"..किसी भी खबर पर आपत्ति के लिए हमें ई-मेल से शिकायत दर्ज करायें"

एमएम हाल और वीएम हाल की टीमों ने इंटर हाल क्रिकेट प्रतियोगिता में जीत दर्ज कराई

0


 भारतीय भाषाओं से फारसी भाषा का संवाद पर राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन

अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ़, 11 मार्चः इंस्टीट््यूट आॅफ पर्शियन रिसर्च, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय तथा हिंदी विभाग, के संयुक्त तत्वावधान में एक दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन आज कला संकाय सभागार में किया। इस संगोष्ठी के विषय ‘भारतीय भाषाओं से फारसी भाषा एवं साहित्य का संवाद’ पर बोलते हुए हिंदी के प्रख्यात कथाकार प्रो. अब्दुल बिस्मिल्लाह ने कहा कि आज आवश्यकता इस बात की है कि फारसी साहित्य हिंदी में पाठकों के लिए कितना उपलब्ध है, इस पर विचार किया जाये। तभी हम हिंदी और फारसी भाषा के अंत र्संबंधों की पड़ताल कर पायेंगे। उन्होंने फारसी का हिंदी साहित्य एवं हिंदी का फारसी भाषा पर प्रभाव की चर्चा की। प्रो. बिस्मिल्लाह ने कहा कि इस अंतर्संबंध के कारण दोनों भाषाओं ने एक दूसरे को समृृद्ध किया उन्होंने साथ ही दोनों भाषाओं के अंतःसंबंध पर और अधिक शोध एवं अनुवाद किये जाने की आवश्यकता पर बल दिया।


कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए प्रो. अकील अहमद, निदेशक, एन.सी.पी.यू.एल, नई दिल्ली ने अपने अध्यक्षीय उद््बोधन में कहा कि किसी जबान को सरहदों में क़ैद नहीं किया जा सकता है। भाषाएँ सरहदों को तोड़कर दुनिया पर अपना असर छोड़ती है। संस्कृृत साहित्य का दुनिया से परिचय कराने में फारसी अनुवादों का बहुत बड़ा योगदान है। प्रो. अकील ने अपने उद््बोधन में भारत सरकार से आग्रह किया कि फारसी को भारती भाषाओं में शामिल किया जाए।


इंस्टीट््यूट आॅफ पर्शियन रिसर्च की संस्थापक निदेशक एवं सलाहकार प्रो. अज़रमी दुख्त सफ़वी ने अपने उद््घाटन भाषा में संगोष्ठी की सार्थकता पर अपने विचार प्रकट किए। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में आधुनिक भारतीय भाषाओं एवं प्राच्य भाषाओं के बीच आपसी सहयोग बढ़ाने की जरूरत है। उन्होंने भारत और ईरान के बीच विभिन्न क्षेत्रों में प्राचीन काल से चले आ रहे संबंधों की चर्चा की। उन्होंने वेदों और आवेस्ताँ के संदर्भ में फारसी और संस्कृृत को जुड़वा बहनंे बताया।


संगोष्ठी के विशिष्ट अतिथि अधिष्ठाता, कला संकाय प्रो. आरिफ़ नज़ीर ने भारतीय भाषाओं में मेलजोल पर बल दिया और कहा कि इसी कारण दुनिया की भाषाओं से भारतीय भाषाओं का संवाद बना हुआ है। उन्होंने कहा कि दूसरी भाषा को जानने से चीज़ों की दूसरे नजरिये से देखने की सलाहियत भी आती है।

फारसी विभाग की अध्यक्षा प्रो. राना खुर्शीद ने अमीर खुसरो, तुलसी और रहीम की चर्चा करते हुए हिंदी-फारसी के संबंधों पर प्रकाश डाला। स्वागत भाषण देते हुए निर्देशक, इंस्टीट््यूट आॅफ पर्शियन रिसर्च प्रोफेसर मुहम्मद उस्मान गनी ने कहा कि भारतीय भाषाओं और फारसी के संबंधों को प्राचीन काल से देखा जा सकता है, उसी संबंध को ध्यान में रखकर इस संगोष्ठी का आयोजन किया गया है।


धन्यवाद ज्ञापन हिंदी विभाग अ.मु.वि के अध्यक्ष प्रो. मो. आशिक़ अली ने दिया। कार्यक्रम का संचालन डाॅ. मु. एहतेशामुदद््ीन ने किया। कार्यक्रम के अंत में बी.ए. छात्रा अर्शी ने खुसरो की ग़जल का सस्वर पाठ किया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय एवं शहर के विद्वज्जन उपस्थित रहे । छात्र-छात्राओं की उपस्थिति ने कार्यक्रम को अत्यंत सफल बनाया।


----------------------------------


एमएम हाल की टीम फुटबाल विजेता बनी

अलीगढ़, 11 मार्चः अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय गेम्स कमेटी के फुटबाल क्लब द्वारा आयोजित इंटर हाल फुटबाल प्रतियोगिता के फायनल मुकाबले में एम हाल की टीम ने रोमांचक एवं संघर्षपूर्ण मैच में एनआरएससी की टीम को टाई ब्रेकर मुकाबले में 4-1 से हराकर विजेता का खिताब जीत लिया हैं


विश्वविद्यालय के फुटबाल मैदान पर हुई प्रतियोगिता के इस अंतिम मैच में आरंभ से ही दोनों टीमें एक दूसरे पर हावी रहीं और मध्यांतर तक एक दूसरे के विरूद्व कोई गोल नहीं कर सकी। मध्यांतर के बाद खेले गये मेच के पांचवे मिनट में एमएम हाल के मोहम्मद सद्दाम ने गोल कर अपनी टीम को 1-0 की बढ़त दिलाई। लेकिन उसके कुछ ही समय पश्चात एनआरएससी के अशद ने गोल कर स्कोर 1-1 की बराबरी पर ला दिया। मैच समाप्त होने तक दोनों की टीमों ने गोल करने के भरसक प्रयास किये लेकिन वह गोल करने में कामयाब नहीं हो सकी।


मैच का समय समाप्त होने पर टाइब्रेकर मुकाबले में एमएम हाल की टीम ने यह मेच 4-1 से जीत लिया। एमएम हाल की ओर से सद्दाम, साकिब, फहीम और राशिक ने एकएक गोल किया। जबकि एनआरएससी की ओर से एक मात्र गोल शुभम लोचन द्वारा किया गया। मैच के रैफरी फुटबाल कोच सैयद तुफैल उर रहमान, सैफ खान और मजहर युसुफ रहे।


इससे पूर्व सेमीफायइनल मुकाबलों में एमएम हाल की टीम ने एसएस हाल साउथ की टीम को 3-0 तथा एनआरएससी की टीम ने सर जियाउद्दीन हाल की टीम को 1-0 से हराकर फायनल में प्रवेश किया था।मैच समाप्ति पर पुरस्कार वितरण समारोह आयोजित किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि गेम्स कमेटी सचिव प्रोफेसर एस अमजद अली रिज़वी, फुटबाल क्लब अध्यक्ष प्रो. अली अथर ने विजेता व उप विजेता टीम को ट्राफी व खिलाड़ियों को स्मृति चिन्ह प्रदान किये। कार्यक्रम का संचालन पूर्व फुटबाल कप्तान सद्दाम हुसैन द्वारा किया गया।


इस अवसर पर एमएम हाल के प्रोवोस्ट प्रो. मुहम्मद अली जौहर, वार्डन डा. मंसूर आलम, अनीस उर रहमान, अरशद महमूद, मजहर उल कमर, नवेद, असलम खान व तौफीक अहमद आदि मौजूद रहे। 


--------------------------------------


एमएम हाल और वीएम हाल की टीमों ने इंटर हाल क्रिकेट प्रतियोगिता में जीत दर्ज कराई

अलीगढ़, 11 मार्चः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में चल रही इंटर हॉल क्रिकेट प्रतियोगिता के आज के मुकाबलों में एमएम हॉल की टीम सैयद हामिद सीनियर सेकेंडरी स्कूल बॉयज की टीम को 55 रन और वीएम हॉल की टीम डॉक्टर बी आर अंबेडकर हॉल की टीम को 34 रनों से हराकर अगले चक्र में प्रवेश कर गई है।


एमएम हॉल और सीनियर सेकेंडरी स्कूल के मध्य खेले गए मैच में एमएम हॉल की टीम ने टॉस जीतने के बाद पहले बल्लेबाजी करते हुए 15 ओवर में 7 विकेट के नुकसान पर 110 रनों का स्कोर किया।


आमिर ने सर्वाधिक 45 और आसिफ ने 20 रन बनाए। सैयद हामिद सीनियर सेकेंडरी स्कूल की ओर से रोबिन ने और अमन कुमार ने 3-3 विकेट हासिल किए। जवाब में सैयद हामिद सीनियर सेकेंडरी स्कूल की टीम 8.5 ओवरों में 53 रन बनाकर आउट हो गई। एमएम हॉल की ओर से शाहनवाज ने 6 और आमिर ने 2 विकेट हासिल किये।


वीएम हॉल और अंबेडकर हॉल के बीच खेले गए मैच में अंबेडकर हॉल की टीम ने टॉस जीतने के बाद पहले गेंदबाजी करने का निर्णय लिया। वीएम हाल की टीम ने 6 विकेट गंवाकर 123 रन बनाए साबिर ने 35 और जुनैद ने 32 रनों का योगदान दिया। अंबेडकर हॉल की ओर से जिया ने 4 और हन्नान ने एक विकेट हासिल किया। जवाब में अंबेडकर हॉल की टीम 14.5 ओवर में 90 रनों का स्कोर ही कर सकी नवेद और मुरसलीन ने 15-15 रन बनाए। वीएम हाल की ओर से मोमिन और इश्फाक ने 3-3 विकेट हासिल किए


-------------------------------


एएमयू रिसर्च स्कॉलर दीपिका वाशिष्ठ को मिला यंग जियोग्राफर अवॉर्ड

अलीगढ़, 11 मार्चः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के भूगोल विभाग की रिसर्च स्कॉलर मिस दीपिका वशिष्ठ को हाल ही में बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में 17वें डेक्कन ज्योग्राफिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया द्वारा आयोजित अंतर्राष्ट्रीय भूगोल सम्मेलन में ‘यंग जियोग्राफर अवार्ड’ प्राप्त हुआ है।


उन्हें यह एवार्ड अतरौली तहसील, अलीगढ़ जिला, उत्तर प्रदेश में ग्रामीण आजीविका, स्थिरता और कल्याण पर शोध प्रस्तुत करने के लिए प्रदान किया गया।


उनके शोध पत्र राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय ख्याति की पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुके हैं। दीपिका वशिष्ठ भूगोल विभाग के वरिष्ठ शिक्षक प्रोफेसर शहाब फजल के निर्देशन में शोध कार्य कर रही हैं।


--------------------------------


जेएनएमसी के दो जूनियर रेजीडेंट ने द्वितीय पुरस्कार प्राप्त किया


अलीगढ़, 11 मार्चः, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के जेएन मेडिकल कॉलेज के सामुदायिक चिकित्सा विभाग के रेजिडेंट डॉक्टरों की एक टीम ने दिल्ली पब्लिक हेल्थ कॉन्क्लेव में भाग लेने के लिए हमदर्द इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च (एचआईएमएसआर), नई दिल्ली का दौरा किया। सम्मेलन का विषय ‘शहरी स्वास्थ्यः सभी के लिए स्वास्थ्य सुरक्षित करने में सार्वजनिक स्वास्थ्य की भूमिका‘ था।


इस सम्मेलन में सामुदायिक चिकित्सा विभाग के जूनियर रेजिडेंट डा अबसार अहमद और डा जुबैर शम्सी ने प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में दूसरा पुरस्कार जीता।


-----------------------


बी.एड छात्रों का चयन

अलीगढ़, 11 मार्चः केरल में टॉप-ड्राअर इंटरनेशनल स्कूलों ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के मल्लापुरम केंद्र से शिक्षा स्नातक (बी. एड) छात्रों का अपने यहां चयन किया है।


जव्वाद उल हक (गणित), जेबा सरवर (इतिहास), शाहना (इस्लामी अध्ययन), मुहम्मद शानिद (वाणिज्य), मुहसिरा एपी (अरबी), सहला वलपारा (अरबी) और यशा आरिफ खान (अंग्रेजी) को पीवीस इंटरनेशनल स्कूल, नीलांबूर में शिक्षकों के रूप में भर्ती किया गया है। जबकि जेबा सरवर (एसएस), हिबा जमीर (रसायन विज्ञान), यशा आरिफ खान (अंग्रेजी), अंजीर एमए (अंग्रेजी) को हिल व्यू इंटरनेशनल स्कूल, कालीकट में भर्ती किया गया है।


जबकि एस्कोला इंटरनेशनल स्कूल, कोंडोट्टी में अजरा शेख (जीव विज्ञान), हुदा बहजथ (गणित), यशा आरिफ खान (अंग्रेजी), अंजीर (अंग्रेजी), हिबा केएस (जीव विज्ञान), सहला वलपारा (अरबी), सुमैया रहीम खान (इस्लामी अध्ययन) और शाहाना (इस्लामी अध्ययन) को नियुक्त किया।


द आइडियल इंग्लिश स्कूल कडकसेरी में जेबा सरवर, जवाद उल हक, अजरा शेख, हिबा जमीर, अंजीर एमए, विष्णु एस मेनन (मलयालम), ऐश्वर्या टी के (अर्थशास्त्र), मुस्कान पाशा (भूगोल) और फौजिया परवीन (नागरिक शास्त्र) का चयन हुआ है।


इसके अलावा हिलटॉप पब्लिक स्कूल, कुन्नक्कावु में शाहाना, ऐश्वर्या टीके और यशा आरिफ खान को नियुक्ति प्रदान हुई है। जबकि यशा आरिफ खान, जेबा सरवर, फौजिया परवीन, रमीस खालिद, ऐश्वर्या टीके, शाहाना, हुदा बहजथ, हिबा जमीर, अजरा शेख को लेसनलेंस ग्लोबल कैंपस, चंगारामकुलम द्वारा नियुक्त किया गया है।


इस अवसर पर केंद्र निदेशक के डॉ फैसल केपी ने प्लेसमेंट ड्राइव 2023 का उद्घाटन किया। उद्घाटन समारोह के दौरान विभाग समन्वयक, कैरियर और प्लेसमेंट क्लब के फैकल्टी संयोजक और कई अन्य लोगों ने प्लेसमेंट प्रक्रिया के अपने अनुभव साझा किए।


------------------------------


अमेरिका की एएसआरएई ने एएमयू छात्र शाखा के लिए उपकरण अनुदान में 14786 डॉलर का पुरस्कार प्रदान किया


अलीगढ़, 11 मार्चः अमेरिकन सोसाइटी ऑफ हीटिंग, रेफ्रिजरेटिंग एंड एयर-कंडीशनिंग इंजीनियर्स अशराए, यूएसए तथा अशराए, एएमयू छात्र शाखा, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग में 3 परियोजनाओं को वित्तपोषित करने के लिए वर्ष 2023-24 के लिये 14786 डॉलर की मंजूरी दी है। ।


तीन परियोजनाओं को अशराए अंडरग्रेजुएट प्रोग्राम इक्विपमेंट ग्रांट के तहत धन प्राप्त हुआ है। प्रोफेसर मोहम्मद मुजम्मिल, अध्यक्ष, मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग, जेडएचसीईटी, एएमयू ने सूचित किया।


डॉ. तालिव हुसैन और डॉ. मोहम्मद आसिफ, सहायक प्रोफेसर, एमईडी, और फैकल्टी सलाहकार, अशराए  छात्र शाखा, एएमयू ने कहा कि प्रतिष्ठित अमेरिकी संघ द्वारा चयनित पहले प्रोजेक्ट के लिये 4810 डॉलर का अनुदान मिला है तथा डॉ. तलिव हुसैन और डॉ. मोहम्मद आसिफ क्रमशः प्रमुख अन्वेषक (पीआई) और सह-पीआई के रूप में काम करेंगे। दूसरी परियोजना में 4977 डालर प्राप्त हुए हैं।


तीसरी परियोजना के लिये 4996 डालर का अनुदान प्राप्त हुआ है। इस परियोजना के लिए, डॉ मोहम्मद आसिफ और डॉ तलिव हुसैन क्रमशः पीआई और सह-पीआई हैं।


प्रो. मोहम्मद मुजम्मिल ने प्रतिष्ठित अमेरिकी निकाय से अनुदान प्राप्त करने के लिए अशराए, छात्र शाखा, मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग और इसके संकाय सलाहकार बधाई के पात्र हैं। जो हीटिंग, वेंटिलेशन, एयर-कंडीशनिंग और रेफ्रिजरेशन सिस्टम डिजाइन और निर्माण को आगे ले जा रहे हैं।


उन्होंने आशा जताई कि अशराए अंडरग्रेजुएट प्रोग्राम इक्विपमेंट ग्रांट्स के माध्यम से वित्त पोषित तीन परियोजनाएं छात्रों को एक अमूल्य सीखने का अनुभव प्रदान करेंगी।


--------------------------------


कक्षा 1 व कक्षा 6 की प्रवेश परीक्षा 12 मार्च को

अलीगढ़, 11 मार्चः अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय की पहली कक्षा एवं छटी कक्षा की प्रवेश परीक्षा 12 मार्च रविवार को आयोजित होगी।


एएमयू परीक्षा नियंत्रक द्वारा जारी सूचना के अनुसार पहली कक्षा की प्रवेश परीक्षा प्रातः 10 बजे दोपहर 12 बजे तक 11 परीक्षा केन्द्रों पर आयोजित की जायेगी। इस प्रवेश परीक्षा में शामिल होने के लिये 5926 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है। जबकि छटी कक्षा में प्रवेश के लिये परीक्षा सायं 4 बजे से सायं 6 बजे तक 25 परीक्षा केन्द्रों पर संपन्न होगी। इस परीक्षा के लिये 12378 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है।


--------------------------------


प्रबंधन प्रशिक्षु के रूप में एएमयू के 10 छात्रों का चयन


अलीगढ़, 11 मार्चः नोएडा स्थित वेब और मोबाइल एप्लिकेशन डेवलपमेंट कंपनी आरएनएफ टेक्नोलॉजीज ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के 10 छात्रों को मैनेजमेंट ट्रेनी के रूप में चयनित किया है।


श्री साद हमीद, ट्रेनिंग एंड प्लेसमेंट ऑफिसर, एएमयू ने कहा कि चयनित छात्रों में अंशुल वाष्र्णेय (एमबीए), शमा फातिमा (एमबीए), हमदि उर रहमान (बीटेक), शारिब फराज (एमबीए), भारती सिंह (पीजीडीबीएम), सैयद कैफ उर रहमान (एमबीए), शिवम चैधरी, (एम टेक), समरा इकबाल (एमबीए), हम्माद हसन (एमबीए), तमकनत खुन्नूर (एमबीए) शामिल हैं।


-----------------------------------


के. ए. निजामी सेंटर फॉर कुरानिक स्टडीज में राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन

अलीगढ़, 11 मार्चः अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के केए निजामी सेंटर फॉर कुरानिक स्टडीज द्वारा आयोजित दो दिवसीय ऑनलाइन राष्ट्रीय संगोष्ठी में देश भर के 32 से अधिक विद्वानों ने युवाओं में कुरान के अध्ययन को बढ़ावा देने के विभिन्न पहलुओं पर शोधपत्र प्रस्तुत किए।


उद्घाटन सत्र की अध्यक्षता करते हुए एएमयू के इस्लामिक अध्ययन विभाग के पूर्व अध्यक्ष प्रोफेसर जफरुल इस्लाम ने आधुनिक समय में युवाओं द्वारा कुरान के सार्थक अध्ययन के तरीके के बारे में बताया।


संगोष्ठी के प्रतिनिधियों का स्वागत करते हुए प्रोफेसर अब्दुर रहीम किदवई, मानद निदेशक, केए निजामी सेंटर फॉर कुरानिक स्टडीज ने कहा कि युवाओं को कुरान के शाश्वत, जीवनदायी मार्गदर्शन से परिचित कराने के लिए छात्रावासों और इलाकों में कुरान स्टडी सर्किल स्थापित किए जाने चाहिए।


केंद्र में सहायक प्रोफेसर डॉ. मोहम्मद अय्यूब अकरम ने कार्यक्रम का संचालन किया, जबकि केंद्र में सहायक प्रोफेसर डॉ. मोहम्मद मुबीन सलीम ने धन्यवाद ज्ञापन किया।


प्रोफेसर ओबैदुल्लाह फहद, प्रोफेसर तौकीर आलम फलाही, मौलाना अनिसुर रहमान, मौलाना सिराजुल हुदा, डॉ. बसीरत फातिमा, प्रोफेसर जियाउद्दीन मलिक, डॉ. अरशद इकबाल, डॉ. नदीम अशरफ, मौलाना जार्जिस कमीमी, डॉ. रेहान अख्तर, डॉ. नजीर अहमद आब. मजीद, डॉ. लुबना मलिक और डॉ. हामिद मियाँ ने सेमिनार के दौरान व्याख्यान प्रस्तुत किये।


-----------------------------


आंधी से गिरे हुये पेड़ों व टूटी शाखाओं का नीलाम

अलीगढ़, 11 मार्चः अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय के कार्यालय लैण्ड एण्ड गार्डन द्वारा आंधी से गिरे हुये पेड़ों व टूटी शाखाओं का नीलाम 16 मार्च को प्रातः 11 बजे कार्यालयलैण्ड एण्ड गार्डन्स विभाग परिसर में होगी। इच्छुक व्यक्ति समय पर आकर बोली बोल सकते हैं।


लैण्ड एण्ड गार्डेन्स के मेम्बर इंचार्ज प्रो. जकी अनवर सिद्दीकी ने कहा है कि इच्छुक व्यक्ति पेड़ों व टूटी शाखाओं को नीलामी से पूर्व भली भांति देख लें बाद में किसी भी प्रकार का भ्रम मान्य नहीं होगा।


उन्होंने कहा कि नीलाम कमेटी को पूर्ण अधिकार होगा कि बिना कारण बताये सर्वोच्च बोली को स्वीकार करे या न करे या नीलामी को स्थगित करे।


नीलाम का अन्तिम निर्णय नीलाम कमेटी में निहित होगा। किसी भी प्रकार का विवाद अलीगढ़ न्यायालय क्षेत्र तक सीमित होगा। अधिक जानकारी के लिये लैण्ड एण्ड गार्डन कार्यालय से सम्पर्क स्थापित किया जा सकता है।


 

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)