World Tobacco Prohibition Day#तम्बाकू उद्योग लॉबी के आगे लाचार, 50 लाख लोग मर रहे है हर साल

अलीगढ़ मीडिया न्यूज़,अलीगढ: भारत दुनियां का सबसे बड़ा लोकतान्त्रिक देश है। वहीं दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा तम्बाकू का उपभोक्ता भी है और साथ ही साथ दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा तम्बाकू का उत्पादन करने वाला देश है। दुनिया के लिए तम्बाकू आज के समय की सबसे बड़ी चुनौती है। हर वर्ष लगभग 50 लाख लोगों की मृत्यु तम्बाकू के सेवन की वजह से होती है और यह अनुमान लगाया जा रहा है कि सन् 2030 तक यह संख्या 1 करोड़ के आस पास पहुॅच सकती है। यह भी अनुमान लगाया जा रहा है कि सन् 2030 तक दुनिया में सर्वाधिक मृत्यु तम्बाकू की वजह से होगी कि अन्य बीमारी जैसे कि एड्स मलेरिया, टी.बी. जन्म के समय मृत्यु, रोड ट्रेफिक एकसीडेन्ट, घरेलू झगड़े तथा आत्म हत्या से कहीं अधिक है।
अलीगढ मीडिया डाट काम न्यूज़ पोर्टल से यह बात अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के डॉ. जेडए डेंटल कॉलेज के ओरल एण्ड मैग्जिलोफेशियल सर्जरी विभाग के डॉ. जीएस हाशमी ने 31 मई को मनाये जाने वाले विश्व तम्बाकू निषेध दिवस के अवसर पर कहीं। उन्होंने कहा कि भारत में प्रतिदिन 3500 मौतें तम्बाकू की वजह से हो रही है। हर तीसरा तम्बाकू उपभोक्ता समय से पहले मौत को गले लगा रहा है। क्या बात है क भारत जैसे विशाल राष्ट्र में तम्बाकू पर कोई ठोस उपाय नहीं हो पा रहा है इसके पीछे तम्बाकू उद्योग लाबी है जो स्वास्थय से अधिक अपने पैसे पर नजर लगाए हुए है जो कि हजारों में नहीं, लाखों में नहीं बल्कि अरबों रूपये के व्यापार में छुपा हुआ है। डॉ. हाशमी का कहना है कि टैक्स अगर हम सरकार की बात करें तो तम्बाकू से सरकार को 17000 करोड़ रूपये जंग के रूप में प्राप्त हो रहे हैं। वहीं भारत सरकार 100000 करोड रूपये तम्बाकू जनित कैंन्सर के इलाज के लिए खर्च कर रही है। इसका तात्पर्य यह है कि सरकार पूरी तरह से नुकसान में है लेकिन तम्बाकू उद्योग लॉबी के आगे लाचार है।
डॉ. हाशमी का कहना है कि भारत में तम्बकू पर लगाम पूरी दुनिया के तम्बाकू पर लगाम जैसा होगा क्योंकि भारत दूसरा सबसे बड़ा तम्बाकू उपभोक्ता है। गेट 2010 के अनुसार भारत में 27.50 करोड़ तम्बाकू के उपभोक्ता है जो किसी भी फार्म में तम्बाकू का सेवन कर रहे हैं। भारत में सबसे ज्यादा खैनी 8.5 करोड़ तथा बीड़ी 6.7 करोड़ के उपभोक्ता है। पिछले पॉच वर्ष में भारत गवाह है अनेकों केस सरकार और तम्बाकू उद्योग के बीच। अलीगढ मीडिया डाट काम न्यूज़ पोर्टल से बातचीत में डा. हाशमी ने कहा है कि भारत सरकार ने किसी भी नाबालिग को तम्बाकू उत्पाद को खरीदने व बेचने पर 7 साल की सजा और एक लाख रूपये का जुर्माना लगा रखा है। यह नियम लगाने वाला भारत विश्व का एक मात्र देश है। साथ ही साथ सुप्रीम कोर्ट ने भी एक पीआईएल के तहत पूरे भारत में गुटका बैन कर रखा है। इसके प्श्चात भी 5 करोड़ भारत की जनता अभी भी गुटका आसानी से खरीद पा रही है।
उन्होंने कहा है कि तम्बाकू उद्योग के बहुत भारी विरोध के बावजूद भारत सरकार का स्वास्थ्य मंत्रालय ने तम्बाकू उत्पाद के पैकेट पर 85 प्रतिशत कैन्सर चेतावनी का आदेश 1 अप्रैल 2016 को लगा कर दिया है। बताए गए सभी नियमों के तत्पश्चात भारत को सख्त कानून की जरूरत है जिससे न सिर्फ तम्बाकू उद्योग पर लगाम लगाया जा सके उसके साथ साथ तेजी से फैल रहे मुँह के कैन्सर को भी रोका जा सके जिससे प्रतिवर्ष सरकारी मुद्रा लगभग 100000 करोड़ के सरकार के किसी अन्य कल्याणकारी योजना में लगाया जा सके।

...हमारी खबरों को अपने फेसबुक, ट्यूटर के जरिये दोस्तों को शेयर जरूर करें

Aligarh Media Group

www.aligarhmedia.com (उत्तर प्रदेश के अलीगढ जनपद का नंबर-१ हिंदी न्यूज़ पोर्टल) अपने इलाके की खबरे हमें व्हाट्सअप करे: +91-9219129243 E-mail: aligarhnews@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *