"..किसी भी खबर पर आपत्ति के लिए हमें ई-मेल से शिकायत दर्ज करायें"

अतरोली| नगर पालिका परिषद में बाबू के पद पर तैनात नवीन जैन पर बेरोजगारो को नौकरी के नाम पर ठगने का आरोप


अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अतरौली। नगर पालिका परिषद में तैनात एक बाबू ने अलीगढ़ कमिश्वर कार्यालय में तैनाती के समय एक दर्जन वाल्मीकियों को अलीगढ़ नगर निगम में नौकरी दिलाने के बहाने लाखों रुपयों से ठग लिया। नौकरी लगाने के लिए वसूले गये रिश्वत के लाखों रुपये लेने वाले कर्मचारी ने फर्जी नियुक्ति अधिकारी बनकर उनको नियुक्ति पत्र भी जारी कर दिये। जिससे अन्य वाल्मीकि समाज के लोग भी उसके झासें में आ गये और लाखों रुपये ले लिये। अब यह बाबू अतरौली नगर पालिका परिषद में तैनात है। 

नगर पालिका परिषद अधिकारियों के आदेश पर पॉलिथिन पकड़ों अभियान चलाया जा रहा था। पालिका के अधिकारियों ने इस बाबू को पॉलिथिन अभियान में लगाया हुआ है। दोपहर के समय यह बाबू दुकानों से पॉलिथिन तलाश कर रहा था तभी बाइकों पर सवार अलीगढ़ के करीब एक दर्जन वाल्मीकि समाज के लोग आ धमके और कोतवाली ले जाने के लिए उसकी खीचा तानी करने लगे। एक वालमीकि युवक ने पुलिस कंट्रोल को फोन कर दिया। बडा बाजार अतरौली में आयी लैपर्ट पुलिस के आने के बाद यह बाबू अपनी बाइक छोड़कर एक साथी के साथ फरार हो गया। वाल्मीकि समाज के लोगों ने बाइक पुलिस के हवाले करते हुए कोतवाली पहुंच गये। जहां पर पहले तो तहरीर लेने से पुलिस ने मना कर दिया। मगर जब वाल्मीकि समाज के लोग वाल्मीकि नेता प्रदेश के राजस्व मंत्री अनूप प्रधान को बुलाने लगे तो उनकी तहरीर को पुलिस ने लेकर जांच का आश्वासन दे दिया है। 

विश्वास दिलाने के लिए वेतन भी खाते में डाला: नियक्ति पत्र जारी करने के बाद जब वेतन चार माह से नहीं मिला तो कर्मचारियों की शिकायत के बाद उनके खाते में ऑन लाइन एक एक दो दो माह वेतन डाला गया। मगर इसकी वाल्मीकि समाज के लोगों ने जांच की गयी तो पता चला कि नगर निगम अलीगढ़ की ओर से इन कर्मियों को कोई वेतन नहीं दिया। निगम अधिकारियों ने जब नियुक्ति पत्र देखे तो दंग रह गये उन्होंने इन नियक्ति पत्रों को फर्जी बता दिया। अब वाल्मीकि समाज के लोग नौकरी के नाम पर लिए गए लाखों रुपये वसूलने के लिए इस बाबू से कानूनी लड़ाई की तैयारी कर रहे हैं। 

कोतवाली प्रभारी निरीक्षक देवेन्द्र कुमार सिंह ने बताया कि वाल्मीकि समाज के लोगों ने नगर पालिका परिषद में तैनात बाबू नवीन जैन के खिलाफ तहरीर दे दी है। पुलिस ने इस तहरीर के साथ ठगे के साक्ष्य भी लिए हैं उनकी जांच की जाएगी।  अतरौली में भी हुई है इस तरह की ठगी: नौकरी लगवाने के लिए ली गयी लाखों रुपये की शिकायत अतरौली में हो चुकी है। नियुक्ति पत्र जारी किए जाने के बाद जब भंडाफोड़ हुआ तो नियुक्ति पत्र फर्जी पाये गये।  

 (अमित सक्सेना की रिपोर्ट)

------------------

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.