जनता से वित्तपोषित, UPI, PhonePe, और PayTM: 9219129243

Uttar Pradesh: 12 वर्ष बाद 320 आंगनबाड़ी कार्यकत्रियां बनीं मुख्य सेविका

0


*प्रदेश में 12 वर्ष बाद आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों की हुई प्रोन्नति*

*प्रदेश में 320 आंगनबाड़ी कार्यकत्रियां बनीं मुख्य सेविका*

*मा0 जिला पंचायत अध्यक्ष एवं जिलाधिकारी ने आंगनबाड़ी कार्यकत्री कुक्की रानी को प्रदान किया नियुक्ति पत्र*

*प्रोन्नति का रास्ता साफ होने से रिक्त मुख्य सेविकाओं के पद जल्द भरे जा सकेंगे*


अलिगढ़ मीडिया न्यूज़ ब्यूरो,अलीगढ 26 जुलाई 2023 (सू0वि0).  निष्पक्ष एवं पारदर्शी चयन प्रक्रिया के तहत कलेक्ट्रेट सभागार में जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती विजय सिंह ने बाल विकास विभाग में आंगनबाड़ी कार्यकत्री कुक्की रानी पत्नी प्रदीप कुमार अग्रवाल की मुख्य सेविका के पद पर प्रोन्नति होने पर नियुक्ति प्रमाण पत्र प्रदान किया। कुक्की रानी प्रमोशन प्राप्त करने के उपरांत अब जनपद हाथरस में मुख्य सेविका के रूप में अपनी सेवाएं प्रदान करेंगीं। श्रीमती विजय सिंह ने कहा कि पूरे प्रदेश में एक साथ आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों से 320 मुख्य सेविका के पद पर प्रोन्नति को नियुक्ति पत्र दिया गया है।

 डीपीओ श्रेयस कुमार ने बताया  कि निदेशालय स्तर से आगनबाड़ी कार्यकत्री कुक्की रानी केंद्र लोधा का प्रमोशन मुख्य सेविका के पद पर किया गया है। बुधवार को मा0 जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती विजय सिंह, जिलाधिकारी इन्द्र विक्रम सिंह के द्वारा कुक्की रानी को नियुक्ति पत्र प्रदान किया गया। उन्होंने बताया है कि आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों की पदोन्नति लगभग 12 वर्ष बाद हुई है।

आंगनबाड़ी कार्यकत्री से मुख्य सेविका के पद पर पदोन्नत होने से जनपदों में रिक्त चल रहे बड़े पैमाने पर मुख्य सेविका के पदों को भरा जा सकेगा। विगत वर्षों में प्रोन्नति न होने से जनपद में 111 मुख्य सेविका के सापेक्ष मात्र 19 मुख्य सेविकाऐं ही कार्यरत हैं। प्रदेश सरकार की पहल पर अब प्रमोशन होने आरंभ हो गए हैं। सूचना प्राप्त हुई है कि अन्य जनपदों से कुछ आंगनबाड़ी कार्यकत्रियां मुख्य सेविका पद पर पदोन्नत होकर आ रहीं हैं।

जिला कार्यक्रम अधिकारी द्वारा बताया गया कि मुख्य सेविकाओं के आने से विभाग के कार्यों को कराने में काफी सहयोग प्राप्त हो सकेगा और शासकीय योजनाओं के संचालन में गति प्रदान होगी। उन्होंने बताया कि बाल विकास विभाग में मुख्य सेविका को विभाग की रीढ़ माना जाता है। इनके द्वारा पोषण के स्तर की मॉनिटरिंग से विभागीय योजनाओं के क्रियान्वयन में काफी सहयोग प्राप्त होगा।

----

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)