"..किसी भी खबर पर आपत्ति के लिए हमें ई-मेल से शिकायत दर्ज करायें"

कुलपति ने दी दीपावली की बधाई दी>> जेएनएमसी में कार्डियोप्रेवेंट-2022 सम्मेलन का आयोजन

अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ़, 22 अक्टूबरः देशवासियों, अलीगढ़ के नागरिकों और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय बिरादरी को दीपावली की बधाई देते हुए कुलपति प्रो तारिक मंसूर ने कहा कि यह प्रेरणा, आशा और एकजुटता का त्योहार और रिश्तेदारों और दोस्तों के साथ खुशी और शुभकामनाएं साझा करने का अवसर है। उन्होंने दुआ की कि इस खुशी के अवसर पर समृद्धि और उल्लास से हमारा जीवन भर जाये।

---------------------------

एनएसएस द्वारा स्वच्छता रैली आयोजित

अलीगढ़ 22 अक्टूबरः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार, श्री मोहम्मद इमरान (आईपीएस) ने आज विशेष स्वच्छता अभियान 2.0 का आरंभ करते हुए बाब-ए-सैयद गेट से शताब्दी गेट तथा वापस बाब-ए-सैयद गेट तक एक स्वच्छता रैली को झंडी दिखाकर रवाना किया। रैली का आयोजन राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस), एएमयू द्वारा विश्वविद्यालय स्वास्थ्य कार्यालय के सहयोग से किया गया था, जिसके अध्यक्ष डा अली जाफर आबेदी हैं, जो विशेष स्वच्छता अभियान 2.0 के नोडल अधिकारी भी हैं। रैली में कार्यवाहक प्रॉक्टर, प्रोफेसर सैयद अली नवाज़ जैदी और डा अली जाफ़र आबेदी के साथ एनएसएस समन्वयक डा अरशद हुसैन व कार्यक्रम अधिकारियों, छात्र स्वयंसेवकों और कर्मचारियों सहित 200 से अधिक छात्रों ने भाग लिया।

------------------------------

एएमयू भाषाविद् द्वारा फील्ड भाषाविज्ञान पर व्याख्यान

अलीगढ़, 22 अक्टूबरः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के भाषाविज्ञान विभाग के अध्यक्ष, प्रोफेसर एम.जे वारसी ने कम अध्ययन वाली भाषाओं के विवरण और प्रत्यक्ष ज्ञान के सृजन के लिए ‘फील्ड भाषाविज्ञान‘ के महत्व पर ध्यान देने के लिए विशेषज्ञों का आह्वान किया। वह इंटरनेशनल स्कूल ऑफ द्रविड़ भाषाविज्ञान और भाषाविज्ञान विभाग, केरल विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित ‘फील्ड भाषाविज्ञान‘ पर कार्यशाला में समापन भाषण दे रहे थे।

प्रोफेसर वारसी ने कहा कि फील्ड भाषाविज्ञान एक ऐसा क्षेत्र है जिस पर पर्याप्त ध्यान देने की जरूरत है। देश में ऐसी कई लुप्तप्राय भाषाएं और बोलियां हैं जिनमें अद्वितीय शब्दकोष और विशिष्ट अर्थ हैं जो उस समाज के लिए उपयुक्त हैं जिसमें भाषा का उपयोग किया जाता है। उन्हें संरक्षित करने से हमें वास्तविक दुनिया की सभी अभिव्यक्तियों में इन भाषाओं को समझने में मदद मिलेगी।

उन्होंने कहा कि यह जरूरी है कि भाषाविदों और शोधकर्ताओं को भाषाई सर्वेक्षण करने के लिए क्षेत्र पद्धति का प्रशिक्षण दिया जाए ताकि कम अध्ययन वाली भाषाओं और बोलियों को बनाए रखा जा सके और उन्हें नया जीवन प्रदान किया जा सके।

प्रोफेसर वारसी ने कहा कि जैसे-जैसे अधिक से अधिक भाषाएं विलुप्त होने के कगार पर पहुंच रही हैं, क्षेत्रीय भाषाविज्ञान संबंधित भाषाओं का संरक्षण और दस्तावेजीकरण आवश्यक होता जा रहा है। भाषाविदों और शोधकर्ताओं के लिए यह उपयोगी हो सकता है कि वे एक साथ इस प्रकार के दस्तावेज़ीकरण पर विचार करें जो न केवल वर्तमान जरूरतों को पूरा करें बल्कि आने वाली पीढ़ियों की भी लाभान्वित करें। उन्होंने कहा कि क्षेत्र भाषाविज्ञान विशेषज्ञों का काम दुनिया भर में भाषाई विविधता को समझने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और भाषा के विभिन्न पहलुओं, न केवल व्याकरण बल्कि स्वदेशी ज्ञान प्रणाली को भी डाक्यूमेंट करता है। भाषाएं एक-दूसरे से अलग क्यों और कैसे होती हैं, इसे समझने में उनका काम बेहद महत्वपूर्ण है। उन्होंने उन भाषाओं पर अधिक जानकारी, काम और शोध की आवश्यकता पर जोर दिया जो विलुप्ति के करीब हैं क्योंकि वक्ताओं की पीढ़ियां लगातार द्विभाषी हो रही हैं और अब उनकी पारंपरिक भाषाओं में दक्षता नहीं रही है।

-----------------------------

वैश्विक हाथ धुलाई दिवस पर एएमयू के ग्रह विज्ञान विभाग द्वारा कार्यक्रम का आयोजन

अलीगढ़ 22 अक्टूबरः अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय के होम साइंस विभाग द्वारा वैश्विक हाथ धुलाई दिवस पर ज्योति किरण फाउंडेशन एजुकेशनल सेंटर, अमीर निशां, अलीगढ़ के छात्रों को स्वास्थ्य के

दृष्टिकोण से हाथ धोने का विशेष ज्ञान प्रदान करने के लिए एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया।विभाग की स्नातक छात्राओं ने विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा सुझाए गए हाथ धोने के तरीकों का प्रदर्शन किया। उन्होंने छोटे बच्चों को अच्छी तरह और सुरक्षित हाथ धोने की आदतों को अपनाने के लिए प्रेरित करने के लिए प्रेरक कहानियां भी सुनाईं और गीत प्रस्तुत किए।

विभाग की अध्यक्ष प्रो फरजाना अलीम ने छात्रों के साथ बातचीत की और डेमोन्सट्रेटर्स से हाथ धोने के संबंध में ज्ञान और अभ्यास के बीच की खाई को दूर कर बच्चों को हाथ धोने का सही तरीका सीखने का आग्रह किया।

ज्योति किरण फाउंडेशन की संस्थापक परवीन मुख्तार ने गृह विज्ञान विभाग की टीम का स्वागत किया और कार्यक्रम के आयोजन में उनके प्रयासों के लिए अध्यक्ष प्रोफेसर फरजाना, डा मरियम फातिमा और डा इरम असलम को धन्यवाद दिया।

------------------------------

‘डेंटिस्ट्री और ऑर्थाेडोंटिक्स में अनुसंधान के लिए लक्ष्य का निर्धारण‘ पर डेंटल कालिज में सीडीई कार्यक्रम संपन्न

अलीगढ़, 22 अक्टूबरः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के डा जेड.ए डेंटल कालेज के ऑर्थाेडोंटिक्स और डेंटोफेशियल विभाग द्वारा ‘डेंटिस्ट्री और ऑर्थाेडोंटिक्स में अनुसंधान के लिए लक्ष्य का निर्धारण‘ पर सतत दंत चिकित्सा शिक्षा (सीडीई) कार्यक्रम में विशेषज्ञों ने दंत चिकित्सा स्नातकों और चिकित्सकों के नैदानिक ज्ञान में वृद्धि की और नवीन अनुसंधान पर ध्यान देने की आवश्यकता पर बल दिया।

प्रो पांडुरंगन हरिकृष्णन (प्रमुख, ऑर्थाेडोंटिक्स विभाग, एसजीटी विश्वविद्यालय, गुड़गांव) ने इस बात पर प्रकाश डाला कि शोध से दंत छात्रों और चिकित्सकों को इस पेशे के जैव-सामाजिक आधार की गहरी समझ विकसित करने में मदद मिलती है।

उन्होंने कहा कि नया ज्ञान अर्जित करने की जिज्ञासा शैक्षणिक संस्थानों और प्राइवेट प्रैक्टिस में विशेष महत्व रखती है। प्रशिक्षुओं को अनुसंधान के सिद्धांतों और अभ्यास के बारे में बताना जिज्ञासा की भावना को बढ़ावा देता है और महत्वपूर्ण सोच को पढ़ाने के लिए प्राथमिक उपकरणों में से एक है। प्रो पांडुरंगन ने एसईएम, ईडीएक्स, एएफएम और डीएससी जैसी अत्याधुनिक तकनीकों के उपयोग के साथ दंत चिकित्सा में सहयोगी अनुसंधान कार्य के बारे में भी बात की।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए, प्रोफेसर आर के तिवारी (प्रिंसिपल, जेडएडीसी) ने जोर देकर कहा कि दंत चिकित्सा का विकास प्रत्यक्ष अनुसंधान के माध्यम से हुई प्रगति से संबंधित है और आज के वर्तमान शिक्षा मॉडल में अनुसंधान के लिए गहरी लगन की आवश्यकता है।

आयोजन अध्यक्ष, प्रोफेसर संध्या महेश्वरी ने कहा कि अनुसंधान से प्रेरित शिक्षा विशेषज्ञों के लिए आवश्यक बौद्धिक क्षमता को प्राप्त करने का एक तरीका है और इसका मुख्य उद्देश्य छात्रों में जटिलता के लिए, समस्याओं के लिए और समस्या को हल करने के लिए रूचि पैदा करना है। सभी डेंटल कॉलेजों को बिना किसी अपवाद के यह रूचि सभी छात्रों में उत्पन्न की जनि चाहिए।

आयोजन सचिव, डा सबा खान और समन्वयक, डा अरबाब अंजुम ने दंत चिकित्सा पद्धति में बदलाव के लिए नए ज्ञान को प्राप्त करने और आत्मसात करने के महत्व पर चर्चा की। कार्यक्रम का संचालन संयुक्त-संगठन सचिव, डा दीपिका आर एस बैस ने किया। इस बीच बीडीएस के प्रथम वर्ष की छात्रा फ़ायज़ा मरगूब, शफाना फातिमा, सुमैया शमशाद, फरहीन निशात और लायबा फातिमा ने जेडएडीसी में आयोजित एक अलग ‘स्वच्छता पखवाड़ा‘ कार्यक्रम में आयोजित ई-पोस्टर प्रतियोगिता जीतने के लिए पुरस्कार प्राप्त किया।

-----------------------------

नये अध्यक्ष की नियुक्ति

अलीगढ़ 22 अक्टूबरः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जेएन मेडिकल कॉलेज के पैथोलॉजी विभाग के प्रोफेसर महबूब हसन को तीन साल की अवधि के लिए विभागाध्यक्ष नियुक्त किया गया है। वह वर्तमान विभागाध्यक्ष प्रोफेसर एसएच आरिफ का स्थान लेंगे।

------------------------------------

जेएनएमसी में कार्डियोप्रेवेंट-2022 सम्मेलन का आयोजन

अलीगढ़, 22 अक्टूबरः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कालेज के कार्डियोलॉजी विभाग द्वारा आज कार्डियोलॉजिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया, यूपी चैप्टर के कार्डियोप्रेवेंट-2022 सम्मेलन का आयोजन ‘विज्ञान से अधिक रोगियों का चिकित्सा की आवश्यकता हैः एक समग्र एप्रोच की आवश्यकता‘ विषय पर किया गया। सम्मलेन में देश भर के प्रसिद्ध हृदय रोग विशेषज्ञों ने हृदय रोगों और हृदय संबंधी समस्याओं के जोखिम को कम करने के लिए साक्ष्य आधारित प्रभावी रणनीतियों पर चर्चा की। उद्घाटन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में भाग लेते हुए, कुलपति, प्रोफेसर तारिक़ मंसूर ने कहा कि हर व्यक्ति के पास एक दिल होता है और सभी हृदय रोगों और हृदय संबंधी समस्याओं के जोखिम के बारे में चिंतित रहते हैं।

उन्होंने कहा कि दिल की समस्याओं को दूर रखने के लिए भूमध्य आहार पैटर्न के लाभ हृदय रोगों के खतरों को कम करने के लिए स्पष्ट सबूत हैं। संक्षेप में, भूमध्यसागरीय देशों में लोगों का आहार कई परिवर्तनीय हृदय जोखिम कारकों को प्रभावित करता है, जो हृदय रोग की रोकथाम के लिए आश्चर्यजनक संभावनाएं प्रदान करता है।

प्रोफेसर मंसूर ने हृदय और रक्त वाहिकाओं से संबंधित किसी भी बीमारी को खोजने, इलाज करने और रोकने के लिए हृदय रोग विशेषज्ञों को विशेष प्रशिक्षण प्रदान करने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि जेएनएमसी में कार्डियोलॉजी विभाग निचले आर्थिक तबके के लोगों को सुलभ एवं सर्वाेत्तम चिकित्सा सेवा प्रदान करके उनकी बड़ी सेवा कर रहा है। कुलपति ने प्रमुख हृदय रोग विशेषज्ञ गंगाराम अस्पताल के पद्मश्री डाक्टर एमसी मनचंदा को भी स्मृतिचिन्ह भेंट कर सम्मानित किया।

प्रो-वाइस चांसलर और प्रोग्राम के मानद अतिथि, प्रोफेसर मोहम्मद गुलरेज़ ने कहा कि जब भी हम उच्च कैलोरी वाले भोजन के साथ खुद का इलाज करते हैं, तो हमारा दिल किसी और चीज़ का भी तक़ाज़ा करता है। हृदय को स्वस्थ रखने में सहायक जीवनशैली अपनाना और अपने हृदय संबंधी जोखिम कारकों पर नियंत्रण रखना हृदय रोगों को रोकने में मदद कर सकता है, इसलिए सक्रिय रहें, रेड मीट, चीनी और अस्वास्थ्यकर वसा के सेवन को सीमित करें, धूम्रपान छोड़ दें, अपने कोलेस्ट्रॉल के स्तर को जानें और अपने वजन को नियंत्रण में रखें।

स्वागत भाषण में, डीन, फैकल्टी आफ मेडिसिन, अध्यक्ष, कार्डियोलाजी विभाग और अध्यक्ष, कार्डियोलॉजिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया, यूपी चैप्टर, प्रोफेसर एमयू रब्बानी ने कहा कि कार्डियोलॉजिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया अपने समायोजन और अत्याधुनिक दृष्टिकोण में जीवंत है और हृदय रोगों की चुनौतियों से निपटने के अलावा स्वस्थ जीवन शैली अपनाने पर जोर देने के साथ समाज पर भी केंद्रित है।

उन्होंने कहा कि दिल का दौरा एक ज्वालामुखी विस्फोट की तरह है, जहां विस्फोट से पहले जमीन के नीचे सालों तक चीजें चलती रहती हैं। कार्डिएक अरेस्ट एक दिन में नहीं होता है, समस्या महीनों तक बनी रहती है और लोग आमतौर पर संकेतों को नज़रअंदाज़ कर देते हैं। यह सम्मेलन विशेष रूप से यह देखने के लिए आयोजित किया गया है कि कैसे हृदयघात को रोका जा सकता है।

प्रोफेसर राकेश भार्गव (प्रिंसिपल, जेएनएमसी) ने जोर देकर कहा कि नियमित चिकित्सा अनुवर्ती हृदय रोग को रोकने के सर्वाेत्तम तरीकों में से एक है। जो लोग अपनी कार्डियोवैस्कुलर दवाएं बंद कर देते हैं उन्हें अधिक खतरा होता है।

उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि हृदय संबंधी स्वास्थ्य के लिए हर रोज का निर्णय महत्वपूर्ण है और लोगों को हृदय संबंधी समस्याओं के शुरुआती लक्षणों को नोटिस करने से पहले जीवनशैली में बदलाव को अपनाना चाहिए। कार्डियोलॉजिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया, यूपी चैप्टर के निर्वाचित अध्यक्ष, डा आदित्य कपूर ने कहा कि वैज्ञानिक कार्यक्रमों और सत्रों के साथ यह कार्डियोप्रेवेंट-2022 सम्मेलन स्वास्थ्य कर्मियों को उनके व्यक्तिगत जोखिम के आधार पर अनुकूलित कार्यक्रम योजनाओं के साथ रोगियों का मार्गदर्शन और समर्थन करने में बहुत मदद करेगा।डा शरद चंद्र (मानद सचिव, कार्डियोलॉजिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया, यूपी चैप्टर) ने हृदय रोग निवारक देखभाल मॉडल की तैनाती के माध्यम से स्वास्थ्य देखभाल प्रदाताओं का समर्थन करने की आवश्यकता का आह्वान किया।

उन्होंने आगे कहा कि हृदय संबंधी समस्याओं के लिए सबसे समीपस्थ जोखिम कारक स्वास्थ्य व्यवहार हैं, जिनमें खराब आहार की आदतें, शारीरिक निष्क्रियता और धूम्रपान शामिल है। विशेष रूप से, ये अस्वास्थ्यकर जीवनशैली रक्तचाप, लिपिड / लिपोप्रोटीन के स्तर और ग्लूकोज-इंसुलिन होमियोस्टेसिस को प्रभावित करती है।

आयोजन सचिव प्रिवेंट, प्रोफेसर आसिफ हसन ने जेएनएमसी में कार्डियोलॉजी विभाग और कैथ लैब की शुरुआत के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि यह गर्व की बात है कि कैथ लैब नेशनल इंटरवेंशन काउंसिल की वेबसाइट पर है। डा पद्मनाभन गोपालन (मुख्य वैज्ञानिक एंकर और शिक्षाविदों के प्रोटोकॉल सलाहकार) ने कार्यक्रम का संचालन किया और डॉ सलमान शाह ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.