अलीगढ| कोविड की दोनों खुराक लेकर समय से खुद व अपने परिवार को भी सुरक्षित रखें: डॉ. एमके माथुर

अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ: कोविड-19 संक्रमण को रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग जनपद में विभिन्न प्रयास कर रहा है। एक तरफ सघन जांच तो दूसरी तरफ कोविड वैक्सीनेशन दोनों को धरातल पर बेहतर परिणाम देने के लिए नई – नई रणनीति अपना आ रहा है। इसी बीच में मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि जनपद में एक कोविड केस पाया गया है। विभागीय अधिकारी मरीज और उसके सम्पर्क में आने वाले लोगों पर नजर बनाये हुए हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ आनंद उपाध्याय ने बताया कि जनपद में कोविड वैक्सीनेशन का अब तक 16,218 ग्राफ हुआ है । उन्होंने बताया कि जिले में पहली डोज 17,13,005 व दूसरी डोज 6,73,725 और जिले में अब तक कुल 23,86,730 टीका लगाया जा चुका है ।

सीएमओ ने बताया कि कोविड-19 को जांचने के लिए दो दिन में 6,723 कोविड एंटीजन टेस्ट किए गए। जिसमें जांच के चलते दो दिनों में 3,356 आरटीपीसीआर जांच की गई। इन दो दिनों में जिले में एक संक्रमित पाया गया है। कोविड संक्रमण पाए जाने हेतु जांच के दौरान कोरोना के लक्षण मिलें हैं। स्वास्थ विभाग पूरी तरीके से सतर्क है। यह बीमारी किसी भी तरीके से बढ़ने न पाए इसके लिए विभाग एकदम हाई अलर्ट पर है। स्वास्थ्य विभाग ने अन्य विभागों को भी सूचित कर दिया है। जिसमें नगर पालिका, नगर निगम व पंचायती राज्य विभाग है। सीएमओ के निर्देशानुसार सरकारी अस्पतालों पर बेहतर तरीके से स्वास्थ्य सेवाएं की जाएं। इसके लिए स्वास्थ विभाग हर दिन प्रयासरत है।

सीडीओ श्री अंकित खंडेलवाल ने कहा कि जिले में भ्रमण के दौरान कोविड-19 संक्रमण से बचाव के लिए टीकाकरण का प्रतिशत कम होने पर नाराजगी जताई थी। सीडीओ श्री खंडेलवाल ने जनपद में कोविड की सैंपल हेतु जांच बढ़ाने के लिए निर्देश दिए हैं। इसी संबंध में टीकाकरण अभियान को गति देने के लिए कलेक्ट्रेट कार्यालय के सभागार में बैठक की गई, जिसमें अधिकारियों ने एएनएम, आशा, आंगनबाड़ी कार्यकत्री, कोटेदार, स्वयं सहायता समूह, ग्राम प्रधान व ग्राम पंचायत सचिवों को टीकाकरण अभियान के प्रति सजग रहने और लोगों को कोरोनारोधी टीका लगवाने के प्रति जागरूक करने के निर्देश दिए। सीडीओ ने जिले में शहरी क्षेत्र से देहात क्षेत्रों में भी कोविड की सेंपलिंग हेतु जांच बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। महामारी से बचाव के लिए टीकाकरण जरूरी है। घर-घर जाकर लोगों को टीका लगवाने के लिए प्रेरित करें।

कोरोनावायरस: कैसे सुरक्षित रहें और प्रसार की रोक-थाम में कैसे मदद करें

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ एमके माथुर ने कहा कि कोविड-19 अब भी एक जोखिम है, दोनों टीके लगने के बावजूद भी कोविड-19 की चपेट में आना और उसे फैलाना संभव है। कोविड-19 के लक्षण हैं या परीक्षण का परिणाम पॉजिटिव आया है ऐसे किसी भी व्यक्ति को घर पर रहना चाहिए और तुरंत सेल्फ-आइसोलेट करना चाहिए। अगर आप में कोविड-19 के लक्षण नज़र आ रहे हैं, तो जितनी जल्दी संभव हो आपको एक पीसीआर परीक्षण करवाने का बंदोबस्त करना चाहिए, भले ही आपको कोविड-19 टीके के एक या अधिक डोज क्यों न लग चुके हों।

...हमारी खबरों को अपने फेसबुक पेज, ट्यूटर & WhatsAap Gruop के जरिये दोस्तों को शेयर जरूर करें
error: Content is protected !!