"..किसी भी खबर पर आपत्ति के लिए हमें ई-मेल से शिकायत दर्ज करायें"

एएमयू के महिला अध्ययन केन्द्र में कार्यशाला & ग्लोबल हैंडवाशिंग डे‘ का आयोजन

अलीगढ मीडिया डॉट अलीगढ़,19 अक्टूबरः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के सामाजिक विज्ञान स्नातकों, स्नातकोत्तर और शोधार्थियों के लिए ‘सामाजिक विज्ञान में कैरियर के अवसर‘ पर एक कार्यशाला का आयोजन विश्वविद्यालय के प्रशिक्षण और प्लेसमेंट कार्यालय जनरल द्वारा महिला अध्ययन केन्द्र में किया गया। 

महिला अध्ययन केंद्र की निदेशक, प्रोफेसर अज़रा मूसवी ने कहा कि “सामाजिक विज्ञान के छात्रों में मजबूत विश्लेषणात्मक और महत्वपूर्ण सोच और शोध कौशल मौजूद हैं। उनके पास बेहतर संचार और समस्या-समाधान कौशल हैं जो कैरियर के व्यापक अवसरों के द्वारा खोलते हैं।


उन्होंने कहा कि एडवांस्ड सेंटर फार वीमेंस स्टडीज़ विभिन्न गतिविधियों में प्रशिक्षण और प्लेसमेंट कार्यालय के साथ सहयोग करने के लिए बीए और एमए पाठ्यक्रमों से कुछ छात्र स्वयंसेवकों को नामित करेगा। डा शिवांगी टंडन ने कहा कि मानविकी और सामाजिक विज्ञान में कैरियर के बड़े अवसर उपलब्ध हैं। प्रशिक्षण एवं नियोजन अधिकारी श्री साद हमीद ने सामाजिक विज्ञान के छात्रों की भर्ती में रुचि के बारे में बताया। अनम हफीज़ ने धन्यवाद दिया।


विभागाध्यक्ष नियुक्त

अलीगढ़, 19 अक्टूबरः प्रोफेसर मुहम्मद क़मरउज्जमां को तीन वर्ष की अवधि के लिए एप्लाइड गणित विभाग, जेडएच कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के विभागाध्यक्ष नियुक्त रूप में नियुक्त किया गया है।


जेएनएमसी में ‘ग्लोबल हैंडवाशिंग डे‘ का आयोजन

अलीगढ़, 19 अक्टूबरः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के एचआईएसआई अलीगढ़ चैप्टर द्वारा ‘ग्लोबल हैंडवाशिंग डे‘ के अवसर पर आयोजित ‘हाइजीनिशिया‘ मेले में एमबीबीएस 2021 बैच की टीम हेल्दी हैंगआउट के पुरूस्कार से नवाज़ा गया। साबुन से हाथ धोने का महत्व समझाने के लिए स्टॉल लगाने की प्रतियोगिता में उन्होंने यह पुरूस्कार हासिल किया।


कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुए मुख्य अतिथि डा हमीदा तारिक, प्रसिद्ध बाल रोग विशेषज्ञ, ने कहा कि हर वर्ष की तरह, एचआईएसआई, अलीगढ़ चैप्टर बीमारी की रोकथाम के तरीकों के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए हाथ की स्वच्छता का संदेश फैला रहा है। उन्होंने कहा कि साबुन से हाथ धोने के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाने की अति आवश्यकता है क्योंकि यह बीमारियों को रोकने में बहुत प्रभावी और कुशल तरीका है। विशिष्ट अतिथि महिला कालिज की प्रिंसिपल, प्रोफेसर नईमा खातून ने कहा कि ‘कोविड महामारी से दुनिया ने बहुत कुछ सीखा है, किसी भी तरह के संक्रमण को रोकने के लिए हाथों की साफ-सफाई पहली प्राथमिकता है।‘


मेडिसिन फैकल्टी के डीन एवं जेएनएमसी प्रिंसिपल, प्रोफेसर राकेश भार्गव ने स्वस्थ आचरण को लोकप्रिय बनाने के सामूहिक प्रयासों पर जोर दिया। प्रोफेसर हारिस एम. खान (अध्यक्ष, एचआईएसआई अलीगढ़ चैप्टर और माइक्रोबायोलॉजी विभाग के अध्यक्ष) ने कहा कि साबुन से हाथ धोने से डायरिया, इबोला, सार्स, हेपेटाइटिस ई और कोविड के प्रकोप जैसी महामारियों से बचा जा सकता है और जोखिम काफी कम हो जाते हैं।


डा फातिमा खान (सचिव, एचआईएसआई, अलीगढ़ चैप्टर) ने लोगों को स्वच्छता का अभ्यास करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए विश्व हैंडवाशिंग दिवस का बड़े पैमाने पर मनाने का आग्रह किया। इस मौके पर मेडिकल कॉलेज के छात्रों ने बेदारी नाटक भी पेश किया। एनाटॉमी विभाग की प्रोफेसर फराह नाज़, प्रोस्थोडॉन्टिक्स विभाग की प्रो. शाइस्ता अफरोज, फिजियोलॉजी विभाग के डा अनवर और रेडियोडायग्नोसिस विभाग के डा सैयद मुहम्मद दानिश कासिम स्टाल प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल में शामिल थे।


-----------------------------

एएमयू के जेएन मेडिकल  में 22 अक्टूबर को कार्डियो प्रिवेंट का आयोजन

अलीगढ़, 19 अक्टूबरः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के कार्डियोलॉजी विभाग में कार्डियोलॉजिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया, यूपी चैप्टर का कार्डियो प्रिवेंट-2022 कार्यक्रम 22 अक्टूबर को आयोजित हो रहा है।

देश हृदय रोग के जोखिम को कम करने के लिए प्रभावी, साक्ष्य-आधारित रणनीतियों पर चर्चा इस कांफ्रेंस में देश के प्रमुख हद्यरोग विशेषज्ञ प्रोफेसर एमयू रब्बानी (अध्यक्ष, कार्डियोलॉजिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया, यूपी चौप्टर और अध्यक्ष, कार्डियोलॉजी विभाग, जेएनएमसी) ने बतया है कि कार्यक्रम में देश के सबसे प्रमुख चिकित्सा संस्थानों, अस्पतालों और अनुसंधान केंद्रों जैसे डा ओडिश शर्मा (एलपीएस संस्थान) कार्डियोलॉजी एंड कार्डिएक सर्जरी, कानपुर), डा. एमएम रज़ी (एलपीएस इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियोलॉजी एंड कार्डिएक सर्जरी, कानपुर), डा विकास अग्रवाल (इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज, बीएचयू), डा भुवन तिवारी (डा राम मनोहर लोहिया इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियोलॉजी) (चिकित्सा विज्ञान, लखनऊ), डा रमन पुरी (अपोलो, नई दिल्ली), डा राजीव अग्रवाल (जेआरएच, मेरठ), डा सिधांशु द्विवेदी (किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी, लखनऊ), डा धर्मेंद्र जैन (चिकित्सा विज्ञान संस्थान, बीएचयू), डा शरद चंद्र (किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी, लखनऊ), प्रवीर अग्रवाल (फोर्टिस एस्कॉर्ट्स, नई दिल्ली), डा सुभाष चंद्र (बीएलके-मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, नई दिल्ली), डा विवेक कुमार (मैक्स, दिल्ली), डा रजनीश कपूर (मेदांता, गुरुग्राम), डा राकेश यादव (एम्स, नई दिल्ली), डा आलोक सिंघल (टीएमयू, मुरादाबाद), डा सुदीप कुमार (एसजीपीजीआई, लखनऊ), डा आदित्य कपूर (एसजीपीजीआई, लखनऊ), डा रूपाली खन्ना (एसजीपीजीआई, लखनऊ)। जीआई, लखनऊ) डा पीयूष जैन (एस्कॉर्ट्स, दिल्ली), डा अजय पांडे (विरासत, वाराणसी), डा एससी मनचंदा (गंगा राम अस्पताल, नई दिल्ली) आदि व्याख्यान देंगे।


उन्होंने बताया कि इस कांफ्रेंस में हृदय रोग विशेषज्ञ हृदयघात की घटनाओं को रोकने के उपायों पर गंभीर मंत्रणा करेंगे ताकि लोगों को हृदयघात होने से पूर्व उन्हें सचेत किया जा सके। प्रोफेसर रब्बानी ने बताया कि आम लोगों को भी इस कांफ्रेस से जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है। इससे जुड़ने के लिउ कोई भी सामान्य व्यक्ति वाट्सएप नम्बर 7078667130 से लिंक हासिल कर सकता है।


जैव चिकित्सा अपशिष्ट प्रबंधन पर विशेष कार्यक्रम

अलीगढ़, 19 अक्टूबरः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के डा जेडए डेंटल कालेज, के प्रोस्थोडॉन्टिक्स विभाग ने ‘स्वच्छ भारत मिशन 2022‘ के उद्देश्यों के अनुरूप बायोमेडिकल अपशिष्ट प्रबंधन पर एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया जिसमें अपशिष्ट निपटान, पुनः उपयोग, पुनर्चक्रण, पुनर्प्राप्ति आदि पर जानकारी उपलब्ध कराई गई।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रोफेसर मजहर अब्बास (अध्यक्ष, बायोमेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट, फैकल्टी ऑफ मेडिसिन) ने अस्पतालों में डिस्चार्ज के समय उत्पन्न मेडिकल वेस्ट को अलग करने पर जोर दिया। डा श्रद्धा राठी (प्रोस्थोडॉन्टिक्स विभाग) ने बायो-मेडिकल वेस्ट के पृथक्करण पर अपने व्याख्यान के दौरान प्रतिभागियों को बहुमूल्य जानकारी दी, ताकि भविष्य के लिए डेंटल कॉलेज के छात्रों को शिक्षित और तैयार किया जा सके।


डा फातिमा खान (सूक्ष्म जीव विज्ञान विभाग) ने प्रतिभागियों को बायोमेडिकल कचरा प्रबंधन के बारे में सिखाने के लिए बिंगो और भोल भालिया जैसी इंटरैक्टिव गतिविधियों और खेलों का इस्तेमाल किया। प्रोफेसर शाइस्ता अफरोज (अध्यक्ष, प्रोस्थोडॉन्टिक्स विभाग) ने जैव चिकित्सा अपशिष्ट प्रबंधन पर ऐसे कार्यक्रम को उपयोगी बताया, जो प्रत्येक चिकित्सक के लिए आवश्यक है और स्वच्छ भारत मिशन के उद्देश्यों को प्राप्त करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। उन्होंने प्रोफेसर गीता राजपूत के साथ बायोमेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट के सदस्यों का स्वागत किया।


------------------------------

एएमयू ने बढ़ाई मतदाता सूची सुधार की तिथि

अलीगढ़, 19 अक्टूबरः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय ने डोनर श्रेणी से एएमयू कोर्ट की सदस्यता के लिए चयन प्रक्रिया के लिए मतदाता सूची में सुधार की अंतिम तिथि 10 नवंबर, 2022 तक बढ़ा दी गई है। प्रोफेसर इकबाल अली खान (मुख्य चुनाव अधिकारी) ने बताया है कि मतदाता सूची में सुधार, कमी या जोड़ने के लिए आवेदन डाक या ईमेल द्वारा ceo-donor@amu.ac पर किया जा सकता है। वेब लिंक

https://www.amu.ac.in/miscellaneous/court-election-amu पर लिस्ट देखी जा सकती है। मतदाता सूची में सुधार, चूक और जोड़ने के संबंध में सूचना मुख्य चुनाव अधिकारी को लिंक पर उपलब्ध निर्धारित प्रोफार्मा पर अभिवेदन द्वारा दी जा सकती है। कोई अभिवेदन दस्ती स्वीकार नहीं किया जाएगा।


 --------------------------

मौलाना आजाद पुस्तकालय में ‘स्वच्छता विशेष अभियान 2.0‘ का आयोजन

अलीगढ़, 19 अक्टूबरः डा हमीदा तारिक, प्रसिद्ध बाल रोग विशेषज्ञ ने मौलाना आज़ाद लाईब्रेरी की एक्सटेंशन बिल्ंिडग में लगी उन सभी स्टालों का निरीक्षण किया जहां दीन दयाल अंतोदिया योजना राष्ट्रीय हस्तशिल्प डोडा के पांच स्वयं सहायता समूहों, अलीगढ़, शहरी आजीविका मिशन के सिटी मिशन मैनेजमेंट यूनिट द्वारा तैयार सामग्री को प्रदर्शित किया गया था। उन्होंने हस्तनिर्मित वस्तुओं की सराहना की। क्यूआर कोड के माध्यम से सामान खरीदने का प्रावधान था, जिससे डिजिटल इंडिया अभियान को भी बढ़ावा मिला।

डा हमीदा तारिक ने जोर देकर कहा कि एएमयू के संस्थापक सर सैयद अहमद खान ने हमेशा ऐसी योजनाओं और कार्यों को प्रोत्साहित किया।

प्रौढ़ शिक्षा केंद्र की प्रो. आयशा मुनीरा रशीद और प्रो. शमीम अहमद ने अभियान के बारे में बताया और केंद्र के प्रशिक्षकों के साथ अपने विचार साझा किए. कार्यक्रम में बड़ी संख्या में छात्र-छात्राओं ने भाग लिया। इस अभियान में डूडा कार्यालय के श्री अनीस अहमद, श्री अपूर्व अग्रवाल और श्री सुल्तान अहमद ने भी भाग लिया। नोडल अधिकारी डॉ. अली जाफर आबिदी ने अतिथियों और प्रो. निशात फातिमा (विश्वविद्यालय के पुस्तकालयाध्यक्ष) को उनके सहयोग के लिए धन्यवाद दिया।


 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.