जनता से वित्तपोषित, UPI, PhonePe, और PayTM: 9219129243

अलीगढ़। कोडियों के भाव बिक रही डिग्रियां, खुल्लम खुल्ला नकल करा रहे थे, कॉलेज वाले वीडियो वायरल

क्राइम ब्यूरो
0
👉

अलीगढ मीडिया न्यूज़ ब्यूरो,यूपी। परीक्षा चाहे किसी की हो नकल पर सरकार की कड़ी निगरानी रहती है, तमाम विभाग अलर्ट मोड पर नजर आते हैं बावजूद इसके नकल माफिया शासन प्रशासन की नाक के नीचे से दबा कर नकल करा रहे हैं, और नकल के नाम पर छात्रों से मोटी रकम भी वसूली रहे है।



अलीगढ़ में स्थित राजा महेंद्र प्रताप सिंह राज्य स्तरीय विश्विद्यालय के अंतर्गत आने वाले कॉलेजों में B.A bsc b.com MA Msc m.com की सेमिस्टर की परीक्षाओं में जमकर नकल हो रही है। नक़ल के नाम पर जमकर पैसे की मोटी रकम करीब तीन से पांच हजार तक भी वसूली जा रही है। साथ ही जिले के छर्रा क्षेत्र व अन्य जगहों पर जहां फारमेरसी कोर्स डी फार्मा, बीएससी नर्सिंग, जिएनेम, एएनएम एवम अन्य फार्मेसी कोर्सेस में भी परीक्षा के समय जमकर नकल की वसूली होती है। जिसमे छात्रों से करीब 15 हजार से 25 हजार रुपए तक नकल के नाम पर वसूल किया जाता है।

इस तरह की धांधलेबाजी से छात्रों व देश के भविष्य के साथ नकल माफिया खिलवाड़ कर रहे हैं। 

मामला अलीगढ़ जिले का है, जहां के छर्रा क्षेत्र व् अन्य जगहों पर कॉलेजो जहां विश्विद्यालय सेमिस्टर परीक्षाएं चल रही है, वहां  नकल का एक वीडियो सामने आया है, वीडियो में साफ देखा व सुना जा सकता है की किस प्रकार  छात्रों को नकल करा रहा है, सूत्रों के मुताबिक नकल कराने के लिए मोटी रकम जमा कराई जाती है। जबकि परीक्षाओं में चेकिंग टीम व सीसीटीवी कैमरा इत्यादि नजर रखते हैं, जबकि परीक्षा के समय उनको बंद कर दिया जाता है, अलीगढ मीडिया की गहनता से जानकारी जुटाने पर पता चला कि चेक करने वाली टीम व शिक्षा के उच्च अधिकारियों से पहले ही साठ गांठ कर ली जाती है छात्रों से मोटी रकम वसूल कर कुछ हिस्सा उन अधिकारियों को भी दिया जाता है, जिसमे विश्विद्यालय के प्रशासनिक अधिकारियों की भी हिस्सेदारी होती है, सरकार के आदेश के अनुसार कॉलेजों में वाई फाई की व्यवस्था होनी चाहिए लेकिन इस तरह की सभी व्यवस्थाएं ध्वस्त है, इसी की आंड में नकल का कारोबार फलफूल रहा है, अब जिस तरह से प्रशासन को ठेंगा दिखाते हुए नकल का कारोबार फल फूल रहा है उस तर्ज पर सूत्रों की बात भी कहीं ना कहीं सच साबित हो रही है अब देखना ये है कि प्रशासन कुछ करेगा या फिर सब बातों को नकार कर इसी तरह का गोरख धंधा फलता रहेगा?

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)