बस, ट्रक, ऑटो, ई-रिक्शा एवं टैक्सी चालक यूनियन के बैठक में क्या हुआ बड़ा फैसला

अलीगढ खैर & इगलास

अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ: प्रदेश सरकार द्वारा 30.09.2021 तक कोविड-19 के बचाव हेतु जन जागरूकता अभियान एवं द्वितीय सड़क सुरक्षा सप्ताह मनाये जाने के निर्देशों के क्रम में सड़क सुरक्षा सप्ताह के द्वितीय दिवस पर शनिवार कोे संभागीय परिवहन कार्यालय, अलीगढ़ के सारथी भवन में बस, ट्रक, ऑटो, ई-रिक्शा तथा टैक्सी चालकों के यूनियन के पदाधिकारियो, संभागीय परिवहन कार्यालय के कर्मचारियों एवं चालक लाइसेन्स के आवेदकों के साथ सड़क सुरक्षा जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम में श्री फरीदउद्दीन, संभागीय परिवहन अधिकारी (प्रवर्तन) अलीगढ़ द्वारा बताया गया कि दुपहिया वाहन चालकोें को ब्यूरो ऑफ इण्डियन स्टैण्डर्ड द्वारा निर्धारित आईएसरू 4151 मानक के हेलमेट का ही प्रयोग करना चाहिये। मानकविहीन अथवा निम्न गुणवत्ता के हेलमेट कदापि न लगायें, क्योंकि दुर्घटना के समय ये जान बचाने में सहायक सिद्ध नहीं होते हैं। प्रत्येक वर्ष देश में लगभग 42000 लोगों की मृत्यु केवल मानक के अनुरूप हेलमेट न पहनने अथवा हेलमेट का प्रयोग न करने के कारण होती है।

श्री मौ0 मोहसिन खान, क्षेत्राधिकारी (नगर/यातायात) अलीगढ़ द्वारा बताया गया कि सड़क सुरक्षा एवं यातायात नियमों का पालन चालान से बचने के लिये नहीं, बल्कि अपनी सुरक्षा के लिये करें। प्रायः जब हम घर से देरी से निकलते हैं और सड़क पर जल्दी पहुँचने की वजह से ओवरस्पीडिंग करते हैं, जो कि दुर्घटना का कारण बनता है। इससे बचने के लिये 5-10 मिनट पहले ही घर से निकलें, ताकि वाहन को नियन्त्रित गति से चलाकर अपने गन्तव्य तक सुरक्षित पहुँच सकें। वापस अपने घर भी सुरक्षित पहुचें, क्योंकि घर पर हमारा परिवार राह देख रहा होता है। देश में प्रतिवर्ष लगभग 1,00,000 लोगो की मृत्यु केवल ओवरस्पीडिंग के कारण ही होती है।

पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर की प्रतिमा को हटाने पर किसने कहा ईंट से ईंट बजा देंगे? जानिए

श्री रंजीत सिंह, सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी (प्रशा0) अलीगढ़ द्वारा बताया गया कि चार पहिया वाहन चलाते समय सदैव सीटबेल्ट का प्रयोग अवश्य करना चाहिये। सीट बेल्ट का प्रयोग करने से किसी भी दुर्घटना की स्थिति में जीवित बचने की संभावना बहुत अधिक बढ़ जाती है। देश में प्रतिवर्ष लगभग 17,000 लोगोें की मृत्यु केवल सीटबेल्ट का प्रयोग न करने के कारण ही होती है। श्री संतोष कुमार, संभागीय निरीक्षक (प्रावि0) द्वारा आडियो-विजुअल के माध्यम से उपस्थित लोगों को सड़क सुरक्षा के नियमों का पालन किये जाने हेतु सरल माध्यम से जागरूक किया गया तथा सभी से अपील की गयी कि शराब पीकर कभी वाहन न चलायें और न ही वाहन चलाते समय मोबाइल फोन का प्रयोग करें।

 

…प्रत्याशी जिलाध्यक्ष के माध्यम से लिखित रूप में नियुक्त पत्र कार्यालय को उपलब्ध कराएं
अलीगढ़ 25 सितम्बर 2021(सू0वि0) अपर जिलाधिकारी एवं उप जिला निर्वाचन अधिकारी राकेश कुमार पटेल ने अवगत कराया है कि जनपद अलीगढ़ में ईवीएम वेयरहाउस में ईवीएम एवं वीवीपैट की एफएलसी का कार्य बंदोबस्त अधिकारी चकबंदी एवं जिला पंचायत राज अधिकारी सहायक प्रभारी ईवीएम की देखरेख में फर्स्ट लेवल का कार्य किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग के दिशा निर्देशों के क्रम में ईवीएम एवं वीवीपैट की फर्स्ट लेवल चेकिंग के दौरान जनपद स्तर के अध्यक्ष मंत्री सचिव की उपस्थिति अनिवार्य की गई है। उन्होंने बताया कि राजनीतिक दल आगामी विधानसभा निर्वाचन 2022 में निर्वाचन लड़ने वाले प्रत्याशी को भी नामित कर सकते हैं। एफएलसी की कार्य अवधि में प्रत्येक दल अपने-अपने प्रतिनिधियों की उपस्थिति के लिए अपने जिला अध्यक्ष के माध्यम से लिखित रूप में नियुक्त पत्र विधिवत पहचान पत्र के इस कार्यालय को या सहायक प्रभारी अधिकारी को हस्तगत करा दें। जिससे एफएलसी हाल हेतु पास समय से निर्गत किए जा सकें।उन्होंने बताया कि नियुक्त किए गए प्रतिनिधि की उपस्थिति एफएलसी अवधि में प्रतिदिन अनिवार्य होगी।

 

…फुटकर सीमा से अधिक मदिरा क्रय, परिवहन एवं निजी कब्ज़े में रखने के लिए होम लाइसेंस लें
अलीगढ़ 25 सितम्बर 2021(सू0वि0) जिला आबकारी अधिकारी ने बताया है कि वर्ष 2021 में निजी प्रयोग के लिए व्यक्तियों को निर्धारित फुटकर सीमा से अधिक मदिरा क्रय, परिवहन एवं निजी कब्जे में रखने के लिए वयक्तिक होम लाइसेंस जिला कलेक्टर द्वारा स्वीकृत किया जाएगा। उन्होंने बताया कि वयक्तिक होम लाइसेंस के लिए प्रत्येक वर्ष 12000 लाइसेंस फीस एवं प्रतिभूति राशि रुपया 51000 निर्धारित है।प्रतिभूति राशि जिला आबकारी अधिकारी को जमा रसीद के रूप में देय होगी। वैयक्तिक होम लाइसेंस परिसर में परिवार के सदस्य, रिश्तेदार, परिवार के अतिथि एवं मित्रजनों द्वारा कैश या काइंड में भुगतान किए बिना लाइसेंस की सहमति से मदिरा पान कर सकेंगे।

उन्होंने बताया कि आवेदक विगत 5 वर्षों से आयकर दाता होना चाहिए एवं विगत पांच आयकर निर्धारण वर्षों में से न्यूनतम 3 वर्षों में न्यूनतम 20 प्रतिशत की श्रेणी में आयकर का भुगतान किया गया होना चाहिए। वयक्तिक होम लाइसेंस के संबंध में अधिक जानकारी क्षेत्रीय आबकारी निरीक्षकों एवं जिला आबकारी अधिकारी कार्यालय से प्राप्त की जा सकती है।

...हमारी खबरों को अपने फेसबुक पेज, ट्यूटर & WhatsAap Gruop के जरिये दोस्तों को शेयर जरूर करें