जनता से वित्तपोषित, UPI, PhonePe, और PayTM: 9219129243

स्कोप ने लखनऊ में ‘आरटीआई अधिनियम पर राष्ट्रीय बैठक’ का आयोजन किया

0

                                   


     

अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, लखनऊ/अलीगढ़| स्टैंडिंग कॉन्फ्रेंस ऑफ पब्लिक एंटरप्राइजेज (स्कोप) द्वारा आयोजित श्आरटीआई अधिनियम की राष्ट्रीय बैठकश् का उद्घाटन श्री वाई.के.सिन्हा, मुख्य सूचना आयुक्त के  द्वारा  श्री के. रविन्द्र नायक, प्रमुख सचिव प्रशासनिक सुधार, लोक सेवा प्रबंधन एवं सचिवालय प्रशासन विभाग, उत्तर प्रदेश की उपस्थिति में किया  गया । श्री अतुल सोबती, स्कोप के महानिदेशक ने भी दो दिवसीय कार्यक्रम के उद्घाटन सत्र को संबोधित किया। यूपी सरकार और सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों (पीएसई) के वरिष्ठ अधिकारी भी इस  कार्यक्रम  मैं  उपस्थित थे। कार्यक्रम में सार्वजनिक उपक्रमों के १०० से अधिक प्रतिभागी भाग ले रहे हैं।

अपने उद्घाटन भाषण में श्री वाई.के. सिन्हा ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यम (पीएसई) हमारे देश के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, उन्हें पारदर्शिता, जवाबदेही और सुशासन सुनिश्चित करना चाहिए। श्री सिन्हा ने कहा कि पारदर्शिता और जवाबदेही किसी संगठन के प्रदर्शन की आधारशिला होती है। श्री के. रविन्द्र नायक ने सूचना चाहने वालों और सार्वजनिक प्राधिकरणों के लाभ और ज्ञान उन्नयन के लिए, लखनऊ में स्कोप आरटीआई सम्मेलन के आयोजन के लिए सराहना की । खास करके देश के सबसे बड़े राज्य में, जहाँ सबसे ज्यादा आरटीआई आवेदन प्राप्त होते हैं। अतुल सोबती ने कहा कि आरटीआई एक नागरिक केंद्रित अधिनियम है जो पारदर्शिता, नैतिकता, जवाबदेही से नागरिकों को सशक्त बनाता है। उन्होंने इस बात पर प्रकाश डाला कि चूंकि पीएसई भारतीय अर्थव्यवस्था के महत्वपूर्ण स्तंभ हैं, स्कोप, देश के विभिन्न क्षेत्रों में ज्ञान और अनुभव साझा करने कार्यक्रम आयोजित करता रहा है।

स्कोप की राष्ट्रीय बैठक का उद्देश्य वरिष्ठ अधिकारियों, पीआईओ, नोडल अधिकारियों और पीएसई के अधिकारियों को आरटीआई अधिनियम और इसमें शामिल मुद्दों की बेहतर जानकारी प्राप्त करने में सक्षम बनाना है। स्कोप,  नियमित रूप से आरटीआई, कॉर्पोरेट प्रशासन, जलवायु परिवर्तन, महिला सशक्तिकरण, नेतृत्व, डिजिटल परिवर्तन आदि जैसे विषयों पर देश भर में कार्यशालाएं और क्षमता निर्माण कार्यक्रम आयोजित करता है।

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)