"..किसी भी खबर पर आपत्ति के लिए हमें ई-मेल से शिकायत दर्ज करायें"

अतरौली| जिस सरकारी स्कूल में कुत्ता पी रहा है था 'दूध' वहां 'चूल्हे' पर बनता है मिल-डे-मिल, वायरल वीडियो में दिखी हकीकत

0




अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ़। एमडीएम वितरण के तहत बुधवार को बच्चों को दूध देने का भी प्रावधान है। मगर असलियत में कई विद्यालयों में दूध वितरण नहीं किया जाता। लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री रहे कल्याणसिंह और बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री संदीप सिंह के गृह विधानसभा इलाके के अहमदपुरा गांव के सरकारी स्कूल में कुत्ता दूध पी रहा है| यह दूध मिड डे मिल के तहत बच्चों वितरित कराये जाने वाला बताया जा रहा है| वीडियो में कुत्ता दूध पी रहा है, यह वीडियो तेजी से शोशल मीडिया पर वायरल हुया जिसके बाद प्रकरण पर अफसरों ने जांच कराने की बात कही और दूध पिलाने वाले शिक्षक को निलंबित कर दिया गया है|


हालाँकि इस प्रकरण में आरोपी टीचर मोहम्मद आमिर  से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि वह कुत्ता उनका पालतू है। कुत्ता स्कूल में लगे फूल और पौधों की रखवाली करता है। वहीं दूसरी वीडियो में वह कुत्ता क्लास में बच्चों के पास बैठा दिखाई दे रहा है। फिर भी शिक्षक ने कहा कि वे रोज उसके लिए 30 रुपये का दूध और 25 रुपये के बिस्कुट लाते हैं। ऐसे में सवाल उठता है कि अगर कुत्ता पालतू भी है तो उसको स्कूल में दूध पिलाना और मास्साब की मेज के नीचे बैठाना किस आधार से उचित है?

हालाँकि मामले ने टूल पकड़ा तो शिक्षा विभाग के अधिकारियो ने आरोपी शिक्षक को निलंबित कर दिया है| 


...


....वायरल वीडियो में दिख रहा है चूल्हे पर मिड -डे-मिल पकता 


अतरौली विकास खंड के अहमदपुरा गांव के जिस अंगेजी मीडियम प्राथमिक विद्यालय में कुत्ता दूध पीते वीडियो में दिखाई डे रहा है उसी वीडियो में यह भी दिखाई डे रहा है कि स्कूल में मिड डे मिल गैस सिलेंडर पर नहीं बन रहा है बल्कि चूल्हा चल रहा है| हालाँकि सरकार ने सभी स्कूलों के गैस सिलेंडर कनेक्शन दें रखे है| लेकिन गैस सिलेंडर के स्थान पर स्कूल में धुँए वाले चूल्हे का इस्तेमाल कौन करा रहा है यह भी जाँच का विषय है| सरकार का साफ़ आदेश है कि स्कूलों में मिड डे मिल बनाने के लिए रसोई में गैस सिलेंडर का इस्तेमाल होगा| लेकिन इस स्कूल में जयादातर दिनों में धुएं वाला चूल्हा ही मिल डे मिल पकने में इस्तेमाल होता है| वायरल वीडियो में दूध पीते कुत्ते के साथ यह भी दिख रहा है|  


एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)