"..किसी भी खबर पर आपत्ति के लिए हमें ई-मेल से शिकायत दर्ज करायें"

विकास कार्यों की समुचित जानकारी क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों को होनी चहिये: राजस्व राज्यमंत्री


अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ़/दिल्ली। सांसद, जिला पंचायत अध्यक्ष, विधायकगणों के साथ ही स्थानीय जनप्रतिनिधियों से आपसी समन्वय बनाए रखने, उनके सुझाव प्राप्त करने के संबंध में मा. मुख्यमंत्री जी द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुपालन में शनिवार को कलेक्ट्रेट सभागार में प्रदेश के मा. राजस्व राज्य मंत्री की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक का आयोजन किया गया। बैठक की अध्यक्षता करते हुए प्रदेश के मा. राज्य मंत्री श्री अनूप प्रधान ने कहा कि समन्वय बैठक में जनहित एवं विकास कार्यों से जुड़े जो भी सुझाव, बिंदु उठाए गए हैं, उनका अनुपालन कराया जाए।


      मा. राजस्व राज्य मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार के साथ ही शासन, प्रशासन की भी मंशा है, कि सभी का एक समान विकास हो। प्रदेश सरकार द्वारा संचालित योजनाओं की जानकारी जनसामान्य को होने के साथ ही उनका समुचित लाभ भी पात्र एवं जरूरतमंदों को मिलना चाहिए। विकास एवं निर्माण कार्यों की समुचित जानकारी स्थानीय जनप्रतिनिधि को होनी चाहिए। विभागीय लापरवाही के कारण ऐसा ना होने से विकास कार्यों का श्रेय स्थानीय जनप्रतिनिधियों को नहीं मिल पाता है, जिससे इसका सरकार की छवि पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। विद्युत आपूर्ति के क्षेत्र में काफी सुधार हुआ है। जनता से जुड़ी जो भी समस्याएं हैं, उनका प्रभावी निराकरण सुनिश्चित कराया जाए। किसानों का हित एवं जनशिकायत निस्तारण सरकार की सर्वाेच्च प्राथमिकता है। इसमें किसी भी स्तर पर लापरवाही न बरती जाए। उन्होंने कहा कि जिला एवं तहसील प्रशासन द्वारा जनहित में बेहतर कार्य किए जा रहे हैं। काफी बदलाव भी आया है, परंतु निचले स्तर पर आदेशों का समयबद्धता के साथ क्रियान्वयन नहीं होना चिंता का विषय है। सभी उप जिलाधिकारी सुनिश्चित करें कि उनके द्वारा किए गए आदेशों का क्रियान्वयन एवं अनुपालन सुनिश्चित हो ताकि मामलों का स्थाई निस्तारण हो सके। देखने में आ रहा है कि जनशिकायतों के निराकरण के लिए आयोजित होने वाली विभिन्न प्रकार के दिवसों में भीड़ कम नहीं होती दिख रही है।


      मा. सांसद श्री सतीश गौतम ने कहा कि बड़े हर्ष का विषय है कि मा. मुख्यमंत्री जी द्वारा दिए गए निर्देशों का जनपद में प्रभावी ढंग से अनुपालन हो रहा है। परिणाम स्वरूप स्थानीय जनप्रतिनिधियों के साथ जिला, पुलिस एवं विकास विभाग के अधिकारियों के साथ यह दूसरी बैठक है। उन्होंने ट्रांसपोर्ट नगर, सड़क चौड़ीकरण, जाम की समस्या से निजात दिलाने, हवाई अड्डे का संचालन, डिफेंस कॉरिडोर का समुचित विकास कराए जाने के संबंध में आवश्यक सुझाव व बिंदु उठाते हुए जनपद का चहुँमुखी विकास कराए जाने संबंधी सुझाव दिए।


      जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती विजय सिंह ने जिला पंचायत क्षेत्र के ग्रामों को प्राधिकरण क्षेत्र में सम्मिलित न किये जाने की बात कही। साथा चीनी मिल के प्रकरण को भी शासन के संज्ञान में लाकर किसानों की समस्याओं का हल तलाशे जाने के संबंध में भी अपने सुझाव दिए। विधायक श्रीमती मुक्ता संजीव राजा ने वोटर लिस्ट को आधार से जोड़े जाने एवं विशेष तिथियों के बारे में व्यापक प्रचार प्रसार कराए जाने सहित नगर निगम से संबंधित विभिन्न बिंदुओं पर विस्तार से चर्चा की। विधायक छर्रा ठाकुर रविंद्र पाल सिंह ने कहा कि विकास विभागों द्वारा क्षेत्रीय विकास कार्यों के शिलान्यास एवं लोकार्पण की जानकारी स्थानीय जनप्रतिनिधियों को नहीं दी जाती है। जिस पर डीएम ने मुख्य विकास अधिकारी को इस संबंध में सर्कुलर निर्गत करने के निर्देश दिए। विधायक छर्रा ने किसानों द्वारा ट्यूबवेल क्षमता वृद्धि, विद्युत बिलों में गड़बड़ी में सुधार के संबंध में सुझाव दिए। कोल विधायक श्री अनिल पाराशर ने शहरी क्षेत्रों के आसपास बसी कॉलोनियों को शहरी फीडर से विद्युत आपूर्ति प्रदान करने, सर्किट हाउस से एटा चुंगी कमालपुर की तरफ जाने वाले नाले का सौंदर्यीकरण एवं सड़क चौड़ीकरण का कार्य कराए जाने के साथ ही वन चेतना केंद्र मुकुंदपुर को नगर पंचायत मडराक के संरक्षण में दिए जाने संबंधी सुझाव दिए।


      जिलाधिकारी श्री इंद्र विक्रम सिंह ने मा. मंत्री जी समेत सभी जनप्रतिनिधियों का समन्वय बैठक में प्रतिभाग करने एवं अपने अमूल्य सुझावों एवं मार्गदर्शन देने के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि इस महत्वपूर्ण सदन में जो भी सुझाव दिए गए हैं उन पर अमल कराया जाएगा। उन्होंने सभी एसडीएम को निर्देशित किया व तहसील स्तर पर शिकायतों के निराकरण के संबंध में कार्य योजना तैयार करें। विकास कार्यों से जुड़े अधिकारियों को निर्देशित किया गया कि वह क्षेत्र में कराए जा रहे विकास कार्यों की जानकारी अनिवार्य रूप से स्थानीय जनप्रतिनिधियों को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। बैठक के अंत में उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि कार्यालयों में ज्यादा लोगों का आना जहां आपकी लोकप्रियता का द्योतक होता है, वहीं आपकी अक्षमता भी एक वजह हो सकती है, इसलिए अधिकारी अपनी कार्यशैली पर विशेष ध्यान दें। इस अवसर पर मा. मंत्री जी एवं जनप्रतिनिधियों द्वारा कृषि विभाग से जुड़ी विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों को प्रमाण पत्र एवं प्रमाणित बीज किट का भी वितरण किया गया।


     इस अवसर पर महानगर अध्यक्ष श्री विवेक सारस्वत, नगर महामंत्री श्री वैभव गौतम, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी, नगर आयुक्त गौरांग राठी, सीडीओ अंकित खण्डेलवाल, सभी एडीएम, नगर मजिस्ट्रेट, समस्त एसडीएम, डीआईओएस, बीएसए, डीपीआरओ, उपनिदेशक कृषि एवं लोक निर्माण व विद्युत विभाग के अधिशासी अभियंता गण उपस्थित रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.