"..किसी भी खबर पर आपत्ति के लिए हमें ई-मेल से शिकायत दर्ज करायें"

स्मार्ट फोन, टैबलेट वितरण, अमृत सरोवर योजना, पीएम स्वनिधि योजना, किसान सम्मान निधि की CM ने बड़ी बारीकी के साथ की समीक्षा


अवैध लाउडस्पीकर के सम्बन्ध में सुनिश्चित किया जाए कि उतारे गये लाउडस्पीकर पुनः न लगने पाएं*

*अन्तिम छोर पर खड़े व्यक्ति तक पहुॅचाएं विकास की किरण*

*बिना भेदभाव के हर वर्ग का करेंगे विकास*

*क्षतिग्रस्त सड़कों की अविलम्ब मरम्मत की जाए*-मा0 सी0एम0 योगी आदित्य नाथ*

अलीगढ़ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ़ 15 अक्टूबर 2021(सू0वि0) प्रदेश के मुख्यमं़त्री श्री योगी आदित्यनाथ जी ने कमिश्नरी सभागार में जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों के साथ विकास एवं कानून व्यवस्था पर पर विस्तार से समीक्षा की। उन्होंने कहा कि सड़कों की खराबी के लिये चीफ इन्जीनियर पी0डब्लू0डी0 से सवाल जबाव किये। मुख्य चिकित्साधिकारी से चिकित्सकीय सुविधाओं में सुधार एवं बेहतर प्रयास के लिये नये-नये कदम उठाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कोई शहर तब तक स्मार्ट नही होता जब तक उसकी सड़कें, गलियॉ, नालियॉ, नाले स्वच्छ न हो, ड्रेनेज सिस्टम सही न हो। उन्होंने नगर निगम को शहर का ड्रेनेज सिस्टम सुधारने के साथ ही साफ-सफाई व्यवस्था मंे बेहतर सुधार लाने के निर्देश दिए। आईसीसीसी निर्माण कार्य के बारे में उन्होंने कहा कि यदि पुलिस प्रशासन के साथ बैठक कर मिलकर कार्य किया गया होता तो यह कार्य काफी कम खर्चे में पूरा किया जा सकता था। उन्होंने कहा कि अपराध नियन्त्रण के लिये जनसहभागिता से जुडना होगा, जनता को विश्वास में लेना होगा। उन्होंने निर्देश दिए कि जिला पुलिस, एडीए और नगर निगम के साथ बैठकर सेफ सीटी की परिकल्पना को साकार करें। जनसहभागिता से चौराहों का सौन्दर्यकरण एवं विकास कराया जाये। सड़कों के साथ नाले नालियों मंे भी कूडा नहीं पडना चाहिए। इसके लिये जनसामान्य को जागरूक किया जाये। पब्लिक एड्रेेस सिस्टम को सद् उपयोग किया जाय। स्मार्ट सिस्टम में बेतरतीब होर्डिंग नहीं लगे दिखने चाहिए। नगर निगम विज्ञापन को आय का जारीया बनाते हुये स्थान चिन्हित करें। डिजिटल विज्ञापन की तरफ बढ़ना होगा। स्ट्रीट लाईट को इतना ऊॅचा न किया जाय कि उसकी रोशन जमीन तक न जा पाये। उन्होंने कहा कि शहर की स्थिति में सुधार की बहुत आवश्यकता है। शहर को कुछ नये मॉडल कार्य देने होगें। भूमाफिया, शराब माफिया, गौतस्कारों से जब्त की गयी चल-अचल सम्पत्तियॉ का जनहित में सद् उपयोग किया जाये। यदि ऐसा होता है तो चहूंओर उसकी सराहना की जायेगी। उन्होंने कहा कि कुछ दिन पूर्व जनपद में शराब माफियों के विरूद्व काफी सराहनीय कार्य गये हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे राष्ट्र विरोधी समाज विरोधी एवं अवांछनीय तत्वों से सख्ती से निपटना होगा। 

मा0 मुख्यमंत्री जी ने कहा कि हर स्तर पर लम्बित मामलों की समीक्षा होनी चाहिए। तहसील और थानों की जबावदेही तय की जाये। न्यायालयों में लम्बित मामलों की समुचित पैरवी की जाये। डिस्ट्रिक मॉनिटरिंग कमेटी में मामलों को रखा जाये और अपराधियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलायी जाये। सड़कों की पटरियॉ खाली हो ताकि फुटपाथ में तबदील हो सकें। स्ट्रीट बेन्डर के जीवन में बेहतर बदलाव लाने के लिये उनके बेन्डर जोन चिन्हित कर दिये जायें। सड़क पर कोई व्यक्ति सोता हुआ नजर न आये। उसकी रात रैन बसेरे में ही गुजरनी चाहिए। नगर निकाय को आत्मनिर्भर बनाया जाये, हम सभी को देखनाा होगा कि एक्सिलेशन की व्यवस्था कैसे सु़दृढ़ हो सकती हैं। जल जीवन मिशन के कार्य समय से पूरा हो पाईप पेयजल योजना में सड़क को काटने के बाद उन्हें उखडी हुयी न छोडा जाये, यदि ऐसा पाया जाता है तो जिला प्रशासन को सम्बन्धित विभाग की जबावदेही तय करनी चाहिए। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि जर्जर विद्यालयों में बच्चे ना बैठें। स्मार्ट सिटी के तहत विद्यालयों का निर्माण कराया जाए उनकी मरम्मत कराई जाए। 

माननीय मुख्यमंत्री जी ने कहा कि एयरपोर्ट से शहर की कनेक्टिविटी को बेहतर किया जाए, जल्दी ही शहर को एयर कनेक्टिविटी की सुविधा प्रदान की जाएगी। उन्होंने कहा कि किसी शहर के लिए नुमाइश मैदान एक पहचान के तौर पर होता है लेकिन यहां के नुमाइश मैदान में पानी भरा होना उचित नहीं है, इस ओर ध्यान देना होगा। एडीए को नक्शों के सरलीकरण की तरफ ध्यान देने की आवश्यकता है। ट्रैफिक व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए पेट्रोलिंग को दुरुस्त किया जाए। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि जनसुनवाई को और बेहतर बनाया जाए। जिला स्तर के प्रत्येक अधिकारी नियमित रूप से जनसुनवाई करें। शिकायतों का गुणवत्तापूर्ण ढंग से निस्तारण किया जाए। जनप्रतिनिधियों से बेहतर एवं मधुर संबंध बनाए जाऐ, किसी भी स्तर पर संवादहीनता की स्थिति नहीं आनी चाहिए। जिन धर्म स्थलों से लाउडस्पीकर उतारे गए हैं उनकी पुनर्स्थापना नहीं होनी चाहिए। जिनकी आवाज कम की गई है कम ही रहे। सड़कों पर स्टंट्स नहीं होनी चाहिए। अवैध टैक्सी स्टैंड बस स्टैंड के संचालन को स्वीकार नहीं किया जाएगा। उद्योग बंधु की बैठकें नियमित होनी चाहिए। जिला पुलिस प्रशासन के साथ मिलकर उद्यमियों की समस्याओं का समाधान सुनिश्चित कराया जाए। हार्डवेयर से जुड़े उत्पादों को नए नए रूप में विकसित करें। उन्होंने कहा कि अलीगढ़ शहर की पहचान ताले के साथ हार्डवेयर के रूप में है इसका अच्छे से प्रचार प्रसार करें। उत्पादों को गिफ्ट के तौर पर प्रयोग करें। उन्हें प्रमोट करने के लिए विशेष अभियान चलाएं। उन्होंने कहा कि जीएसटी, स्टांप, खनन के माध्यम से राजस्व वसूली बढ़ाने में रुचि लेनी होगी। कमिश्नर डीएम प्रतिमाह समीक्षा करें प्रत्येक प्रदेश में नियमित समीक्षा के बल पर जीएसटी एवं एक्साइज राजेश को बढ़ाया गया है जब प्रदेश में राज्य से बढ़ेगा तो विकास कार्यों में भी बढ़ोतरी होगी।

माननीय मुख्यमंत्री जी ने ट्रांसपोर्ट नगर के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त की। मंडलायुक्त बताया कि भूमि का अधिग्रहण हो गया है किसी प्रकार की बाधा नहीं है। उन्होंने एडीए को शहर के चारों तरफ पीपीपी मोड़ पर रिंग रोड बनाए जाने की बात कही। हाल ही में लखनऊ में खोले गए शॉपिंग मॉल का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि सुविधाओं युक्त मॉल खोले जाएं, उचित व्यवस्था भी दी जाए। अंत में उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधियों की समस्याओं को प्राथमिकता से निपटाया जाए। उनके सुझावों को जनपद के विकास में सम्मिलित कर मामलों का निस्तारण किया जाए, किसी भी स्तर पर संवादहीनता की स्थिति नहीं आनी चाहिए। बैठक के अंत में बेसिक शिक्षा मंत्री श्री संदीप सिंह ने माननीय मुख्यमंत्री जी की स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। 


*मण्डलायुक्त ने स्मार्ट सिटी परियोजनाओं की दी जानकारी*


अलीगढ़ स्मार्ट सिटी के तहत होने वाले कार्यों की विस्तृत जानकारी देते हुए मण्डलायुक्त गौरव दयाल ने बताया कि भारत की जीएमआईएस रैंकिंग में अलीगढ़ की 36वीं रैंक है। स्मार्ट सिटी के तहत आईटी, जागरूकता और यातायात प्रबन्धन, पर्यावारण और स्वास्थ्य, सोशल इंफ्रांस्ट्रक्चर, सड़क एवं जंक्शन सुधार, पार्क एवं खुली जगहों का सौन्दर्यीकरण एवं पर्यटन क्षेत्र में 38 परियोजनाएं प्रगति पर हैं। 334 करोड़ की आईसीसीसी, सीसीटीवी सर्विलांस, एप बेस्ड क्राइम रिपोर्टिंग एवं सर्विलांस, आईटीएमएस, जीआईएस बेस्ड मैप, अभिलेखों का डिजिटलीकरण, ऑप्टिकल फाइबर केबिल, इंटीग्रेटेड ईआरपी फॉर नगर निगम, जागरूकता, आईटीसी, क्षमता निर्माण, सामुदायिक भागीदारी, हैल्थ एडीएम, रेन वाटर हार्वेस्टिंग एण्ड ग्राउण्ड वाटर रिचार्ज, स्ट्रॉर्म वाटर ड्रेनेज सिस्टम, सेन्टर प्वाइंट एवं मैरिस रोड जंक्शन का विकास कार्य, अलीगढ़ ड्रेनेज का कायाकल्प, अलीगढ़ हैबीटेट सेन्टर का विकास कार्य एवं लाल डिग्गी शहर का जीर्णोद्धार सहित अलीगढ़ शहर में 05 स्थानों पर वाई-फाई की 16 परियोजनाएं पूर्ण हो चुकी हैं।  

स्मार्ट सिटी के तहत शीघ्र पूर्ण होने वाली प्रगतिशील परियोजनाओं की जानकारी देते हुए बताया गया कि एबीडी एरिया में सीवर नेटवर्क का विस्तार एवं इगलास रोड पर इण्टरमीडिएट पम्पिंग स्टेशन व ट्रीटमेंट प्लांट, अचल ताल परिसर का विकास कार्य एवं अचल सरोवर का जीर्णोद्धार, ग्रिटवास द्वारा सरकारी भवनों की बाहरी दीवारों का सौन्दर्यीकरण, विभिन्न स्थानों पर आउटडोर एलईडी डिस्प्ले स्क्रीन, सप्लीमेन्ट्री सेनीटेशन सिस्टम, स्मार्ट रोड, रसलगंज मार्केट रोड का फसाड इंप्रूवमेंट कार्य शीघ्र ही पूर्ण कर लिये जाएंगे। प्रगतिशील परियोजनाओं के बारे में जानकारी देते हुए बताया गया कि बारहद्वारी कॉमर्शियल कॉम्पलेक्स विद मल्टी लेबिल कार पार्किंग, नौरंगीलाल राजकीय इण्टर कॉलेज में र्स्पोट्स कॉम्पलेक्स का निर्माण कार्य, जवाहर पार्क का सौन्दर्यीकरण एवं पुर्नविकास, ई-पाठशाला, प्रमुख जंक्शनों का सुधार, कैरिजवे इंप्रूवमेंट परियोजनाएं, सूतमिल, सासनीगेट, क्वार्सी एवं एटा चुंगी चौराहों का विकास कार्य, रेन वाटर हावेस्टिंग एवं ग्राउण्ड वाटर रिचार्ज कार्य एवं अन्य सहित 16 कार्य प्रगति पर हैं। 




*एडीजी  एवं एस एस पी ने कानून व्यवस्था की दी जानकारी* 


डीआईजी दीपक कुमार ने बताया कि जनपद में 31 थाने, 09 सर्किल हैं। ऑपरेशन खुशी के तहत 224 गुमशुदा बरामद किये गये। 20 अपराधियों को गिरफ्तार कर 12 बच्चों को सकुशल बरामद किया गया। अभियुक्तों के विरूद्ध गैगस्टर की कार्यवाही की गयी। मुख्यालय स्तर पर साइबर सेवा सेल एवं प्रत्येक थाने पर साइबर हैल्प डेस्क की स्थापना की गयी है। महिला बीट द्वारा निरन्तर भ्रमण एवं संवाद कर 995 मामलों का निस्तारण कराया गया। नवीनीकरण एवं सौन्दर्यीकरण कार्यों में मीटिंग हॉल, सम्मेलन कक्ष, चुनाव कार्यालय, पुलिस हॉस्पीटल, आदर्श बैरक का नवीनीकरण कराया गया। गेस्ट हॉस्टल, हॉर्स राइडिंग ग्राउण्ड एवं क्षेत्राधिकारी तृतीय कार्यालय का निर्माण कराया गया। अपराध नियंत्रण के क्षेत्र में नवीन प्रयोग के तहत ऑपरेशन निहत्था में 184 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया। ऑपरेशन त्रिनेत्र के तहत मुख्य मार्गों एवं बाजारों में 1086 सीसीटीवी कैमरे स्थापित किये गये हैं। एंटी क्राइम हैल्पलाइन के तहत व्हाट्स एप नम्बर जारी कर जुआ-सट्टा, अवैध असलहा के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की जा रही है। नवीन प्रयोगों के तहत ऑपरेशन ब्लैक कैट, ऑपरेशन वाहन मिलान, ऑपरेशन साइलेंस एवं ऑपरेशन तिकड़ी चलाया जा रहा है। किसी भी प्रकार की आपराधिक घटना होने पर शहर क्षेत्र 09.16 मिनट और देहात क्षेत्र में 12.55 मिनट है। ऑपरेशन हिस्ट्रीशीट के तहत डकैती, हत्या, हत्या का प्रयास, लूट, चोरी, नकबजनी, शराब तस्करी, गौकशी के कुल 460 मामले खोले गये। गौवध अधिनियम के तहत 24 अपराधियों के विरूद्ध कार्रवाई की गयी है। 20 शराब माफिया, 09 खाद्यान्न माफिया एवं 19 लुटेरों को चिन्हित कर कड़ी कार्यवाही की गयी है। प्रदेश स्तर पर चिन्हित 02 अपराधिओं के विरूद्ध कार्यवाही करते हुए क्रमशः 57.74 करोड़ एवं 04.48 करोड़ रूपये की चल-अचल सम्पत्ति जब्त की गयी। 

बैठक में राजस्व राज्य मंत्री श्री अनूप प्रधान, मा0 राज्यमंत्री श्री जसवन्त सैनी, राष्ट्रीय सह प्रभारी भाजपा श्री आर पी सिंह, मा0 जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती विजय सिंह, मा0सांसद श्री सतीश गौतम माननीय, मा0 सांसद श्री राजवीर दिलेर, मा0 सदस्य विधान परिषद चौधरी ऋषि पाल सिंह एवं डा0 मानवेंद्र प्रताप सिंह, मा0 विधायक बरौली ठा0जयवीर सिंह, मा0  विधायक शहर मुक्ता संजीव राजा, मा0 विधायक छर्रा ठा0 रवेन्द्र पाल सिंह, मा0 विधायक कोल श्री अनिल पाराशर, मा0 विधायक इगलास श्री राजकुमार सहयोगी, जिला प्रभारी भाजपा श्री श्रीचंद शर्मा, अध्यक्ष राज्य मंत्री श्रम एवं सेवायोजन ठा0 रघुराज सिंह, महानगर अध्यक्ष डॉ विवेक सारस्वत, पूर्व विधायक श्री संजीव राजा, मण्डलायुक्त श्री गौरव दयाल, डीआईजी श्री दीपक कुमार, जिलाधिकारी श्री इन्द्र विक्रम सिंह, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी, सीडीओ श्री अंकित खण्डेलवाल, नगर आयुक्त श्री अमित आसेरी, वीसी एडीए अतुल वत्स सहित सभी जिला स्तरीय अधिकारी एवं अन्य जनप्रतिनिधिगण उपस्थित रहे। 

----

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.