मण्डलायुक्त ने नवीन औद्योगिक आस्थान ख्यामई के विकास के सम्बन्ध में की बैठक

अलीगढ यूपी

अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ: मण्डलायुक्त गौरव दयाल की अध्यक्षता में कमिश्नरी सभागार में गभाना तहसील में नवीन औद्योगिक आस्थान ख्यामई को विकसित किये जाने के सम्बन्ध में बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में लघु उद्योग भारती से गौरव मित्तल, एफएसएमआई के उपाध्यक्ष पंकज धीरज, उर्वशी गौड, रीना अग्रवाल, अजय लिथो, यतीन्द्र मोहन झा, दिनेश चन्द्र वार्ष्णेय ने ख्यामई औद्योगिक आस्थान को विकसित किए जाने के सम्बन्ध में महत्वपूर्ण सुझाव दिये।

मण्डलायुक्त ने कहा कि अलीगढ़ औद्योगिक निवेश व विकास के लिए खासा महत्वपूर्ण जनपद है। यहां विकास एवं निवेश की अपार सम्भावनाएं हैं। ख्यामई में औद्योगिक आस्थान विकसित होने से सथानीय उद्योगों को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा स्थानीय उद्योगों को बढ़ावा देने और स्थानीय स्तर पर ही उन्हें बड़ा प्लेटफार्म देने के उद््देश्य से ख्यामई औद्योगिक आस्थान की स्थापना की जा रही है। खास बात यह है कि ख्यामई औद्योगिक आस्थान से सटा हुआ एक्सप्रेस वे, पलवल-टप्पल फोरलेन, दिल्ली एनसीआर, फरीदाबाद, गुरूग्राम, मेरठ की दूरी कम होने से आवागमन एवं सफलतापूर्वक आयात-निर्यात सम्भव हो सकेगा।

…स्थानीय लोगों को मिलेगा रोजगार :
स्थानीय उद्योगों को बढ़ावा देने के उद््देश्य से बनाए जा रहे औद्योगिक आस्थान में स्थानीय स्तर के लोगों को प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार उपलब्ध हो सकेगा। ताला एवं हार्डवेयर के हव के तौर पर पहचान संजोए अलीगढ़ में विकास, आयात-निर्यात की असीम सम्भावनाएं हैं। औद्योगिक आस्थान के मूर्त रूप लेने से इन सम्भावनाओं को पंख लगना तय है।

अलीगढ में पहले ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र की हुई स्थापना, डीडीयू के 50 बेड को होगी आपूर्ति

फेडरेशन ऑफ स्माल एण्ड मीडियम इंडस्ट्रीज ने ख्यामई में औद्योगिक आस्थान विकसित किए जाने के सम्बन्ध में सुझाव दिया कि किसी भी आस्थान को विकसित करने के लिए निर्बाध विद्युत आपूर्ति का विशेष महत्व होता है, इसलिए आवश्यक है कि औद्योगिक आस्थान में उच्च गुणवत्ता के विद्युत उपकरण लगाए जाएं जिससे लाइन लॉस के बिना सभी इकाईयों को निरन्तर विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित हो सके। इसके साथ ही उन्होंने संयुक्त रूप से एफ्लुएंट ट्रीटमेंट प्लांट (ईटीपी) की स्थापना करने का भी सुझाव दिया। उन्होंने सम्पूर्ण ख्यामई औद्योगिक आस्थान को सुरक्षा की दृष्टि से चाहरदीवारी से आरक्षित करने और आवागमन के लिए सड़कों को कम से कम 100 फीट चौड़ा रखने का सुझाव दिया। एफएसएमआई के सदस्यों ने पुलिस चौकी, फायर स्टेशन, बस स्टैण्ड, सीवर लाइन समेत औद्योगिक आस्थान से जीटी रोड व खैर रोड तक समुचित प्रकाश व्यवस्था रखने का भी सुझाव दिया।

लघु उद्योग भारती के गौरव मित्तल ने ख्यामई औद्योगिक क्षेत्र को शासन द्वारा स्वीकृति प्रदान किये जाने पर सभी प्रशासनिक अधिकारियों का आभार प्रकट करते हुए कहा कि नवीन औद्योगिक आस्थान व्यावसायीयों, निवेशकों के साथ ही जनपद अलीगढ़ के कुशल एवं दक्ष और कुछ कर गुजरने की चाह रखने वाले नवयुवकों के लिए एक नया सवेरा लेकर आएगा। उन्होंने ख्यामई औद्योगिक आस्थान से दोनों राष्ट्रीय राजमार्गों तक फोरलेन कनेक्टिविटी दिये जाने का सुझाव दिया। उद्यमियों के उत्पादों की प्रदर्शनी का आयोजन विदेशी आयातकों को भ्रमण कराए जाने के उद््देश्य से कॉमन फेसेलिटी सेंटर की स्थापना की साथ ही औद्योगिक इकाईयों के निर्माण कार्य प्रारम्भ करने वाले उद्यमियों को प्राथमिकता देने का सुझाव दिया। गौरव मित्तल ने भूखण्डों का क्षेत्रफल 500 वर्गमीटर से 1000 वर्गमीटर रखने का सुझाव देते हुए भूखण्डों की कीमत सस्ती दर पर रखे जाने का सुझाव दिया। रीना अग्रवाल ने पर्यावरण संरक्षण को ध्यान में रखते हुए हजार्ड््स वेस्ट को एकत्रित कर उसका समुचित तरीके से डिस्पोजल किये जाने का भी सुझाव दिया। बैठक का संचालन उपायुक्त उद्योग श्रीनाथ पासवान द्वारा किया गया। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी अंकित खण्डेलवाल भी उपस्थित रहे।

 

...हमारी खबरों को अपने फेसबुक पेज, ट्यूटर & WhatsAap Gruop के जरिये दोस्तों को शेयर जरूर करें