मेडिकल कालिज ओपीडी में 14 जनवरी से 75 तथा विशेष ओपीडी के 35 रोगी हरेक दिन देखे जाएंगे

अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ| अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कालेज में चिकित्सक शुक्रवार 14 जनवरी से ओपीडी में अब हरेक दिन निम्नलिखित संख्या में मरीजों का इलाज करेंगे। रोगि |यों का पंजीकरण प्रातः 8ः30 बजे से 10 बजे तक होगी। प्रोफेसर हारिस एम खान, चिकित्सा अधीक्षक के अनुसार ईएनटी (सभी दिन), बाल रोग (सभी दिन), वेल बेबी क्लिनिक (मंगलवार, गुरुवार और शनिवार), रेडियो डायग्नोसिस (सभी दिन), आर्थाेपेडिक सर्जरी विभाग में ओपीडी (सभी दिन), त्वचाविज्ञान (सभी दिन), मनोरोग (सभी दिन), सामान्य सर्जरी (सभी दिन), चिकित्सा (सभी दिन), टीबी चेस्ट (सभी दिन), प्लास्टिक सर्जरी (सभी दिन), प्रसूति और स्त्री रोग (सभी दिन), एएनसी (सभी दिन), रेडियोथेरेपी (सभी दिन), मधुमेह और एंडोक्रिनोलाजी (सोमवार, मंगलवार, गुरुवार और शुक्रवार) और नेत्र विज्ञान (सभी दिन) एक दिन में ओपीडी में चिकित्सक 75 रोगियों का इलाज करेंगे।
उन्होंने कहा कहा कि स्पोर्ट्स एंड आर्थ्राेस्कोपी-सुपर स्पेशियलिटी (मंगलवार), ट्यूमर क्लिनिक-सुपर स्पेशियलिटी (मंगलवार), स्पाइन क्लिनिक-सुपर स्पेशियलिटी (गुरुवार), पीडियाट्रिक आर्थाे क्लिनिक-सुपर स्पेशियलिटी (सोमवार), आर्थाेप्लास्टी क्लिनिक हिप और नी-सुपर स्पेशियलिटी (बुधवार), फिजियोथेरेपी / वर्कशाप (सभी दिन), पेन क्लिनिक (सोमवार, बुधवार और शनिवार), एनेस्थिसियोलाजी (सभी दिन), जीएस फालो अप क्लिनिक (सभी दिन), जीएस स्पेशल ओपीडी (मंगलवार, बुधवार, गुरुवार और शुक्रवार), यूरोलाजी-जीएस स्पेशल ओपीडी (सोमवार, बुधवार और शनिवार), न्यूरोसर्जरी (सोमवार, बुधवार और शनिवार), सीटीवीएस (मंगलवार और शुक्रवार), नेफ्रोलाजी-सुपर स्पेशियलिटी (सोमवार), रुमेटोलाजी-सुपर स्पेशियलिटी (शनिवार) ), न्यूरोलाजी-सुपर स्पेशियलिटी (बुधवार), कार्डियोलाजी-सुपर स्पेशियलिटी (सोमवार, मंगलवार, गुरुवार और शनिवार), जीई क्लिनिक-सुपर स्पेशियलिटी (शुक्रवार), एस्थेटिक क्लिनिक-सुपर स्पेशियलिटी (मंगलवार), क्लेफ्ट लिप एंड पैलेट क्लिनिक-सुपर स्पेशियलिटी (गुरुवार), हैंड क्लीनिक-सुपर स्पेशियलिटी (शनिवार), पीडियाट्रिक सर्जरी (सोमवार और शुक्रवार) और इनफर्टिलिटी क्लीनिक-सुपर स्पेशियलिटी (शनिवार) एक दिन में चिकित्सक 35 रोगियों का इलाज करेंगे।
—————————
कॉमर्स विभाग में ऑनलाइन ओरिएंटेशन कार्यक्रम का आयोजन
अलीगढ़, 13 जनवरीः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के कामर्स विभाग में कामर्स फैकल्टी द्वारा चलाये जाने कोर्सेज – मास्टर आफ कामर्स (एम काम), मास्टर आफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन – फाइनेंस मैनेजमेंट (एमबीए-एफएम), मास्टर आफ ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट (डभ्त्ड), मास्टर आफ इंश्योरेंस एंड रिस्क मैनेजमेंट (डप्त्ड) और मास्टर आफ टूरिज्म एंड ट्रैवल मैनेजमेंट (डज्ज्ड) में नए शिक्षा सत्र में प्रवेश पाने वाले छात्र-छात्राओं के लिए एक आनलाइन ओरिएंटेशन प्रोग्राम का आयोजन किया गया जिसमें विभाग के शिक्षकों तथा अन्य अधिकारीयों ने उन्हें विश्वविद्यालय में उपलब्ध शैक्षणिक सुविधाओं से परिचित कराया।
कामर्स विभाग के अध्यक्ष, प्रोफेसर नवाब अली खान ने छात्रों से की जाने वाली अपेक्षाओं पर प्रकाश डाला बताया कि वे इसके अनुसार अपने अध्ययन कार्यक्रम की योजना कैसे बना सकते हैं।
उन्होंने कहा कि विभाग के विभिन्न स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों के लिए अध्ययन करके, छात्र लेखांकन, वित्त, विपणन और उत्पादन विकास जैसे विभिन्न क्षेत्रों में अंतर्दृष्टि प्राप्त करेंगे और उनमें यह देखने की क्षमता भी विकसित होगी कि ये सभी क्षेत्र आपस में किस प्रकार जुड़े हुए हैं।
उन्होंने नए छात्रों का विभाग के शिक्षकों से परिचय कराया और विभाग के दृष्टिकोण पर बात की।
प्रोफेसर एस एम इमामुल हक (पूर्व डीन, वाणिज्य संकाय) ने छात्रों को विश्वविद्यालय की संस्कृति से परिचित कराया और उनकी शैक्षिक यात्रा में अगले कदम को शुरू करने के लिए आवश्यक बातों के बारे में बताया।
उन्होंने विश्वविद्यालय की शैक्षणिक प्रणाली पर चर्चा की और छात्रों से एएमयू के सिद्धांतों और परंपराओं का पालन करते हुए ईमानदार, समयनिष्ठ और दायित्वों के प्रति सजग रहने का आग्रह किया।
“एकेडमिक्स ओरिएंटेशन” पर एक प्रेजेंटेशन देते हुए प्रोफेसर आसिया चौधरी ने विभाग में पढ़ाये जाने वाले विभिन्न पाठ्यक्रमों की जानकारी प्रदान की और छात्रों को अपने विषयों के मूल को समझने और उसके अनुसार अपने संबंधित विषय क्षेत्रों में मौजूद अध्ययन सामग्री में योगदान देने पर जोर दिया।
प्रोफेसर मोहम्मद शमीम ने विभिन्न शैक्षणिक कार्यक्रमों की संभावनाओं को चित्रित किया और छात्रों को बेहतर प्रोफाइल और विशेषज्ञता के लिए और अधिक योग्यता अर्जित करने के लिए प्रोत्साहित किया।
डाक्टर अली नवाज जैदी (डिप्टी प्राक्टर) ने परिसर में कानून व्यवस्था और महत्वपूर्ण नियमों और विनियमों पर बात की।
प्रोफेसर निशात फातिमा (विश्वविद्यालय पुस्तकालयाध्यक्ष) ने छात्रों को इस बात से अवगत कराया कि वे मौलाना आजाद पुस्तकालय से आवश्यक शैक्षणिक संसाधनों के साथ-साथ पर्याप्त स्थान और अन्य अवसरों से किस प्रकार लाभ उठा सकते हैं।
डाक्टर मोहम्मद नैयर रहमान ने धन्यवाद ज्ञापित किया जबकि डॉक्टर मोहम्मद सईम खान ने कार्यक्रम का संचालन किया। 120 से अधिक छात्रों ने व्यक्तिगत रूप से और 500 से अधिक छात्रों ने आनलाइन कार्यक्रम में भाग लिया।
————————–
गणतंत्र दिवस समारोह से सम्बंधित बैठक का आनलाइन आयोजन
अलीगढ़, 13 जनवरीः अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय में गणतंत्र दिवस समारोह के अंतर्गत आयोजित होने वाले कार्यक्रमों से सम्बंधित व्यवस्थाओं पर चर्चा और उन्हें अंतिम रूप देने के लिए आज कुलपति प्रोफेसर तारिक मंसूर की अध्यक्षता में एक आनलाइन परामर्श बैठक आयोजित की गई।
प्रोफेसर मंसूर ने जोर देकर कहा कि अमुवि में गणतंत्र दिवस पारंपरिक उल्लास और उत्साह के साथ मनाया जाएगा, परन्तु तेजी से फैलने वाले ओमाइक्रोन वैरिएंट के दृष्टिगत सरकार द्वारा अपनाये गए कोविड-19 प्रोटोकाल और दिशानिर्देशों का पालन करते हुए आवश्यक निवारक उपायों का पालन किया जाएगा।
एएमयू रजिस्ट्रार श्री अब्दुल हमीद (आईपीएस) ने सदस्यों का स्वागत किया और उन्हें आयोजित होने वाले कार्यक्रमों और उन से सम्बंधित व्यवस्थाओं से अवगत कराया।
विश्वविद्यालय में परम्परागत मुशायरा (काव्य समारोह) 25 जनवरी को रात 8 बजे से 10 बजे तक आनलाइन आयोजित किया जाएगा।
बैठक में विश्वविद्यालय के विभिन्न अधिकारी और पदाधिकारी शामिल हुए।
————————
प्रोजेक्ट रिपोर्ट के लिए एएमयू फैकल्टी को मिला डीजी का प्रशस्ति प्रमाणपत्र
अलीगढ़, 13 जनवरीः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के भाषा विज्ञान विभाग के अध्यक्ष, प्रोफेसर एमजे वारसी को उग्रवाद को रोकने के लिए उनकी परियोजना रिपोर्ट, “कट्टरपंथ को कम करने और डी-रेडिकलाइजेशन के लिए प्रभावी तंत्र विकसित करने के लिए सामुदायिक पुलिस तंत्र का प्रयोग के लिए पुलिस अनुसंधान और विकास ब्यूरो, गृह मंत्रालय के महानिदेशक के प्रशस्ति प्रमाण पत्र से सम्मानित किया गया है।
उन्होंने राष्ट्रीय पुलिस मिशन के तीसरे राष्ट्रीय सम्मेलन में महानिदेशक की प्रशस्ति डिस्क और प्रमाण पत्र प्राप्त किया।
प्रोफेसर वारसी ने कहा कि यह रिपोर्ट सम्बंधित अध्ययन क्षेत्र में महत्वपूर्ण प्रभाव वाले समाधान प्रदान करने के इरादे से तैयार की गई थी। मुझे उम्मीद है कि रिपोर्ट को प्राप्त मान्यता के दृष्टिगत आने वाले वर्षों में इसके कार्यान्वयन से पुलिस और सार्वजनिक सेवाओं में इसका महत्व बढ़ेगा।
उन्होंने कहा कि यह रिपोर्ट मुख्य रूप से नीति निर्माताओं और वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के लिए है। यह इन मुद्दों में रुचि रखने वाले नागरिक समाज के सदस्यों के लिए एक उपयोगी संसाधन भी हो सकता है और पुलिस और नागरिकों के बीच परस्पर विश्वास को बढ़ावा देने में सहायक है।
——————————
एके तिब्बिया कालिज में फीवर क्लिनिक, टीकाकरण केंद्र का उद्घाटन
अलीगढ़, 13 जनवरीः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के अजमल खान तिब्बिया कालेज हास्पिटल परिसर में नेशनल कमीशन फार इंडियन सिस्टम आफ मेडिसिन (एनसीआईएसएम) और आयुष मंत्रालय के दिशा निर्देशों के अनुरूप फीवर क्लिनिक तथा बच्चों के लिए टीकाकरण केंद्र का उद्घाटन आज डाक्टर नीरज त्यागी (सीएमओ अलीगढ़) डाक्टर राहुल कुलश्रेष्ठ (डीएमओ अलीगढ़), प्रोफेसर एफ एस शेरानी (डीन, यूनानी चिकित्सा संकाय) द्वारा एकेटीसी की प्रिंसिपल प्रोफेसर शगुफ्ता अलीम व अन्य चिकित्सकों की उपस्थिति में किया गया।
इस अवसर पर चिकित्सा अधीक्षक एवं प्रिंसिपल प्रोफेसर शगुफ्ता अलीम ने कहा कि अजमल खां तिब्बिया कालिज में बच्चों और व्यस्कों के लिए अलग क्लीनिक आवश्यक था ताकि विशेष रूप से कोरोना संक्रमण के समय वायरल बुखार, नज़ला, सर्दी खांसी आदि से प्रभावित लोगों को अलग से उपचार की सुविधा उपलब्ध कराई जा सके।
उन्होंने कहा कि टीकाकरण केंद्र शिशुओं और बच्चों के माता-पिता के लिए एक वरदान होगा, जिन्हें टीकाकरण की आवश्यकता होती है। उन्होंने कहा कि एकेटीसी मेें टीकाकरण की सुविधा उपलब्ध होने से अन्य सार्वजनिक और निजी अस्पतालों के बोझ को भी कम करने में मदद मिलेगी।
इस अवसर पर अजमल खां तिब्बिया कालिज के तीन सेवानिवृत्त शिक्षकों प्रोफेसर हकीम अबू बकर खान, प्रोफेसर एमएमएच सिद्दीकी और प्रोफेसर हकीम अब्दुल मन्नान के अलावा प्रोफेसर तंज़ील अहमद, (मौलीजात विभाग) और डाक्टर मोहम्मद मोहसिन (अम्राज़-ए-जिल्द-वा-ज़ोहराविया विभाग) द्वारा नज़ला जुखाम से राहत और श्वसन स्राव के उपचार के लिए तैयार की गई यूनानी औषधि “जोशांदा हुमा वबाय्या” का भी उद्घाटन किया गया।
दवा के आविष्कारकों के अनुसार यह जोशांदा बुखार और नज़ले के रोगियों के लिए बहुत ही उपयोगी और लाभप्रद साबित होगा। फीवर ओपीडी और क्लिनिक में आने वाले रोगियों के लिए इस दवा का व्यापक रूप से उपयोग किया जाएगा।

...हमारी खबरों को अपने फेसबुक पेज, ट्यूटर & WhatsAap Gruop के जरिये दोस्तों को शेयर जरूर करें
error: Content is protected !!