अलीगढ़| जेएन मेडीकल कालिज में ‘सर्जिकल प्रैक्टिस में बायोप्सी’ पर सीएमई आयोजित

0


अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ़| अमुवि के जवाहर लाल नेहरू मेडीकल कालिज के शल्य चिकित्सा विभाग द्वारा सतत चिकित्सा शिक्षा कार्यक्रम में शल्य चिकित्सा में बायोप्सी विषय पर आयोजित सीएमई में जनरल सर्जरी, पैथोलॉजी, रेडियोडायग्नोसिस, गायनोकोलॉजी तथा ऑब्स्टेट्रिक्स और जनरल मेडिसिन के शिक्षकों और स्नातकोत्तर छात्रों ने रोगी की देखभाल के कौशल में दक्षता हासिल की और अपने विशिष्ट क्षेत्रों में नवीनतम विकास का ज्ञान हासिल किया।


केन्द्रीय वक्तव्य में डॉ (कर्नल) विकास रस्तोगी (प्रोफेसर और इंटरवेंशनल रेडियोलॉजी के प्रमुख, धर्मशिला नारायणा सुपर-स्पेशियलिटी अस्पताल) ने परीक्षण के लिए कुछ कोशिकाओं, टिश्यूज़ और फलूयड्स को निकालने के वर्तमान समय में नवीनतम विकास पर नये विचारों एवं अद्यतन विकास से अवगत कराया।


प्रो विकास ने एक पूरी गांठ या संदिग्ध क्षेत्र को हटाने की एक्सिसनल बायोप्सी प्रक्रिया और टिश्यू के एक नमूने निकालने की इंसीजनल बायोप्सी के नवीनतम विकास पर भी चर्चा की। उन्होंने विभिन्न महत्वपूर्ण संरचनाओं की विभिन्न बायोप्सी तकनीकों पर लाइव कार्यशाला और विभिन्न बायोप्सी तकनीकों के समस्या-समाधान अनुप्रयोगों पर पैनल चर्चा में भी भाग लिया।


डीन, फैकल्टी ऑफ मेडिसिन और प्रिंसिपल, जेएनएमसी प्रो राकेश भार्गव ने कहा कि स्वास्थ्य देखभाल प्रदाताओं की ज्ञान वृद्धि के लिए निरंतर चिकित्सा शिक्षा महत्वपूर्ण है। यह एक चिकित्सक को रोगी की देखभाल में सुधार करने और लगातार बदलते हुए मेडिका इंडस्ट्री के परिदृश्य में प्रभावी ढंग से कैरियर का प्रबंधन करने के लिए व्यवहार्य तरीके सीखने में मददगार है|

सर्जरी विभाग के अध्यक्ष और सीएमई के आयोजन अध्यक्ष, प्रो अफजल अनीस ने बताया कि इस सीएमई ने प्रतिभागियों को कैरियर सम्भावनानों को आगे बढ़ाने के लिए पेशेवर योग्यता प्राप्त करने के लिए आत्मविश्वास प्रदान किया है। मुझे यकीन है कि उन्होंने उपचार योजनाओं के लिए प्रभावी चिकित्सा टीम प्रबंधन कौशल सीखे होंगे।

प्रोफेसर मोहम्मद असलम, डॉ याकूब हसन (आयोजन सचिव) और डॉ मोहम्मद हबीब रजा ने बताया कि किस प्रकार सर्जन, त्वचा विशेषज्ञ और रेडियोलॉजिस्ट द्वारा नियमित रूप से बायोप्सी की जाती है ताकि यह निर्धारित किया जा सके कि मरीज को सर्जरी या उपचार के किसी अन्य तरीके से गुजरना है या नहीं।


-----------------------------


एएमयू मालप्पुरम केंद्र में वाकथान का आयोजन


अलीगढ़, 3 सितंबरः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के मल्लापुरम केंद्र में खेल मंत्रालय के दिशा-निर्देशों के अनुरूप राष्ट्रव्यापी ‘फिट इंडिया मूवमेंट‘ के अंतर्गत एक वाकथान का आयोजन किया गया जिसमें छात्रों  और शिक्षकों ने कानून विभाग से केंद्र के रिहायशी इलाके से होते हुए पूरे केंद्र का चक्कर लगाया।

वाकथान को हरी झंडी दिखाते हुए डा शाहनवाज अहमद मलिक ने कहा कि प्रत्येक भारतीय को फिट होना चाहिए और इसलिए हमारी सरकार ने ‘फिट इंडिया मूवमेंट‘ शुरू किया है। उन्होंने केंद्र के शिक्षकों, छात्रों और कर्मचारियों को दिन में कम से कम 10 हज़ार कदम चलने और दैनिक दिनचर्या में इसका पालन करने के लिए प्रेरित किया। डा शाहनवाज़ ने कहा कि ‘फिट इंडिया‘ मूवमेंट को एक जन आंदोलन बनाने के लिए सभी को सक्रिय भागेदारी निभानी चाहिये।


स्वास्थ्य और स्वच्छता समिति के अध्यक्ष, डा हमज़ा वी.के ने कहा कि वॉकथॉन का उद्देश्य एक फिट और स्वस्थ जीवन शैली के लिए जागरूकता पैदा करना है। यह संदेश फैलाने के लिए एक अनूठा कदम है कि एक स्वस्थ और फिट इंडिया और नागरिकों को सुनिश्चित करना सर्वाेपरि है| ‘फिट इंडिया‘ कार्यक्रम में एक सामूहिक व्यायाम कार्यक्रम भी शामिल था जिसमें डा हारिस मोहम्मद (समन्वयक, स्वास्थ्य और स्वच्छता समिति) ने प्रतिभागियों को विभिन्न व्यायाम करने और उन्हें फिटनेस बनाए रखने के लिए प्रेरित किया।इकरा शमीम ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

---------------------------------------

विमेंस कालेज में ‘करियर परामर्श‘ पर व्याख्यान

अलीगढ़, 3 सितंबरः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के सामान्य प्रशिक्षण और प्लेसमेंट अधिकारी (टीपीओ), साद हमीद ने छात्रों का अपनी छुपी हुई प्रतिभाओं को बाहर निकलने और शिक्षा और रोज़गार के क्षेत्र में इसके प्रयोग के लिए उनका आह्वान किया। उन्होंने कहा कि इससे उन्हें अपने करियर के बारे में सही निर्णय लेने में मदद मिलेगी। वह विमेंस कॉलेज में ‘करियर काउंसलिंग‘ पर आयोजित व्याख्यान को संबोधित कर रहे थे।

छात्रों से कड़ी मेहनत के साथ अपने कौशल का विकास करने का आग्रह करते हुए साद हमीद ने कहा कि प्रत्येक छात्र के पास एक अद्वितीय चरित्र होता है और उस अद्वितीय चरित्र को बाहर निकालने के लिए छात्र को एक सलाहकार या परामर्शदाता की आवश्यकता होती है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए, विमेंस कॉलेज की प्रिंसिपल, प्रोफेसर नईमा खातून ने कहा कि करियर काउंसलर और संरक्षक छात्रों के आत्मविश्वास को बढ़ाते हैं और उन्हें अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में सफलता के लिए उत्कृष्ट तरीकों को अपनाने में मदद करते हैं। टीपीओ विमेंस कॉलेज, की डा मंसूर आलम सिद्दीकी ने धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम का संचालन यागिनी चौधरी व इकरा जावेद ने किया।


---------------------------------

एएमयू के पूर्व छात्र बने इसुजु मोटर्स के अध्यक्ष

अलीगढ़, 3 सितंबरः टोक्यो मुख्यालय वाली यूटिलिटी व्हीकल्स मेजर, इसुजु मोटर्स इंटरनेशनल एफजेडई द्वारा अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र मंसूर अहमद को कंपनी का नया अध्यक्ष नियुक्त किया है।

उन्होंने एएमयू से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की डिग्री के साथ स्नातक की उपाधि प्राप्त की और मार्केटिंग मैनेजमेंट में डिप्लोमा भी किया। मंसूर के पास 35 वर्षों से अधिक का अनुभव है और उन्होंने पूरे एशिया में ऑटोमोटिव क्षेत्र में विभिन्न वरिष्ठ प्रबंधन जिम्मेदारियों का निर्वहन किया है।

इसुजु मोटर्स में शामिल होने से पहले, मंसूर यूडी ट्रक में रणनीति और उत्पाद प्रबंधन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष थे। उन्होंने वोल्वो ग्रुप ट्रक्स के साथ भी काम किया है और इसके बाद टाटा मोटर्स के साथ 12 साल का सफल कार्यकाल पूरा किया है।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
एक टिप्पणी भेजें (0)
...अपने इलाके की खबरों/वीडियो/फोटो अलीगढ मीडिया पर प्रकाशन हेतु व्हाट्सअप या ई-मेल करें:aligarhnews@gmail.com

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top