अलीगढ| स्वायत्त महासागर प्रणाली-उभरती और भविष्य प्रौद्योगिकी’ पर वेबिनार

अलीगढ़ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ| अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के जाकिर हुसैन कालेज आफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलाजी के मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग द्वारा ‘आटोनोमस ओशन सिस्टम्स-इमर्जिंग एंड फ्यूचर टेक्नोलाजी’ विषय पर एक वेबिनार का आयोजन किया गया जिसमें अंडरवाटर व्हीकल, अंडरवाटर ह्यूमन रोबोट इंटरेक्शन और अल्ट्रा-लान्ग एंड्योरेंस सिस्टम पर बोलते हुए डा. आर वेंकटेशन, वैज्ञानिक और कार्यक्रम निदेशक, ओओएस, नेशनल इंस्टीट्यूट आफ ओशन टेक्नोलाजी, चेन्नई ने उभरती प्रौद्योगिकियों जैसे महासागर सैम्पलिंग नेटवर्क पर उपयोगी व्याख्यान दिया। उन्होंने आटोनोमस ओशनोग्राफिक सैंपलिंग नेटवर्क जैसे अत्याधुनिक विषयों पर प्रकाश डाला जिसमें अंडरवाटर व्हीकल, डाकिंग और चार्जिंग स्टेशन, अंडरवाटर और सैटेलाइट कम्युनिकेशंस और एडेप्टिव मिशन प्लानिंग वाले नेटवर्क सिस्टम, आटोनोमस अंडरवाटर व्हीकल्स (एयूवी), रिमोटली आपरेटेड व्हीकल्स (आरओवी) और फैक्ट्री-आधारित आटोमेशन में अंडरवाटर इंटरनेट आफ थिंग्स (आईओटी) आदि शामिल हैं।
डा वेंकटेशन ने आरओवी, एयूवी और बॉय जैसे विभिन्न स्वायत्त अण्डरवाटर प्रणालियों की प्रौद्योगिकियों और डिजाइन पहलुओं पर चर्चा की। मरीन टेक्नोलाजी सोसाइटी, यूएसए की सदस्यता के लाभों का वर्णन करते हुए उन्होंने शिक्षकों और छात्रों से इससे जुड़ने का आग्रह किया। स्वागत भाषण में, प्रोफेसर एम मुज़म्मिल (अध्यक्ष, मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग) ने एयूवी की वर्तमान पीढ़ी के लिए दुनिया के महासागरों में वास्तव में सर्वव्यापी बनने के लिए आवश्यक तकनीकी प्रगति पर प्रकाश डाला।
वेबिनार का संचालन करते हुए, प्रो सलीम अनवर खान ने खुले समुद्र के बुनियादी ढांचे के इस दृष्टिकोण को प्राप्त करने के लिए शिक्षा जगत-उद्योग के मध्य एक मजबूत सहयोग की आवश्यकता पर प्रकाश डाला।वेबिनार का आयोजन मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग और एमटीएस-एयूवी-जेडएचसीईटी छात्र वर्ग के सहयोग से किया गया। डा अब्दुल्ला यूसुफ उस्मानी ने धन्यवाद ज्ञापन किया।कार्यक्रम में आईआईटी, एएमयू और अन्य संस्थानों के शिक्षकों और छात्रों ने भाग लिया।

…मानसिक स्वास्थ्य शिक्षा पर सम्मेलन
अलीगढ़, 10 जनवरीः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के मल्लापुरम केंद्र के शिक्षा अनुभाग द्वारा शिक्षा विभाग, केरल विश्वविद्यालय के सहयोग से ‘मानसिक स्वास्थ्य के लिए शिक्षा पर चर्चा’ विषय पर दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया गया।
इस अवसर पर मुख्य अतिथि प्रो साजिद जमाल, शिक्षा विभाग, एएमयू ने वर्तमान कोविड-19 परिस्थिति में मानसिक स्वास्थ्य सम्मेलन के महत्व और प्रासंगिकता पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम का उद्घाटन एएमयू मल्लापुरम सेन्टर के निदेशक डा फैसल केपी ने किया।
सम्मेलन में साओ पाउलो, ब्राजील के कार्लाेस ट्रिनाडे, एएमयू के शिक्षा विभाग कीे प्रोफेसर नसरीन, नाइजीरिया के राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय के प्रधान अनुसंधान अधिकारी डा मैक्सवेल डी उडुआफेम, नोवेल ग्लोबल कम्युनिटी एजुकेशनल फाउंडेशन, आस्ट्रेलिया के प्रोफेसर मोहम्मद अमजद कमाल, शिक्षा विभाग, एएमयू की डा. नूरा अब्दुल कादर और बैकांक विश्वविद्यालय थाइलैण्ड के शिक्षा संकाय के डा रोमेल वी तबुला ने रिसोर्स पर्सन की भूमिका निभाई। जबकि डा मोहम्मद बशीर, समन्वयक, शिक्षा विभाग एएमयू मल्लापुरम सेन्टर, डा जुबली पद्मनाभन, शिक्षा संकाय, पंजाब केंद्रीय विश्वविद्यालय, डा मुहम्मद केवी, स्कूल आफ पेडागोगिकल साइंसेज, महात्मा गांधी विश्वविद्यालय, डा बिंदु डी, केरल विश्वविद्यालय, डा फैसल केपी, निदेशक, एएमयू मल्लापुरम सेन्टर, डा डोरीलाल, जामिया मिलिया इस्लामिया, डा जानसन, अलगप्पा विश्वविद्यालय और डा सिंध्या वी, केरल विश्वविद्यालय ने विभिन्न सत्रों की अध्यक्षता की। सम्मेलन के दौरान कुल 35 शोधपत्र प्रस्तुत किए गए।
समापन समारोह के मुख्य अतिथि प्रोफेसर मुजीबुल हसन सिद्दीकी, अध्यक्ष, शिक्षा विभाग, एएमयू ने इस आयोजन की सराहना की और वर्तमान परिदृश्य में मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल के महत्व का उल्लेख किया।
प्रत्येक सत्र में प्रत्येक दिन लगभग 125 प्रतिभागी ने भाग लिया तथा मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए आयोजन टीम के प्रयासों की सराहना की, शिक्षा विभाग के समन्वयक डा मोहम्मद बशीर ने स्वागत भाषण प्रस्तुत किया जबकि प्रोफेसर गीता जेनेट वायटस, प्रोफेसर एवं डीन, शिक्षा विभाग, केरल विश्वविद्यालय ने अंतिम सत्र की अध्यक्षता की।

...हमारी खबरों को अपने फेसबुक पेज, ट्यूटर & WhatsAap Gruop के जरिये दोस्तों को शेयर जरूर करें
error: Content is protected !!