एएमयू के नए रजिस्ट्रार बने आईपीएस अधिकारी मोहम्मद इमरान , एएमयू कोर्ट के नए सदस्य

0


अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ़, 17 अगस्त अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के सेंटर आर एडवांस्ड रिसर्च इन इलैक्ट्रीफाइड ट्रांस्पोर्टेशन में इन्नोवेशन काउंसिल और यूनिवर्सिटी इनक्यूबेशन सेंटर (आईसी एण्ड यूआईसी) द्वारा आयोजित वॉल पेंटिंग प्रतियोगिता में ललित कला विभाग के छात्रों ने अपनी रचनात्मकता का प्रदर्शन किया।

छात्र कलाकारों ने ‘आज़ादी का अमृत महोत्सव‘ के तहत ‘पिछले 75 वर्षों के दौरान भारत में नवाचार‘ विषय पर दीवारों पर सुंदर चित्र चित्रित किए। प्रतियोगिता में ग्रुप लीडर अबीरा जावेद, अदिति, अर्शी गुप्ता और इफरा सिद्दीकी की टीम को विजेता घोषित किया गया, जबकि वैभव पाठक और उनके सहयोगियों राजीव, अंकुर और पूनम की टीम दूसरे स्थान पर रही। ग्रुप लीडर निदा अशफाक के साथ अलवीना नदीम, अहमद निसा और अनुराग कुमार की टीम ने तीसरा पुरस्कार हासिल किया।

इस प्रतियोगिता में 50 से अधिक छात्रों के साथ कुल 14 टीमों ने भाग लिया, जिसमें वास्तुकला विभाग और ललित कला विभाग के संकाय सदस्य निणायिक के रूप में शामिल थे।

पुरस्कार वितरित करते हुए एएमयू कुलपति प्रोफेसर तारिक मंसूर ने कहा कि “छात्र कलाकारों ने दीवारों पर ब्रश का उपयोग करके भारतीय नवाचार की विभिन्न 75 वर्षीय उपलब्धियों को विज्ञान और प्रौद्योगिकी के इतिहास में महत्वपूर्ण घटनाओं को शामिल करते हुए चित्रित किया। उनकी दीवार पेंटिंग भारत की आजादी के पिछले 75 वर्षों में उभरे विचारों को दर्शाती है।

प्रोफेसर मंसूर ने कहा कि भारत नवाचार में अग्रणी है और यह हमारे कई स्टार्टअप, यूनिकार्न, फार्मा-एज, डिजाइन और अनगिनत ऐप्स में देखा जा सकता है। उन्होंने विश्वविद्यालय में अनुसंधान और नवाचार को और बढ़ाने की आवश्यकता पर बल दिया।

कला संकाय के डीन और अध्यक्ष, आईसी एंड यूआईसी के प्रोफेसर सैयद इम्तियाज हसनैन ने कहा कि स्वतंत्रता की पिछली तीन तिमाहियों से छात्रों द्वारा भारतीय उत्पादों को दीवारों पर खूबसूरती से प्रदर्शित किया गया है।

आईसी और यूआईसी के समन्वयक, प्रोफेसर मुहम्मद सज्जाद अतहर ने संस्था की रिपोर्ट प्रस्तुत की और भविष्य की गतिविधियों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि ‘भारत सरकार की नेशनल इनोवेशन एंड स्टार्टअप पॉलिसी 2019 के लागू होने के बाद एएमयू ने फैकल्टी एंटरप्रेन्योरशिप, स्टार्टअप्स और बौद्धिक संपदा अधिकारों के लिए नीतियां अपनाई हैं और जल्द ही स्टूडेंट एंटरप्रेन्योरशिप पॉलिसी भी अपनाई जाएगी। प्रोफेसर सज्जाद ने यह भी बताया कि इनोवेशन काउंसिल सितंबर में ‘स्टूडेंट रिसर्च कन्वेंशन‘ और अक्टूबर में ‘हैकाथॉन‘ आयोजित करने की योजना बना रही है।

ललित कला विभाग के अध्यक्ष, प्रोफेसर बदर जहां ने कहा कि एक कलाकार के रूप में वह जानती हैं कि प्रतिभा और रचनात्मकता का प्रदर्शन करना कितना महत्वपूर्ण है। कार्यक्रम की संक्षिप्त रिपोर्ट प्रस्तुत करने के बाद उन्होंने कहा कि छात्र कलाकारों को कला की शक्ति का उपयोग समुदायों को एक साथ लाने के लिए करना चाहिए।

जेडएचसीईटी के प्रिंसिपल, प्रोफेसर एम.एम. सुफियान बेग ने कहा कि छात्रों की भित्ति रचनाएं पिछले 75 वर्षों में देश की उपलब्धियों का प्रतिनिधित्व करती हैं।

कैरेट सेंटर के समन्वयक, डा यासिर रफत ने कार्यक्रम का संचालन किया और धन्यवाद ज्ञापन किया।

-----------------------------


एएमयू के नए रजिस्ट्रार बने आईपीएस अधिकारी श्री मोहम्मद इमरान

अलीगढ़, 17 अगस्तः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय ने भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के अधिकारी श्री मुहम्मद इमरान को दो वर्ष की अवधि के लिए प्रतिनियुक्ति के आधार पर अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय का नया रजिस्ट्रार नियुक्त किया है।

2011 बैच के आईपीएस अधिकारी श्री इमरान वर्तमान में एसपी, रेलवे, झांसी के पद पर तैनात हैं। इससे पूर्व वह उत्तर प्रदेश डीजीपी कार्यालय समेत पुलिस विभाग में विभिन्न महत्वपूर्ण पदों पर कार्य कर चुके हैं। श्री मुहम्मद इमरान ने 11 वर्षों से अधिक समय तक पुलिस महकमे में अपनी सेवाएं दी हैं। उन्हें पुलिस सेवाओं में डीजी कमेंडेशन डिस्क सिल्वर (2018) और डीजी कमेंडेशन डिस्क सिल्वर (2019) से सम्मानित किया गया है। वह पारस्परिक प्रबंधन और प्रतिभा और संसाधनों के विकास के विशेषज्ञ हैं।

श्री मुहम्मद इमरान ने अंग्रेजी साहित्य में बीए ऑनर्स तथा इंटरनेशनल बिजनेस-एमआईबी पाठ्यक्रम में स्नातकोत्तर की डिग्री प्राप्त की है।

----------------------------------

एएमयू कोर्ट के नए सदस्य

अलीगढ़ 17 अगस्तः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के विभिन्न विभागों के तीन प्रमुखों को विभाग प्रमुखों की वरिष्ठता के आधार पर एएमयू कोर्ट का सदस्य नियुक्त किया गया है।

जेएन मेडिकल कालिज के जैव रसायन विभाग, की प्रोफेसर शगुफ्ता मोईन, सिविल इंजीनियरिंग विभाग के प्रोफेसर अब्दुल बाकी और अजमल खां तिब्बिया कालिज के जर्राहत विभाग के प्रोफेसर इकबाल अजीज शामिल हैं। वह अगले तीन वर्षों तक या विभाग के अध्यक्ष का पद धारण करने तक, जो भी पहले हो, एएमयू कोर्ट के सदस्य बने रहेंगे।

------------------------------------

अकादमिक परिषद के नए सदस्य

अलीगढ़, 17 अगस्तः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के सर सैयद हाल साउथ के प्रोवोस्ट प्रोफेसर बदरूदद्दुजा खान को वरिष्ठता के आधार पर दो वर्ष की अवधि के लिए एकेडमिक काउंसिल का सदस्य नियुक्ति किया गया है।

 

-------------------------------

अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में ऑनलाइन व्याख्यान दिया

अलीगढ़, अगस्त 17ः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के कृषि विज्ञान संकाय के कृषि शिक्षा केन्द्र में प्रध्यापिका डा ज़ेबा खान ने हाल में चीन के शेन्जे़न में आयोजित 8वे अंतर्रास्ट्रीय कृषि और जीव विज्ञान सम्मेलन में आनलाइन व्याख्यान प्रस्तुत किया।

उन्होंने एनाटेस नैनोपार्टिकल्स के संपर्क में आने वाले नए कर्णों पर अपना शोघ प्रस्तुत किया।  

इस सम्मेलन में दुनिया भर के जाने-माने विशेषज्ञों और विद्वानों ने भाग लिया और अपनी प्रस्तुति दी।

--------------------------------

आज़ादी का अमृत महोत्सव पर अमुवि में कार्यक्रम आयोजित

अलीगढ़, अगस्त 17ः एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में भारत के 75 गौरवशाली वर्ष पूरे करने पर अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के विभिन्न विभागों और स्कूलों में ‘आजादी का अमृत महोत्सव‘ समारोह के अनुसरण में कई कार्यक्रम आयोजित किये गए।

फारसी विभाग में विभागाध्यक्ष प्रोफेसर राना खुर्शीद ने भारतीय राष्ट्रीय स्वतंत्रता आंदोलन और 1857 के स्वतंत्रता संग्राम में महान नेताओं की भूमिका पर एक भाषण दिया।

डा जरीना खान, डा एम. एहतशामुद्दीन, डा फोजिया जावेद, डा अहमद नवेद यासिर, डा मोहम्मद तौसीफ और डा हिना इसहाक ने भी स्वतंत्रता संग्राम पर बात की।

इसी तरह, अरबी विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर मोहम्मद समी अख्तर द्वारा ‘स्वतंत्रता संग्राम में एएमयू की भूमिका‘ पर व्याख्यान प्रस्तुत किया गया। उन्होंने विश्वविद्यालय के पूर्व छात्रों राजा महेंद्र प्रताप सिंह, खान अब्दुल गफ्फार खान, डा जाकिर हुसैन, हसरत मोहानी और अन्य के योगदान पर बात की।

सैय्यद हामिद सीनियर सेकेंडरी स्कूल के छात्रों ने ‘आजादी का अमृत महोत्सव‘ का पालन करने के लिए भाषण, निबंध-लेखन और पोस्टर बनाने की प्रतियोगिता में भाग लिया।

डा सबिहा ए सलाम (कार्यवाहक प्रधानाचार्य) ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया और छात्रों से सर्वाेच्च बलिदान देने वाले महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों से प्रेरणा लेने का आग्रह किया।

डा अब्दुल हफीज सैफी ने भी स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्धांजलि दी। स्कूल शिक्षक सादिया नासिर द्वारा आयोजित कार्यक्रम में स्कूली छात्रों द्वारा स्वतंत्रता संग्राम पर भाषण प्रस्तुत किये गए।

एएमयू ए.बी.के स्कूल-गर्ल्स में इस अवसर पर ध्वज और कार्ड बनाने, भाषण प्रतियोगिता, निबंध-लेखन, कविता पाठ, रस्साकशी और अन्य कार्यक्रमों का आयोजन किया गया।

छात्रों को राष्ट्रीय ध्वज के रंगों का अर्थ समझाते हुए, डा सबा हसन (स्कूल की वाइस प्रिंसिपल) ने कहा कि तिरंगे के शीर्ष पर केसरिया बहादुरी का प्रतिनिधित्व करता है, बीच में सफेद शांति का प्रतिनिधित्व करता है और हरा रंग भूमि के भाग्य का प्रतिनिधित्व करता है। केंद्र में धर्म चक्र 24 गुणों के लिए खड़ा है, जो आंदोलन और विस्तार का प्रतिनिधित्व करते हैं।

‘आज़ादी का अमृत महोत्सव‘ के तत्वावधान में गृह विज्ञान विभाग द्वारा वृक्षारोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

विभागाध्यक्ष प्रोफेसर फरजाना अलीम ने छात्रों, शिक्षकों और गैर-शिक्षण कर्मचारियों से वृक्षारोपण के साथ जलवायु परिवर्तन का मुकाबला करने का आग्रह किया। ध्वजारोहण के बाद विभाग में पोस्टर मेकिंग, निबंध लेखन और रंगोली मेकिंग प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया। कार्यक्रम का संचालन डा मरियम फातिमा और डा इरम असलम ने किया।

अलीगढ़ के एडीएम-कार्यकारी, श्री डी.पी पाल ने छात्रों और शिक्षकों के साथ जाकिर हुसैन कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी रोड के किनारे 60 रॉयल पाम और अन्य पौधे लगाए। श्री डी पी पाल ‘आजादी का अमृत महोत्सव‘ मनाने के लिए वृक्षारोपण कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे।

विशिष्ट अतिथि प्रोफेसर मोहम्मद अशरफ (डीन, विज्ञान संकाय), प्रोफेसर अनवर शहजाद, प्रोफेसर विकार आजम खान, प्रोफेसर नदीमुर रहमान, डा वकील अहमद खान, डा अली जाफर आबेदी और लैंड एंड गार्डन विभाग के पदाधिकारियों ने श्री पाल का स्वागत किया।

विमेंस कॉलेज की प्रिंसिपल प्रोफेसर नईमा खादून ने बताया कि कालिज की लिटरेरी सोसाइटी के सदस्यों द्वारा स्वतंत्रता दिवस मनाने के लिए ‘एकरूपता और लोकतंत्र‘ पर एक निबंध-लेखन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। प्रोफेसर नाजिया हसन और डा सदफ फरीद द्वारा आयोजित प्रतियोगिता में 40 से अधिक छात्रों ने निबंध लिखे।

दृष्टिबाधित अहमदी स्कूल के छात्रों ने ‘हर घर तिरंगा‘ अभियान और ‘आजादी का अमृत महोत्सव‘ का अवलोकन करने के लिए एक गायन प्रतियोगिता में भाग लिया। प्रतियोगिता के जज डा एस आर चिश्ती थे।

डा नायला राशिद (प्रिंसिपल) ने छात्रों को विभिन्न पाठ्येतर गतिविधियों में प्रतिभा दिखाने के लिए प्रोत्साहित किया। कार्यक्रम का संचालन डा बुशरा अब्बासी ने किया और एरम फातिमा ने धन्यवाद ज्ञापित किया। जे.एन मेडिकल कॉलेज के सामुदायिक चिकित्सा विभाग के ग्रामीण स्वास्थ्य प्रशिक्षण केंद्र, जवान में स्वतंत्रता दिवस समारोह में ध्वजारोहण समारोह के बाद पोस्टर बनाने और निबंध लेखन प्रतियोगिताएं आयोजित कि गयीं।

प्रोफेसर सायरा मेहनाज (अध्यक्ष, सामुदायिक चिकित्सा विभाग) ने कहा कि पोस्टर बनाने और निबंध-लेखन प्रतियोगिताओं में बड़ी संख्या में मेडिकल छात्रों और इंटर्न ने भाग लिया।

कार्यक्रम का संचालन डा उज़्मा एरम और डा तबस्सुम नवाब ने किया।

छात्रों और शोधार्थियों ने ‘जलवायु परिवर्तन मानव अस्तित्व के लिए सबसे बड़ा खतरा‘ विषय पर वाद विवाद प्रतियोगिता में भाग लिया और कॉमर्स विभाग के ‘आजादी का अमृत महोत्सव‘ समारोह को अवलोकन करने के लिए ‘ब्रिटिश शासन से पहले भारत की महिमा‘ पर निबंध लिखे।

प्रोफेसर एस.एम इमामुल हक़ (अध्यक्ष, कॉमर्स विभाग) ने ‘हर घर तिरंगा‘ अभियान और ‘भारतीय स्वतंत्रता के 75 वर्ष‘ पर भाषण दिया।प्रोफेसर मोहम्मद नासिर ज़मीर कुरैशी (डीन, कॉमर्स संकाय) ने विजेताओं को पुरस्कार वितरित किए। डा नगमा अजहर और डा शीमा तराब ने प्रतियोगिताओं को जज किया। प्रोफेसर मोहम्मद शमीम ने धन्यवाद प्रस्ताव दिया और डा निशात अंजुम ने कार्यक्रम का संचालन किया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
एक टिप्पणी भेजें (0)
...अपने इलाके की खबरों/वीडियो/फोटो अलीगढ मीडिया पर प्रकाशन हेतु व्हाट्सअप या ई-मेल करें:aligarhnews@gmail.com

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top