विकास भवन में तीन घंटो तक DM ने देखे अधिकारियों के दफ्तर, कुर्सी के नीचे मिली सिगरेट की खाली डिब्बी

0


अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ (सू0वि0) | जिलाधिकारी इंद्र विक्रम सिंह ने आज प्रातः 10ः20 बजे विकास भवन स्थित सभी कार्यालयों का औचक निरीक्षण किया। 3 घंटे चले निरीक्षण में जिलाधिकारी द्वारा सभी अधिकारियों कर्मचारियों को निर्देशित किया गया कि वह अपने-अपने कार्यालयों में रखे निष्प्रयोज्य सामान की नीलामी कराएं यदि वह प्रयोग के लायक है तो मरम्मत कराकर उसको प्रयोग में लाया जाए। कबाड़ को इकट्ठा ना रखें। सामान पुराना हो जाने, प्रयोग में न होने पर नियमानुसार उसकी नीलामी करायें। डीएम ने विभिन्न कार्यालयों से निकली अतिरिक्त 7 मेज और 20 से अधिक कुर्सियों को बीएसए को इस आशय से सौंपा कि उन्हें ऐसे शासकीय प्राथमिक विद्यालय जहां की शैक्षणिक गुणवत्ता अच्छी है और फर्नीचर का अभाव है, वहाँ भेजा। ऐसे में फर्नीचर प्राप्त कर वह शिक्षा देने और ग्रहण करने के लिए और भी प्रेरित होंगे।

     जिलाधिकारी इन्द्र विक्रम सिंह आज प्रातः 10.20 बजे विकास भवन पंहुचे। सबसे पहले उन्होने डीआरडीए कार्यालय का निरीक्षण किया, जिसमें लेखा कक्ष की अलमारी के ऊपर रखे प्रिंटर पर नाराजगी व्यक्त करते हुये दीवार पर लगे पुराना कलेन्डर को उतरवाया। डिस्पैच कक्ष में खराब ट्यूबलाइट और परदे की पुरानी रॉड रखी पायी गयी। जिलाधिकारी द्वारा भण्डारण कक्ष को खोलने के लिये निर्देशित किया गया परन्तु कक्ष की चाबी नहीं मिली, जिसपर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त की। सहायक सांख्यिकी अधिकारी, डीआरडीए सुनील गुप्ता का कक्ष सुव्यवस्थित पाया गया। आर0पी0 गुप्ता एई, डीआरडीए का शौचालय का निरीक्षण किया गया परन्तु शौचालय गंदा पाया गया, जिस पर जिलाधिकारी ने कहा कि आप तो इंजीनियर है, कभी सोचा नहीं कि सफाई रखनी चाहिए। उसके उपरान्त अलमारियों के ऊपर रखी पत्रावलियों पर असंतोष व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि पत्रावलियां अलमारी के अंदर रखी जाएं, ऊपर नहीं। विधायक निधि लेखा विभाग का रजिस्टर चौक किया गया तो सभी कर्मचारी उपस्थित पाये गये। डीआरडीए लेखा अनुभाग में दो अलमारियों का निरीक्षण किया तो पाया कि कई वर्षों पुरानी पत्रावलियां है, जिन्हे शायद वर्षों से खोला गया हो। एक अलमारी में वर्ष 2005-06 की पत्रावली रखी पाई गयी जो कभी खोली नही गयी, जबकि इनकी बीडिंग की जा सकती थी। ट्राईसैम योजना जोकि 1999 में बंद हो गयी थी उसके दस्तावेज रखे पाये गये। जिस पर जिलाधिकारी ने कहा कि यदि हम अपना कार्यालय ठीक नहीं कर सकते तो विभाग के कार्यों को कैसे दुरूस्त करेगें। सबसे पहले अपने बैठने का स्थान अच्छा होना चाहिए। आलोक सक्सेना, डीआरडीए की मेज पर 2012 का रिकोर्ड रखा पाया गया, जिसपर रिकार्ड कीपिंग न करने के लिये जिलाधिकारी ने माह सितम्बर का वेतन रोकने के कडे़ निर्देश दिये। कुर्सी के नीचे सिगरेट की खाली डिब्बी पाई गयी और उनके बैठने के स्थान के ठीक बगल की कुर्सी पर निष्प्रयोज्य सामान जो पूरी तरह से खराब था, रखा पाया गया। डीआरडीए के निष्प्रयोज्य कक्ष खुलबाने पर 50 बर्षों से अधिक पुराना रखी हुयी पत्रावलियॉ, कुर्सी, बोर्ड, दस्तावेज एवं मेज रखी पायी गयी, जिस पर कडी नाराजगी व्यक्त करने के साथ उन्होने निर्देश दिया कि कार्यालय में साफ सफाई रखी जाय एवं निष्प्रयोज्य समान की नीलामी और पुराने पडे समान की मरम्मत कर प्रयोग में लाया जाय।


     इसके उपरान्त जिलधिकारी ने जिला पंचायत राज अधिकारी कार्यालय का निरीक्षण किया, जिसमें कार्यालय मंे पुरानी निष्प्रयोज्य कुर्सियों को मरम्मत कराकर प्राईमरी पाठशाला में भेजने के निर्देश दिये। पंचायत स्थापना अनुभाग के वरिष्ठ सहायक राजेश कुमार की एक वेतन वृद्वि एक वर्ष के लिये रोकने के निर्देश दिये। कोर्ट केस की पत्रावली का अवलोकन किया तो पाया कि दस्तावेज अव्यवस्थित हैं, जिसका वह जिलाधिकारी को जबाव भी नही दे सके। आकाश अग्रवाल ग्राम पंचायत अधिकारी व्यक्तिगत की पत्रावली रेण्डम निकालने के निर्देश दियंे। विभागीय अनुशासनात्मक कार्यवाही पंजिका निर्धारित प्रारूप पर नही पायी गयीं। एक टेबल रैक में 6 स्टाम्प पैड पाये गये, जिसपर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्ति करते हुये कहा कि 1 स्टाम्प पैड से कार्य किया जा सकता है, तो 06 पैड खरीद कर शाासकीय धन का दुरूपयोग क्यों किया जा रहा हैं। ग्राम पंचायत विकास योजना में कार्यरत इसरार अहमद द्वारा विधान सभा चुनाव के समय की सामग्री जो विकास खण्डों में भेजनी चाहिए थी परन्तु नही भेजी गयी, जिलाधिकारी द्वारा नाराजगी व्यक्त की गयी। सुशील कुमार कैशियर का कार्य संतोष नही मिलने पर जिलाधिकारी द्वारा तीन माह का वेतन रोकने के निर्देश दिये ।


     इसके उपरान्त आरईएस कार्यालय पहुचकर अधिशासी अभियन्ता मदनपाल वर्मा के कार्यालय में पडी 04 अतिरिक्त कुर्सियों को बाहर निकलने का आदेश दिया। डिप्लोमा इंजीनियर कक्ष में 2 बडी मेज और 25 कुर्सियां पाई गईं। कमर छोटा होने पर एक कुर्सी पर 5-5 कुर्सियां रखी मिली। पत्रावलियों का उचित रख-रखाव न होने पर सफी इनायत, वरिष्ठ सहायक के वेतन रोकने का निर्देश दियंे।  कृष्ण कुमार सहायक अभिन्ता के कक्ष में अनावश्यक समाना पाया जिस पर जिलाधिकारी ने कहा कि समान निस्तारण कराया जाय। कक्ष के अन्दर स्थित शौचालय का गेट खुलवाने पर पाया गया कि शौचालय बहुत गंदा है, जिसपर जिलाधिकारी ने कडे निर्देश देते हुये कहा कि इसकी साफ सफाई सुनिश्चित किया जाय।


     जिलाधिकारी समाज कल्याण विभाग पहुॅचे वहॉ एक कक्ष में अव्यवस्थित रखे कूलर को कस्तूरबा गॉधी विद्यालय में भेजने के निर्देश दिये। जिला समाज कल्याण अधिकारी सूरज कुमारी का कार्यालय खराब पाया गया, जिस पर जिलाधिकारी ने वेतन रोकने के आदेश दिये। उन्होने निर्देश दिया कि कर्यालय सुव्यवस्थित के उपरान्त सी0डी0ओ0 से प्रमाण पत्र निर्गत कराये। कार्यालय का शौचालय गंदा पाया गया, जिसपर साफ सफाई के निर्देश दिये।


     इसके उपरान्त जिलाधिकारी जिला विकास अधिकारी कार्यालय पहुॅचे। अव्यवस्थित रूप से रखे कूलर को बी0एस0ए0 कार्यालय पहुॅचाने के निर्देश दिये। बाबा साहब अम्बेडकर रोजगार प्रोत्साहन योजना का पोर्टल देख रही महिला कर्मी योजना के बारे में संतोषजनक जवाब नही दे पायी, जिसपर जिलाधिकारी ने असन्तोष व्यक्त किया। जिलाधिकारी ने सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों को निर्देशित किया है कि वह अपने कार्यालय को बेहतर कार्यालय बनाएं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
एक टिप्पणी भेजें (0)
...अपने इलाके की खबरों/वीडियो/फोटो अलीगढ मीडिया पर प्रकाशन हेतु व्हाट्सअप या ई-मेल करें:aligarhnews@gmail.com

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top