कोविड-19 संक्रमण से लोगों को सुरक्षित रखने को 15जनवरी तक रैली जनसभा रोड शो पदयात्रा पर रहेगा प्रतिबंध

अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ| जिला निर्वाचन अधिकारी सेल्वा कुमारी जे. की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में राजनीतिक दलों से आदर्श आचार संहिता का कड़ाई से अनुपालन कराए जाने के संबंध में बैठक का आयोजन किया गया। जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि विधानसभा सामान्य निर्वाचन 2022 के निर्वाचन कार्यक्रम की घोषणा के तुरंत पश्चात जनपद में आदर्श आचार संहिता के प्रावधान लागू कर दिए गए हैं। डीईओ ने स्पष्ट किया कि सभी राजनीतिक दलों, पार्टी पदाधिकारियों को भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी आदर्श आचार संहिता का अक्षरशः अनुपालन करना है, यदि किसी भी दल या पदाधिकारी द्वारा आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन किया जाता है, तो भारत निर्वाचन आयोग की सुसंगत धाराओं के तहत कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने बताया कि विधानसभा सामान्य निर्वाचन को स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न कराने के साथ ही कोविड-19 संक्रमण से लोगों को सुरक्षित रखने की भी उनकी प्राथमिकता रहेगी।

डीएम श्रीमती सेल्वा कुमारी जे ने रविवार को कलेक्ट्रेट सभागार में राजनीतिक दलों के पदाधिकारियों के साथ बैठक करते हुए बताया कि 15 जनवरी तक रैली, जनसभा, रोड शो, पद यात्रा पर भारत निर्वाचन आयोग द्वारा पूरी तरह से प्रतिबंध लगाया गया है। उन्होंने बताया कि आदर्श आचार संहिता का अक्षर से पालन कराने के लिए जिला प्रशासन पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। मतदाता सूची में यदि पात्र मतदाताओं का नाम जुड़ने से छूट गया है तो नामांकन तिथि से पूर्व तक आवेदन दिया जा सकता है। मतदाता सूची का प्रकाशन हो गया है, सभी पार्टी पदाधिकारी देख लें यदि अभी कोई संशोधन कराना है तो आवेदन कर सकते हैं। प्रत्याशी का यदि आपराधिक रिकॉर्ड है तो उसे तीन बार सार्वजनिक करना होगा। नामांकन के दौरान जो भी प्रपत्र जमा किए जा रहे हैं, वह सभी सही और वैध हों। नामांकन भरते समय गलतियां भारी पड़ सकती हैं, इसलिए आवश्यक है कि नामांकन पत्रों को सही सही ढंग से भरा जाए। नामांकन के दौरान भारत निर्वाचन आयोग द्वारा तय किए गए निर्धारित समय का विशेष ध्यान रखा जाए।

उप जिला निर्वाचन अधिकारी राकेश कुमार पटेल ने बताया कि एक रैली निकलने के बाद दूसरी रैली के मध्य 30 मिनट का समय का अंतर रखा जाएगा। हालांकि 15 जनवरी तक अभी किसी प्रकार का रोड शो, पदयात्रा या रैली के आयोजन पर भारत निर्वाचन आयोग द्वारा प्रतिबंध लगाया गया है। नामांकन के लिए अधिकतम 2 वाहन ही प्रयोग में लाए जाएंगे, जो निर्धारित स्थान तक ही जा पाएंगे। नामांकनकर्ता के साथ प्रत्याशी सहित तीन व्यक्ति ही अंदर नामांकन कक्ष में प्रवेश कर सकेंगे।पार्टी पदाधिकारियों द्वारा क्षेत्र में खोले जाने वाले दफ्तर संबंधित रिटर्निंग ऑफिसर से लिखित अनुमति के उपरांत ही खोल सकेंगे। उन्होंने कहा कि कोविड-19 कड़ाई से अनुपालन कराया जाएगा। मास्क का अनिवार्य रूप से प्रयोग करें, खुद सुरक्षित रहें दूसरों को भी सुरक्षित रखें। उन्होंने बताया कि राजनीतिक दलों, प्रत्याशियों को किसी प्रकार की कोई समस्या या शिकायत है तो लिखित में निर्वाचन कार्यालय को दे सकते हैं।

वरिष्ठ कोषाधिकारी महिमा चंद्र ने बताया कि प्रत्याशियों का नया खाता खोल लिया जाए और निर्वाचन के संबंध में उसी से निर्वाचन संबंधित खर्च किए जाएं। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा एक प्रत्याशी को 40 लाख रुपए तक की व्यय सीमा निर्धारित की गई है। प्रत्याशी इस बात का ध्यान रखें कि चुनावी खर्चे के लिए व्यय प्रेक्षक जनपद में रहकर पाई-पाई का हिसाब रखेंगे। यदि निर्धारित सीमा से अधिक खर्च करना पाया जाता है, तो संबंधित के विरुद्ध कार्यवाई अमल में लाई जाएगी। उन्होंने बताया कि प्रथम चरण में आयोजित होने वाले मतदान पर आयोग की पैनी निगाह रहेगी। मतदाताओं को किसी तरह का प्रलोभन, शराब, पैसा का वितरण न किया जाए। वरिष्ठ कोषाधिकारी ने विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि वाहन में 10 हजार से अधिक की सामग्री पाई जाती है तो साक्ष्य या समाधान न होने पर उसे जब्त किया जा सकता है। निर्वाचन के लिए अनुमति वाले वाहन में ₹50000 पाए जाने पर जब्ती की कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। स्टार प्रचारक ₹100000 तक की धनराशि रख सकते हैं, परंतु इस संबंध में पार्टी कोषाध्यक्ष की अनुमति अनिवार्य रहेगी। 10 लाख की राशि पर आयकर विभाग को सूचित करना होगा। उन्होंने बताया कि निर्वाचन के दौरान प्राप्त अनुमति पत्रक को वाहन के शीशे पर सामने डिस्प्ले करना होगा। यदि अनुमति का निरस्तीकरण किया गया है तो तत्काल सूचित करते हुए अनुमति पत्रक को वाहन से हटाना होगा। रैली का संपूर्ण व्यय आकलन कर देना होगा, तभी रैली या जनसभा की अनुमति मिल सकेगी। बिना इजाजत रैली का आयोजन नहीं होगा। मतदान के दौरान बनने वाले बूथ का खर्चा एवं प्रयोग किये जा रहे वाहन का खर्चा प्रत्याशी के व्यय में जोड़ा जाएगा।

अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व विधान जयसवाल ने बताया कि राजनैतिक दल नामांकन के दौरान अनावश्यक भीड़ ना लाएं और भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी आदर्श आचार संहिता का शत-प्रतिशत अक्षरशः अनुपालन करना सुनिश्चित करें। पेड न्यूज़ और सोशल मीडिया पर अनर्गल बयानबाजी या एक दूसरे पर टीका टिप्पणी से संबंधित खबरों से बचा जाए। निर्वाचन के दौरान मीडिया प्रमाणन एवं अनुवीक्षण समिति के साथ सोशल मीडिया टीम पूरी तरह सक्रिय रहेगी। इस तरह की कोई जानकारी संज्ञान में आती है तो संबंधित के विरुद्ध भारत निर्वाचन आयोग की सुसंगत धाराओं के तहत कार्रवाई की जाएगी।

बैठक में नगर मजिस्ट्रेट प्रदीप कुमार वर्मा, अधिशासी अभियंता पीडब्ल्यूडी संजीव पुष्कर, सहायक जिला निर्वाचन अधिकारी कौशल कुमार, बीजेपी से शिवनारायण शर्मा, शैलेंद्र गुप्ता, बीएसपी से फारूक अहमद, आप से नदीम अंजुम, समाजवादी पार्टी से डॉ कृपाल सिंह यादव, आरएलडी से राहुल शर्मा, पी आई एम से इदरीश मोहम्मद एवं आईएनसी से नदीम गफूर उपस्थित रहे।

...हमारी खबरों को अपने फेसबुक पेज, ट्यूटर & WhatsAap Gruop के जरिये दोस्तों को शेयर जरूर करें
error: Content is protected !!