"..किसी भी खबर पर आपत्ति के लिए हमें ई-मेल से शिकायत दर्ज करायें"

#अलीगढ़।SSP से लेकर DIG तक लगाई गुहार लेकिन Harduaganj Police ने नही लिखी छेड़छाड़ पीड़िता की FIR, 7दिन बीते

 अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ| जनपद के हरदुआगंज इलाके के एक गांव में गत रविवार को महिला के साथ घर में घुसकर मारपीट और छेड़छाड़ पीड़िता की पुलिस द्वारा अभी तक मुकदमा दर्ज नहीं हुआ है। पिछले सोमवार को पीड़िता ने एसएसपी कार्यालय पहुंचकर एक शिकायती पत्र दिया था जिसमे कि गांव का ही एक युवक पर छेड़छाड़ औऱ मारपीट करने का आरोप लगाया था। शिकायत में पीड़िता ने मीडिया को दिए बयान में भी कहा था कि आरोपी काफी समय से उस पर बुरी नजर रखता है, इसकी शिकायत उसने अपने पति से की तो वह उससे रंजिश मानने लगा। पिछले रविवार को समय सुबह करीब 10:00 बजे की वह जब घर पर अकेली थी तो मौका पाकर आरोपी नागेंद्र उसके घर में घुस आया और उसके साथ बुरी नीयत से अश्लील हरकत करते छाती को पकड़ लिया। जब उसने शोर मचाया तो मौहल्ले के संजीव व अन्य बहुत से लोग मौके पर आ गये जिन्होंने मुझे बचाया और मेरे साथ विरोध करने पर नागेंद्र ने मेरे साथ घर के अन्दर मारपीट की जिससे मेरे सिर व कौहनी पर गम्भीर चोटें आई। जब पीड़िता ने अपने पति को उक्त घटना के बारे में बताया कि मेरे साथ नरेन्द्र ने उक्त घटना की है तो सूचना पर मेरे पति घर पर आये और आकर उक्त नरेन्द्र के पिता से घटना की बावत शिकायत की तो आरोपी और उसके पिता  आदि ने उसके पति व जिठानी के साथ भी लात घूसों से मारपीट की और जान से मारने की धमकी देने दी| 

 घटना की रिपोर्ट दर्ज करवाने पीड़िता तुरंत थाना हरदुआगंज गयी तो वहां पुलिस ने उनकी कोई रिपोर्ट नहीं लिखी और नही कोई डाक्टरी कराई। शिकायती पत्र में कहा है कि इलाके के साधुआश्रम चौकी इंचार्ज दरोगा अरविन्द यादव ने पीड़िता की शिकायत दर्ज करने की बजाय मामले को दूसरे रंग देने के लिए उसके पति व जेठ , औऱ आरोपी के दो परिचितों के खिलाफ धारा 151 सी०आर०पी०सी० के अन्तर्गत चालान कर दिया| हालाँकि एसएसपी ने मामले में जाँच कर कार्रवाई करने के आदेश किये थे| परंतु थाना पुलिस ने कोई मुकदमा दर्ज नही किया। थाना प्रभारी हरदुआगंज का कहना है कि मामले में।आवश्यक सभी कार्रवाई कर दी गयी है।


पीड़िता के छेड़छाड़ का आरोप गलत लगाये गए है। फ़िलहाल मामले।में मुकदमा दर्ज नही होने ने पीड़िता परेशान है। उसका कहना है कि आरोपी पक्ष धनबल औऱ राजनीतिक दबाब बनाकर शिकायत बापस लेने को मजबूर कर रहा है। शिकायत वापस नही लेने पर दीपावाली के बाद अंजाम भुगतने की खुलेआम धमकी दिलवा रहा है। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.