जनता से वित्तपोषित, UPI, PhonePe, और PayTM: 9219129243

अलीगढ़ मुस्लिम एवं मंगलायतन विश्वविद्यालय में हुआ उद्यम अभिमुखीकरण कार्यक्रम का आयोजन

0

अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ़: विश्वविद्यालय देश में ऐसे उच्च शिक्षण संस्थान हैं जहां देश के भविष्य की नर्सरी तैयार हो रही है। यहां से निकलने वाले विद्यार्थी देश की राजनीति से लेकर विभिन्न पदों व संस्थानों की कमान संभालते हैं। आज विकास में प्रदेश का दूसरा स्थान है। प्रदेश में 22 देशों की कंपनियां उद्योग स्थापित करने आ रही हैं, 10 लाख करोड़ से अधिक का निवेश होने जा रहा है। सरकार ने दो करोड़ से अधिक रोजगार पैदा करने का लक्ष्य तय किया है। आज सरकार उद्योग व रोजगार देने के लिए संसाधन पैदा कर रही है।


उक्त उद्गार मंगलायतन विश्वविद्यालय सभागार में ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी @ 4.0 से पूर्व आयोजित उद्यम अभिमुखीकरण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मदन मोहन पत्रकारिता संस्थान, महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ, वाराणसी के प्रो. ओमप्रकाश सिंह ने कहें। उन्होंने बताया कि ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में करीब 10 लाख करोड़ से अधिक के निवेश प्रस्ताव प्राप्त हुए। एक वर्ष के भीतर ही इन्हें जमीन पर उतारा जाएगा। यह प्रदेश के समग्र विकास और युवाओं के रोजगार के लिए अत्यंत लाभकारी होगा।


कार्यक्रम की रूपरेखा का प्रस्तुत करते हुए उत्तर प्रदेश अनुसूचित जनजाति वित्त एवं विकास निगम लखनऊ के प्रबंध निदेशक राधेश्याम (आईएएस) ने कहा कि उत्तर प्रदेश देश का हृदय है। हमारी टीम विश्वविद्यालय में विद्यार्थियों से संवाद कर उद्योग व रोजगार से जुड़ी जिज्ञासाओं का समाधान कर रही है। उन्होंने विद्यार्थियों से स्वयं के साथ दूसरों को भी महत्वपूर्ण जानकारी साझा करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि बेहतर शिक्षा ही विद्यार्थियों को आगे बढ़ाएगी। आपकी जिम्मेदारी प्रदेश के समग्र विकास की संभावनाओं को जमीन पर उतारने की है।


अध्यक्षीय उद्बोधन में कुलपति प्रो. पीके दशोरा ने कहा कि पढ़ाई के बाद क्या करना है यह सवाल विद्यार्थियों के मन में रहता है। इसके लिए देश के प्रधानमंत्री व प्रदेश के मुख्यमंत्री चिंता कर रहे हैं। हमारा देश दुनियां की पांचवी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है इसे तीसरे नंबर पर लाना है। लेकिन सिर्फ सपने देखने से कुछ नहीं होगा, देश को योजना बनाकर औद्योगिक व मानव श्रम से आगे बढ़ाना होगा। उन्होंने विद्यार्थियों से जॉब पाने वाले नहीं जॉब देने वाले बनने का आह्वान किया। कुलपति ने विद्यार्थियों से देश को तीसरी अर्थव्यवस्था बनाने का संकल्प दिलाते हुए कहा कि आपकी क्षमताओं में संवर्धन करने के लिए विश्वविद्यालय सभी सुविधाएं उपलब्ध कराएगा। कार्यक्रम के प्रारंभ में ज्वाइंट रजिस्ट्रार प्रो. दिनेश शर्मा ने स्वागत भाषण में कहा कि उद्यमिता बढ़ेगी तो देश को गति मिलेगी और विकास होगा। सरकार इस दिशा में बेहतर प्रयास कर रही है। एनएसएस के कार्यक्रम समन्वयक प्रो. सिद्धार्थ जैन ने आभार व्यक्त किया।


कार्यक्रम का आयोजन में राष्ट्रीय सेवा योजना की इकाई एक व चार की अधिकारी श्वेता भारद्वाज व स्वयं सेवक नंदिनी, अजिता, पारुल, शिवम, साहस, विशाल, आरती के सहयोग से हुआ। संचालन चेतना सिंह ने किया। इस अवसर पर जेसीआई बीरेद्र कुमार, आरएचईओ अलीगढ़ विजेंद्र प्रताप सिंह, एडीडीओएसके संध्या रानी बघेल, प्रो. जेएल जैन, प्रो. रविकांत, प्रशासनिक अधिकारी गोपाल राजपूत, जितेंद्र यादव, कैप्टन लक्ष्मण सिंह, योगेश कौशिक, रोबिन वर्मा उपस्थित रहे।


अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में हुआ ओरियंटेशन प्रोग्राम : 

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के मेडिकल कॉलेज कैंपस सभागार में आयोजित ओरियंटेशन प्रोग्राम के तहत छात्रों को सरकार की औद्योगिक व रोजगार से संबंधित विभिन्न योजनाओं व नीतियों की दी गई जानकारी। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की ओर से नोडल अधिकारी रफीक उद््दीन ने बताया कि शासन से प्राप्त निर्देशानुसार ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी से पूर्व तकनीकी संस्थानों, विश्वविद्यालयों वमहाविद्यालय के छात्रों के मध्य प्रदेश सरकार की नीतियों की जानकारी देने, प्रचार प्रसार व सरकार की उपलब्धियां को आम जनमानस के बीच पहुंचने के उद््देश्य से ओरियंटेशन प्रोग्राम आयोजित किया गया है। 


          सहायक आयुक्त उद्योग राजमान विश्वकर्मा ने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा 19 फरवरी को इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान लखनऊ में माननीय प्रधानमंत्री जी तथा माननीय मुख्यमंत्री जी की गरिमामय उपस्थिति में चौथी ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी का आयोजन किया जा रहा है जिसमें 10 लाख करोड़ से अधिक के 14000 से अधिक निवेश प्रस्तावो का शिलान्यास किया जाएगा। उन्होंने छात्रों से अपील करते हुए कहा कि वह नौकरी की खोज ना करने वाले बनकर नौकरी देने वाले के रूप में कार्य करें। विभिन्न प्रकार की शिक्षा, तकनीकी शिक्षा ग्रहण कर अधिक से अधिक छात्र अपना उद्यम स्थापित करें जिससे कि वह न सिर्फ स्थानीय व्यक्तियों को रोजगार दें बल्कि देश को स्वदेश निर्मित उत्पादों पर आत्मनिर्भर बनाते हुए प्रदेश की अर्थव्यवस्था को सुदृढ करें। कार्यक्रम में उद्योग केन्द्र बृजेश यादव समेत एएमयू के वक्तागण एवं बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)