जनता से वित्तपोषित, UPI, PhonePe, और PayTM: 9219129243

शादी के लिए दबाब बना रही प्रेमिका का गला रेत कर हत्या,प्रेमी ने लगाई फांसी

0


अलीगढ़,गजेंद्र कुमार- अलीगढ़ में शुक्रवार रात को प्रेमी ने प्रेमिका का गला काट कर युवक ने खुद को फांसी लगाकर जान दे दी।मौके पर मिले सोसाइट नोट में प्रेमिका युवक पर शादी करने का दबाब डाल रही थी। पुलिस ने दोनों शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। 


युवक के शादीशुदा होने के बाबजूद प्रेमिका कर रही थी ब्लैकमेल

रामघाट रोड पर स्थित PAC के निकट साइन इंस्टिट्यूट ऑफ़ कंप्यूटर टेक्नोलॉजी के संचालक ललित कुमार ने अपनी प्रेमिका यामिनी को मौत के घाट उतारकर खुद को भी फांसी लगा ली। दरअसल  हरदुआगंज क्षेत्र के गांव इब्राहिमपुर की निवासी यामिनी  नौकरी करती थी. और इसी सेंटर में बच्चों को पढ़ाती थी। बताया जा रहा है कि दोनों के बीच चार साल से प्रेम प्रसंग चल रहा था,जिसके चलते शाम को सेंटर बंद करने के बाद ललित खुद यामिनी को उसके घर तक छोड़ने जाता था. जब कल देर रात तक दोनों घर नही पहुँचे तो  परिजनों ने उन्हें तलाशना शुरू कर दिया तलाशते हुए परिजन कंप्यूटर सेंटर पहुंचे. वह शटर को खुला देख चोंक गए। इसके बाद उन्होंने देखा कि सेंटर के ऑफिस के बंद कमरे में यामिनी का शव जमीन पर पड़ा था,और ललित का शव रस्सी के फंदे से लटक रहा था. वहीं पास में तमंचा और चाकू पड़ा था. इसके सूचना परिजनों ने तुरंत पुलिस को दी । मौके पर पहुँचे सिविल लाइन थाने के क्षेत्राधिकारी अमृत जैन और कुवार्सी थाने के एसओ विजयकांत शर्मा ने दोनों शवों को कब्जे में लेकर साक्ष्य जुटाने के लिए फॉरेंसिक टीम को बुलाया।कंप्यूटर सेंटर के ऑफिस से पुलिस को सुसाइड नोट भी मिला. जिसमें लिखा था कि दोनों के बीच चार साल से प्रेम प्रसंग चल रहा था. युवक की शादी पहले ही हो चुकी थी. इसके बावजूद यामिनी शादी करने का प्रेशर बनाकर ब्लैकमेल कर रही थी। 


वहीं घटना के संबंध में थाना सिविल लाइन क्षेत्राधिकारी अमृत जैन ने बताया कि रामघाट रोड स्थित साइन इंस्टिट्यूट ऑफ़ कंप्यूटर टेक्नोलॉजी में एक युवक और युवती का मृत अवस्था में शव मिला है. स्थानीय पुलिस ने मौके में पहुंचकर घटनास्थल की जाँच की है मौके पर पहुंचकर फील्ड यूनिट ने तथ्यों को संग्रह किया. वही, मौके पर कमरे में सुसाइड नोट भी प्राप्त हुआ है।फिलहाल दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा दिया गया है. आगे की विविध कार्यवाही की जा रही है।

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)