जेएनएमसी के कर्मचारियों की ईमानदारी और समर्पण के लिए उन्हें बधाई: योगी आदित्यनाथ

अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कालिज का दौरा किया और मेडिकल कालिज को आवश्यक आक्सीजन आपूर्ति और रेमेडिज़वर इंजेक्शन सहित हर संभव मदद का आश्वासन दिया। मुख्यमंत्री ने निकटवर्ती ज़िलों में कोविड की स्थिति का भी जायज़ा लिया।
मुख्यमंत्री कोविड स्थिति का जायजा लेने तथा शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करने के लिए अलीगढ़ आए थे। उन्होंने बताया कि उन्हें प्रधानमंत्री ने एएमयू जाने की सलाह दी थी।
श्री योगी आदित्यनाथ ने एएमयू के कुलपति प्रोफेसर तारिक मंसूर सहित विश्वविद्यालय के अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में रजिस्ट्रार श्री अब्दुल हमीद (आईपीएस), जेएनएमसी प्रिंसिपल प्रोफेसर शाहिद ए सिद्दीकी, मेडीसिन संकाय के डीन प्रोफेसर राकेश भार्गव तथा कार्यवाहक चिकित्सा अधीक्षक प्रोफेसर अमजद अली रिज़वी उपस्थित थे।
कुलपति प्रोफेसर मंसूर ने कहा कि जेएनएमसी को आक्सीजन और रेमेडिज़वर की तत्काल आवश्यकता है। मेडिकल कालिज के कर्मचारी, जिसमें डाक्टर, नर्स और पैरामेडिकल शामिल हैं, अनुकरणीय समर्पण के साथ लगातार काम कर रहे हैं और उनमें से कई मरीजों की सेवा करते हुए संक्रमण से ग्रस्त भी हुए हैं। उन्हें आइसोलेशन पर जाने की आवश्यकता थी जिससे कर्मचारियों की कमी हो गई। उन्होंने जेएनएमसी के कर्मचारियों की ईमानदारी और समर्पण के लिए उन्हें बधाई दी।

ANM अतरौली के व्हाट्सअप ग्रुप में डॉ० कुलदीप राजपुरी का ‘अतरौली मोह’ …देखिये

प्रोफेसर मंसूर ने कहा कि यद्यपि हम कोविड की दूसरी लहर पर काबू पाने के लिये प्रयासरत है परन्तु हमें इस महामारी की तीसरी लहर से निपटने के लिये भी तैयारी करनी होगी जिसमें आशंका है कि बच्चे सब से अधिक प्रभावित होंगे। उन्होंने कहा कि इस लहर से सुरक्षा के लिये जेएन मेडिकल कालिज राज्य एवं केन्द्र सरकार के साथ मिलकर कार्य करेगा ताकि मेडिकल कालिज में आधारभूत सुविधाओं में वृद्धि की जा सके तथा इस प्रयास के अंतर्गत हमें मूल रूप से बच्चों से संबंधित आईसीयू तथा अन्य मेडिकल व्यवस्था को सुदृढ़ करना होगा। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय ने टेलीमेडिसिन सेवा शुरू की है और इसे और मजबूत करने की जरूरत है।
कुलपति ने कहा कि वह पीएमओ कार्यालय के लगातार संपर्क में हैं। उन्होंने कोविड काल में विश्वविद्यालय को लगातार सहायता प्रदान करने के लिए प्रधानमंत्री, केन्द्रीय शिक्षा मंत्री तथा मुख्य मंत्री एवं उनके कार्यालयों का आभार जताया।
कुलपति ने कहा कि विश्वविद्यालय द्वारा कोविड का टीका लगाने के लिए विश्वविद्यालय बिरादरी से आग्रह करने के उद्देश्य से लगातार निर्देशिका जारी की जा रही है तथा नोटिस, सर्कूलर एवं सोशल मीडिया आदि माध्यमों से उनसे टीका लगवाने के लिए आग्रह किया जा रहा है।
प्रोफेसर मंसूर ने आगे कहा कि विश्वविद्यालय ने जीनोम अनुक्रमण के लिए नमूने आईसीएमआर को भेजे हैं क्योंकि अलीगढ़ में कोविड वायरस के एक नए वैरियेंट के प्रसार का संदेह है।
कोविड की दूसरी लहर में अमुवि में उच्च मृत्यु दर के कारणों के बारे में बताते हुए प्रोफेसर शाहिद सिद्दीकी ने कहा कि वैक्सीन लेने में हिचकिचाहट तथा देर से मेडिकल कालिज लाये जाने आदि से मृत्यु संख्या में वृद्धि हुई। परन्तु सोशल मीडिया और अखबारों में एकतरफा, अस्वाभाविक तथा अतिरंजित मौत के आंकड़े प्रसारित किए जा रहे थे क्योंकि कई सेवानिवृत्त शिक्षक, जिनकी मृत्यु दिल्ली, नोएडा, गाजियाबाद, लखनऊ, भोपाल और मेरठ आदि में हुई, उन्हें भी इस सूची में शामिल कर लिया गया है।
इस कठिन समय में विश्वविद्यालय सभी कोविड प्रभावित परिवारों के दुख में बराबर का शरीक है।

Aligarh#मीडिया को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने की अपील, कोविड के प्रति जनजागरूता लाएं

…असत्यापित मामलों पर ध्यान नहीं देने की अपील
अलीगढ़, 13 मईः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कालिज के प्रिंसिपल और सीएमएस प्रोफेसर शाहिद अली सिद्दीकी ने लोगों से अपील की है कि वे मेडिकल कालिज में मरीजों का इलाज जारी रखें तथा झूठे एवं असत्यापित जानकारी पर ध्यान न दें। उन्होंने कहा कि कुछ स्वार्थी तत्वों द्वारा निहित स्वार्थों के लिये विश्वविद्यालय और मेडिकल कालिज की छवि को धूमिल करने के लिए सोशल मीडिया पर पोस्ट डाले जा रहे हैं।
प्रोफेसर सिद्दीकी ने कहा कि विश्वविद्यालय प्रशासन, मेडिकल कालिज के अधिकारी, डाक्टर और जिला प्रशासन के अधिकारी मिलकर मरीजों को बेहतरीन चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मेडिकल कालिज के कई डाक्टर, नर्स और पैरामेडिक्स अपने कर्तव्यों का पालन करते हुए कोविड-19 का शिकार हुए हैं।
प्रोफेसर सिद्दीकी ने महामारी के खिलाफ लड़ाई में साथ काम करने और डाक्टरों, नर्सों, पैरामेडिक्स और अन्य कर्मचारियों को प्रोत्साहित करने की आवश्यकता पर जोर दिया।

…कुलपति ने कोविड प्रोटोकाल के तहत ईद मनाने का आग्रह किया
अलीगढ़, 13 मईः ईद-उल-फित्र की पूर्व संध्या पर अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर तारिक मंसूर ने विश्वविद्यालय समुदाय से ईद के अवसर पर सुरक्षित तरीके से कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करते हुए ईद मनाने का आग्रह किया है।
उन्होंने कहा कि आमतौर पर इस अवसर पर लोग परिवारों और दोस्तों के साथ दावत का आयोजन करते हैं। परन्तु कोविड महामारी कोे देखते हुए इस वर्ष इस त्योहार को मनाने में वह खुशी और उत्साह नहीं होगी जो पारम्परिक रूप से होता है। इसके बावजूद हम घर पर रहकर अपने परिजनों को दूर से ईद की बधाई दे सकते हैं। मेरी ईश्वर से कामना है कि वह सभी लोगों को स्वस्थ एवं सुरक्षित रखे ताकि हम अपने परिवारजनों के साथ आगे भी कई त्योहार हर्षपूर्वक मना सकें।

...हमारी खबरों को अपने फेसबुक पेज, ट्यूटर & WhatsAap Gruop के जरिये दोस्तों को शेयर जरूर करें

Aligarh Media Group

www.aligarhmedia.com (उत्तर प्रदेश के अलीगढ जनपद का नंबर-१ हिंदी न्यूज़ पोर्टल) अपने इलाके की खबरे हमें व्हाट्सअप करे: +91-9219129243 E-mail: aligarhnews@gmail.com

You May Also Like

error: Content is protected !!