विश्व में बढ़ रही है मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्यायें:डा0 निमेष

अलीगढ़ मीडिया न्यूज़,अलीगढ: किसी प्रियजन की मृत्यु, कार्यस्थल या स्कूल में दबाव, गंभीर बीमारी या दुर्घटनायें , हमले, या किसी भी अन्य दर्दनाक घटना की वजह से समाज में तनाव पैदा होता है तो ऐसी स्थिति से निपटने के लिए अपने भीतर इनका मुकाबला करने की जरूरत है। यह उद्गार इंस्टीट्यूट ऑफ ह्यूमैन बिहेवियर एण्ड एलाइड साइंसेज,नई दिल्ली के निदेशक डा0 निमेष जी देसाई ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्विद्यालय के अजमल खां तिब्बिया कॉलिज के इलाज बित तदबीर विभार द्वारा कॉपिंग विद स्ट्रेस विद रिसाईलिएंट एण्ड क्लासिकल रेजिमेंस विषय पर आयोजित कार्यशाला कम सिम्पोजियम के उद्घाटन सत्र में मुख्य अतिथि के रूप में बोलते हुए व्यक्त किये।
उन्होंने कहा कि भले ही हाल में दुनिया में विकास की रफतार बढ़ी हो या गरीबी में कमी आई हो लेकिन भारत सहित अमेरिका एवं चीन आदि देशों में जीवन संतुष्टि में अभूतपूर्व गिरावट आई है। डा0 निमेष ने कहा कि जब विश्व में मानसिक स्वास्थय संबंधी समस्यायें बढ़ रही है उनसे तनाव भी बढ़ रहा है। ऐसे में यह समझना होगा कि कम से कम तनावपूर्ण स्थान पर इसको किस प्रकार से मैनेज किया जाये।
समारोह की अध्यक्षता करते हुए कुलपति प्रोफेसर तारिक मंसूर ने कहा कि तनाव सात साल की उम्र में ही शुरू हो जाता है जब बच्चो पर अपने स्कूल में उत्कृष्ट प्रदर्शन की अपेक्षा पर दबाव डाला जाता है। उन्होंने कहा कि उन्हें यह महसूस कराया जाता है कि उन्हें रुकना नही है। उन्हें ऐसे वातावरण में रखा जाता है जो उनके लिए स्वंय स्वीकार्य नही होता। इससे बच्चौं में तनाव की स्थिति पैदा होती है। कुलपति ने कहा कि तनाव से बचने के लिए जीवन शैली में बदलाव लाने के लिए लोगों का लम्बी सैर व योग या ध्यान पर अपने को केन्द्रित कराना चाहिए।
कुलपति ने कहा कि कार्यस्थल तथा कॉरपोरेट जगत में पर तनाव की स्थिति पर कार्य के बोझ के चलते अत्याधिक तनाव महसूस करते है। लोगों को विश्राम के तरीको को अपनाने की ज़रूरत है। उन्होंने कहा कि इलाज बित तदबीर विभाग जीवन शैली के विकार से निपटते हुए इनमें महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है प्रो0 मंसूर ने कहा कि आज पूरी दुनिया आधुनिक दवाओं के साइड इफेक्ट से बचने के लिए पारम्परिक दवाओं की और आकर्षित हो रही हैं। स्वास्थय एवं परिवार कल्याण अलीगढ़ के अतिरिक्त निदेशक डा0 शंकरलाल सारस्वत ने कहा कि आप जो भी चिंता कर रहे हैं, याद रखे, ईश्वर अपकी सहायता के लिए मौजूद है। कार्यक्रम को यूनानी मेडिसन संकाय के डीन प्रोफेसर खालिद ज़मा खान, एके तिब्बिया कालिज के प्रिंसिपल प्रो0 सऊद अली खान तथा प्रोफेसर एमएमएच सिद्दीकी ने भी संबोधित किया
इलाज बित तदबीर विभार की अध्यक्ष प्रो0 आसिया सुलताना ने स्वागत भाषण दिया। उपस्थित जनों का आभार प्रोफेसर एम अनवर ने जताया। कार्यक्रम का संचालन डा0 एम अनस ने किया। कार्यशाला में विभिन्न राज्यों के प्रतिभागी भाग ले रहे हैं।

...हमारी खबरों को अपने फेसबुक, ट्यूटर के जरिये दोस्तों को शेयर जरूर करें

Aligarh Media Group

www.aligarhmedia.com (उत्तर प्रदेश के अलीगढ जनपद का नंबर-१ हिंदी न्यूज़ पोर्टल) अपने इलाके की खबरे हमें व्हाट्सअप करे: +91-9219129243 E-mail: aligarhnews@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *