जनता से वित्तपोषित, UPI, PhonePe, और PayTM: 9219129243

गर्मी एवं हीट-वेव से बचाने को मण्डल मुख्यालय समेत चारो जनपदों में बना कन्ट्रोल रूम, हैल्पलाइन नम्बर जारी

0



*मण्डलायुक्त ने गर्मी एवं हीट-वेव से बचने के बताए उपाय*

अलीगढ़ मीडिया डिजिटल, न्यूज़ ब्यूरो अलीगढ: मण्डलायुक्त चैत्रा वी. द्वारा वर्तमान में हीट-वेव के बढ़ते प्रकोप के दृष्टिगत हीट वेव से बचाव व उसके प्रभावों को कम करने और मण्डलवासियों को इसके प्रति जागरूक करने के लिये सलाह देते हुए विशेष सावधानियां बरतने की अपील की गई है। उन्हांेंने बताया है कि मण्डल मुख्यालय समेत मण्डल के चारो जिलों में हीट-वेव एवं दैवीय आपदा कन्ट्रोल रूम की स्थापना करा दी गई है। जिसके लिए मण्डल मुख्यालय कन्ट्रोल रूम पर दूरभाष नम्बर 0571-2741180, जनपद अलीगढ़ के लिए 0571-2700128, जनपद एटा के लिए 05742-234320, 234327, जनपद हाथरस के लिए 9454417798 एवं जनपद कासगंज के लिए 05744-272105 पर सम्पर्क किया जा सकता है। 

मण्डलायुक्त ने हीट स्ट्रोक के लक्षणों की जानकारी देते हुए बताया कि कमजोरी, चक्कर आना, सर दर्द, उबकाई, पसीना आना, मूर्छा होने पर तत्काल चिकित्सीय सलाह लें। अधिक से अधिक पानी पियें, ओआरएस, घर में बने हुये पेय पदार्थ जैसे लस्सी, नींबू पानी, छाछ का उपयोग करें। शरीर को ढक कर रखें और हल्के रंग के पसीना शोषित करने वाले वस्त्र पहनें। धूप के चश्में, छाता टोपी व चप्पल का प्रयोग करें। दिन में खिड़कियों, पर्दे व दरवाजे बंद रखें। जानवरों को छायादार स्थानों पर रखें और उन्हें पीने को पर्याप्त पानी दें। छोटे बच्चे, गर्भवती महिलाओं एवं बुजुर्गों के स्वास्थ्य की नियमित रूप से देखभाल करें। अधिक गर्मी वाले समय विशेषकर दोपहर 12 से 03 बजे के मध्य सूर्य की सीधी रोशनी में जाने से बचें। अधिक प्रोटीन वाले खाद्य पदार्थ एवं बासी भोजन का प्रयोग न करें। हल्के व सुपाच्य भोजन का प्रयोग करें। बच्चे तथा पालतू जानवरों को खड़ी गाड़ियों में न छोड़ें। 

मण्डलायुक्त ने बताया कि गहरे रंग के भारी व तंग कपड़े न पहनें। जब बाहर का तापमान अधिक हो तब श्रमसाध्य कार्य न करें। अधिक गर्मी वाले समय में खाना बनाने से बचें। शराब, कॉफी, चाय, कार्बाेनेटेड ड्रिंक का उपयोग करने से बचें। बिना चिकित्सीय सलाह के किसी भी दर्द निवारक (पेन किलर) औषधि का सेवन न करें। उन्होंने कार्मिकों सावधानियां बरतने की सलाह देते हुए बताया कि कार्यस्थल पर शीतल पेयजल की व्यवस्था करें और प्रत्येक 20 मिनट की अवधि पर जल का सेवन करें। गर्भवती महिलायें तथा पहले से बीमार व्यक्तियों को अधिक तापमान की स्थिति में कार्य करने के विषय में चिकित्सक से परामर्श करना चाहिये।

-----

                                                         

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)