैष्णव के लिए जन्माष्टमी व्रत की जानकारी देते हुए स्वामी जी ने बताया कि वैष्णव व साधु संत 12 अगस्त को व्रत रख सकते हैं। 12 अगस्त को सुबह 11 बजकर 16 मिनट तक अष्टमी उदया तिथि रहेगी और उसके बाद नवमी तिथि लग जाएगी। इस दिन अष्टमी और नवमी दोनो रहेंगी। साथ ही उस दिन कृतिका नक्षत्र का योग बन रहा है। इस दिन कृष्ण जन्मोत्सव का पर्व मनाया जाएगा।

...हमारी खबरों को अपने फेसबुक पेज, ट्यूटर & WhatsAap Gruop के जरिये दोस्तों को शेयर जरूर करें

Aligarh Media Group

www.aligarhmedia.com (उत्तर प्रदेश के अलीगढ जनपद का नंबर-१ हिंदी न्यूज़ पोर्टल) अपने इलाके की खबरे हमें व्हाट्सअप करे: +91-9219129243 E-mail: aligarhnews@gmail.com