भावनाओं से उत्पन्न होने वाली उलझन तथा तनाव को काबू में करना आवश्यक: डा० पूनम बत्रा

अलीगढ मीडिया डॉट कॉम,अलीगढ़: अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के गृह विज्ञान विभाग द्वारा आयोजित मानसिक स्वास्थ जागृति कार्यक्रम को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित करते हुए होमियोपैथिक चिकित्सक तथा प्रमुख मनोवैज्ञानिक काउंसलर डा० पूनम बत्रा ने कहा कि भावनाओं से उत्पन्न होने वाली उलझन तथा तनाव को काबू में करना आवश्यक होता है क्यूंकि यह उलझन किसी बड़ी घटना तथा रोग को जन्म दे सकती है। उन्होंने कहा कि हमारे समाज में भावनाओं के प्रदर्शन को कमज़ोरी समझा जाता है जबकि इसे बुराई नहीं समझा जाना चाहिए बल्कि यह मानव प्रकृति का ही एक भाग है।

डा० पूनम बत्रा ने मानसिक स्वास्थ से संबंधित पहलुओं पर प्रकाश डालते हुए कहा कि मानसिक स्वास्थ की समस्याऐं व्यवसायिक जीवन तथा निजी सम्बन्धों को भी प्रभावित करती हंैै। उन्होंने अपने भाषण में अध्यात्मिक स्वास्थय, सफल मानसिक अभ्यासों, प्रत्येक दिन की स्वस्थय गतिविधियों तथा अच्छे सम्पर्क की प्रासंगिकता पर भी प्रकाश डाला।

आत्म हत्या की रोकथाम के संदर्भ में डा० पूनम बत्रा ने कहा कि मानसिक रोग जैसे अनुवांशिक कारण, नशीले पदार्थों का प्रयोग तथा घरेलू एवं समाजी परिस्थितियां कही ना कही किसी भी व्यक्ति को आत्म हत्या पर विवश कर सकती हैं इसलिये इनकी रोकथाम के तरीकों तथा चिकित्सा के संदर्भ में जन जागृति उत्पन्न करना अति आवश्यक है। उन्होंने बल देते हुए कहा हमे लोगों में मानसिक स्वास्थ पर खुल कर चर्चा करने के प्राप्ति रूचि पैदा करने के तरीके़ खोजने होंगे। संबोधन के पश्चात डा० पूनम बत्रा ने उपस्थितजनों के प्रश्नों के उत्तर भी दिये। विभाग की अध्यक्षा प्रोफेसर अनीसा एम दुर्रानी ने स्वागत भाषण प्रस्तुत किया। कार्यक्रम के आयोजन में डा० सबा खान ने सक्रिय सहयोग प्रदान किया।

...हमारी खबरों को अपने फेसबुक पेज , ट्यूटर & WhatsAap Gruopके जरिये दोस्तों को शेयर जरूर करें

Aligarh Media Group

www.aligarhmedia.com (उत्तर प्रदेश के अलीगढ जनपद का नंबर-१ हिंदी न्यूज़ पोर्टल) अपने इलाके की खबरे हमें व्हाट्सअप करे: +91-9219129243 E-mail: aligarhnews@gmail.com