मुख्यमंत्री योगी जी के अलीगढ भ्रमण की संभावना से जिला प्रशासन हुआ अलर्ट, कार्यो में तेजी लाने के दिये निर्देश

0


अलीगढ न्यूज़  डॉट कॉम, अलीगढ़|  मा0 मुख्यमंत्री जी के कदमों की आहट अलीगढ़ की तरफ होते ही जिला प्रशासन पूरी तरह से सक्रिय हो गया है। जिलाधिकारी इंद्र विक्रम सिंह द्वारा मंगलवार को कलेक्ट्रेट परिसर का निरीक्षण करने के उपरांत बुधवार को केंद्र एवं प्रदेश सरकार की दो महत्वाकांक्षी परियोजनाएं राजा महेंद्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय एवं डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर का स्थलीय निरीक्षण किया गया। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सहारनपुर और मेरठ मंडल के निरीक्षण के उपरांत ऐसा माना जा रहा है कि मा0 मुख्यमंत्री जी कभी भी अलीगढ़ मंडल की तरफ रुख कर सकते हैं। मंडलायुक्त गौरव दयाल द्वारा मंडलीय समीक्षा बैठक में सभी जिलाधिकारियों को इस बाबत आवश्यक निर्देश भी पूर्व में ही दिए जा चुके हैं। जनपद क्या मंडल के सभी विभागीय अधिकारी मा0 मुख्यमंत्री जी के आगमन की तैयारियों में जुटे हुए हैं। हालांकि अभी मा0 मुख्यमंत्री जी का कोई आधिकारिक निरीक्षण कार्यक्रम जारी नहीं हुआ है। ऐसा माना जा रहा है कि मा0 मुख्यमंत्री जी सितंबर के प्रथम या द्वितीय सप्ताह में अलीगढ़ आ सकते हैं। विभागीय अधिकारी यह मानकर कर तैयारियों में जुटे हुए हैं।

       जिलाधिकारी इंद्र विक्रम सिंह ने बुधवार को निर्माणाधीन राजा महेंद्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय एवं डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर का स्थलीय निरीक्षण किया। डिफेंस कॉरिडोर में सड़क, विद्युत सबस्टेशन, ओवरहेड टैंक, पंप, चाहरदीवारी का निर्माण हो गया है। स्थल पर एक निवेशक कंपनी द्वारा निर्माण कार्य कराया जा रहा है। डीएम ने कहा है कि उद्यम एवं रोजगार को एक नया आयाम देने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा बड़ा निवेश किया गया है। सभी आवंटी प्रदेश सरकार की मंशा से चार कदम आगे जाकर धरातल पर कार्य करना शुरू करें। उन्होंने बताया कि कुछ आवंटी जिनके द्वारा भवन निर्माण के लिए नक्शा भी पास करा लिया गया है परंतु धरातल पर कार्य न करना असंतोषजनक है। निवेशक धनजीत वाड्रा ने जिलाधिकारी को आश्वस्त किया कि वह जल्द ही कार्य आरंभ करेंगे। डीएम ने परियोजना स्थल पर साफ सफाई एवं निराश्रित गोवंश को हटाए जाने के भी निर्देश दिए।


...राजा महेंद्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय निरीक्षण:

जिलाधिकारी इन्द्र विक्रम सिंह ने केंद्र व प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना राजा महेंद्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय के निर्माण में तेजी लाए जाने के उद््देश्य पूरे लाव-लश्कर के साथ मौके पर निरीक्षण किया। जिलाधिकारी को मौके पर कुछेक श्रमिकों के माध्यम से अत्यंत ही सुस्त रफ्तार से कार्य होता मिला। कार्यदायी संस्था से सुरजीत पुण्ढ़ीर द्वारा बताया गया कि वर्तमान में अपरिहार्य कारणों से कार्य रुका हुआ था। एडमिनिस्ट्रेटिव ब्लॉक में आज से कार्य प्रारंभ किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि एकेडमिक ब्लॉक, गर्ल्स एवं बॉयज हॉस्टल, टाइप थ्री एवं टाइप फोर आवासीय भवन के साथ उप कुलपति आवास एवं पुलिस चौकी पर प्रथम चरण में कार्य होना है। मौके पर निरीक्षण के दौरान कुल 95 श्रमिक कार्य करते पाए गए। परिसर में छह स्थानों पर कार्य संचालित होने पर प्रति कार्य 20 श्रमिक भी कार्यरत ना होने पर डीएम ने कार्यदायी संस्था एवं मॉनिटरिंग विभाग लोक निर्माण विभाग, विश्व बैंक के प्रति गहरा असंतोष व्यक्त करते हुए मानव श्रम बढ़ाकर कार्य को तेजी के साथ शुरू करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि केंद्र एवं प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी परियोजना पर इतनी कम संख्या में श्रमिकों द्वारा शिथिलतापूर्ण कार्य किया जाना परलक्षित करता है यह परियोजना को पूर्ण करने के लिए नाकाफी है।

      जिलाधिकारी ने विश्व बैंक के अधीक्षण अभियंता देवेश शर्मा से अगले एक माह की कार्ययोजना के बारे में जानकारी चाही, जिसके बारे में भी वह कोई ठोस उत्तर नहीं दे सके। स्थलीय सत्यापन के दौरान लोक निर्माण विभाग एवं कार्यदायी संस्था अपना-अपना बचाव करते नजर आए। डीएम को कार्यदायी संस्था एवं विभागीय अधिकारियों के मध्य समन्वय की काफी गहरी खाई देखने को मिली। जिस पर उन्होंने कड़ी प्रतिक्रिया प्रकट करते हुए परियोजना को पूर्ण करने के लिए आपसी समन्वय करने की नसीहत दी। उन्होंने कार्य शिथिलता पर कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि यह मा0 प्रधानमंत्री एवं मा0 मुख्यमंत्री जी का ड्रीम प्रोजेक्ट है, इस पर किसी प्रकार की लापरवाही क्षम्य न होगी। इस अवसर पर उपकुलपति चंद्रशेखर, मुख्य विकास अधिकारी अंकित खंडेलवाल, अपर जिलाधिकारी प्रशासन डीपी पाल, ज्वाइंट मजिस्ट्रेट मृणाली जोशी, एसडीएम कोल संजीव ओझा, उपायुक्त श्रम वीरेन्द्र कुमार सिंह, रजिस्ट्रार महेश कुमार, सहायक अभियंता अरविंद कुमार, दिशा अग्रवाल, थानाध्यक्ष लोधा आदित्य कुमार सहित अन्य अधिकारी एवं अभियंता उपस्थित रहे।

-------------

डीएम ने मतदेय स्थलों के संभाजन के सम्बन्ध में राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ की बैठक

अलीगढ़ 31 अगस्त(सू0वि0) जिलाधिकारी इन्द्र विक्रम सिंह की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशों के क्रम में मतदेय स्थलों के संभाजन के अंतर्गत मतदान स्थलों के प्रस्ताव तैयार कराने एवं मतदाता सूची के आलेख प्रकाशन के संबंध में मान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक संपन्न हुई।

        बैठक में जिलाधिकारी ने मान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ चर्चा करते हुए मतदेय स्थलों के प्रस्ताव के संबंध में अपने सुझाव प्रस्तुत करने की अपेक्षा की। उन्होंने राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों से मतदाता सूची में अंकित मतदाताओं के अधिक से अधिक लोगों के आधार कार्ड संख्या को जोड़ने के कार्य में सहयोग कर अधिक से अधिक लोगों का आधार कार्ड फीडिंग कराए जाने के संबंध में भी अवगत कराया। डीएम ने सभी एसडीएम को निर्देशित किया कि निजी भवनों के स्थान पर हर सम्भव शासकीय भवनों में मतदान केन्द्र बनाए जाएं। पिछले चुनाव की फीडबैक एवं स्थानीय जनप्रतिनिधियों से सुझाव प्राप्त कर उन पर गंभीरता से अमल किया जाए। बेहतर होगा कि एसडीएम मौके पर जाकर स्थलीय सत्यापन करना सुनिश्चित करें। उन्होंने तहसीलदारों को निर्देश दिए कि वह अपने-अपने तहसीलों में बीएलओ की बैठक करके अधिक से अधिक लोगों के आधार का फीडिंग कार्य तेज गति से कराना सुनिश्चित करें। बैठक में अपर जिलाधिकारी प्रशासन डीपी पाल सहित समस्त उपजिलाधिकारी, मा0 विधायक शहर श्रीमती मुक्ता संजीव राजा, पूर्व विधायक संजीव राजा, कांग्रेस से नदीम गफूर समेत अन्य राजनीतिक दलों के प्रतिनिधिगण व पदाधिकारी उपस्थित रहे। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
एक टिप्पणी भेजें (0)
...अपने इलाके की खबरों/वीडियो/फोटो अलीगढ मीडिया पर प्रकाशन हेतु व्हाट्सअप या ई-मेल करें:aligarhnews@gmail.com

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top