"..किसी भी खबर पर आपत्ति के लिए हमें ई-मेल से शिकायत दर्ज करायें"

एएमयू में वर्ल्ड एलुमनाई मीट 2022 का शुभारंभ, एएमयू में यातायात व्यवस्था में बदलाव


अलीगढ मीडिया कॉम, अलीगढ़, 16 अक्टूबरः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित वर्ल्ड एलुमनाई मीट-2022 में शामिल होकर देश विदेश से आये पुरातन छात्रों ने विश्वविद्यालय में गुज़ारे अपने पुराने दिन याद किये और उन दिनों की स्मृति को अपने दोस्तों के साथ बांटा। कैनेडी सभागार में उद्घाटन सत्र को सम्बोधित करते हुए मुख्य अतिथि तथा अमुवि के पूर्व छात्र प्रोफेसर डी पी अग्रवाल (पूर्व अध्यक्ष, यूपीएससी) ने कहा कि हमारे पूर्व छात्र पूरी दुनिया में फैले हुए हैं और निश्चित रूप से जी-7 और जी-25 देशों में रहना और काम करना गर्व की बात है। लेकिन हमें उन जगहों पर भी काम करना चाहिए जहां विकास की अधिक जरूरत है।


उन्होंने कहा कि भारत में हम विकास के एक ऐसे मोड़ पर पहुंच गए हैं, जहां किसी भी पृष्ठभूमि का कोई भी व्यक्ति पीछे नहीं है। इस अद्भुत युग में, युवाओं को उच्च उपलब्धि हासिल करने वालों के अनुभवों से सीखना चाहिए।


एएमयू के पूर्व छात्रों के योगदान पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि हमारे पूर्व छात्रों ने मातृसंस्था में बहुत योगदान दिया है। इस विश्वविद्यालय के अस्तित्व के कई वर्षों में प्रत्येक बैच और प्रत्येक विषय के नेटवर्क की कल्पना करें तो लगता है कि हमारा नेटवर्क बहुत बड़ा है। इन विशाल संसाधनों को हमारी मातृ संस्था, समुदाय, राष्ट्र और विश्व के सामान्य उद्देश्य के लिए एक साथ प्रयोग करना होगा।


उन्होंने एएमयू के पूर्व छात्रों की शानदार सूची से रोल मॉडल की तलाश करने और उनके जीवन की कहानियों से सीखने के लिए वर्तमान छात्रों पर ज़ोर दिया।


उद्घाटन समारोह की अध्यक्षता करते हुए एएमयू के कुलपति प्रोफेसर तारिक मंसूर ने एएमयू पुरातन छात्र मामलों की समिति के महत्वपूर्ण और उपयोगी कार्यों पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि पूर्व छात्र मामलों की समिति ने दुनिया भर में फैले पूर्व छात्रों की एक डायरेक्टरी तैयार की है जिसमें लोग विभिन्न देशों के शहरों में पूर्व एएमयू छात्रों की खोज कर सकते हैं। इस डायरेक्टरी ने दुनिया के विभिन्न हिस्सों में रहने और काम करने वाले पूर्व छात्रों से जुड़ना बहुत आसान बना दिया है।


प्रोफेसर तारिक मंसूर ने जोर देकर कहा कि हमारे पूर्व छात्रों ने अपनी मातृसंस्था का सहयोग करने के लिए विभिन कार्यकर्मों में शामिल रहकर कई तरह से इस की मदद की है। उन्होंने मौजूदा छात्रों को विशेष व्याख्यान देने के लिए विशेषज्ञों को लाने में ‘अलीग इनरिचमेंट प्रोग्राम’ के लाभों और ‘कशिश’ कार्यक्रम पर भी बात की, जो पूर्व छात्रों के बच्चों को एएमयू से जोड़ता है।


पिछले दो वर्षों में कोविड महामारी ने जीवन को जिस प्रकार प्रभावित किया है, इस पर बोलते हुए प्रोफेसर मंसूर ने कहा कि दूरस्थ कार्य से लेकर प्रमुख जीवन के विकास तक, कोविड युग ने शिक्षा प्रणाली पर अपनी गहरी छाप छोड़ी है। सब कुछ ऑनलाइन हो गया और ई-लर्निंग एक नया सामान्य हो गया है।


प्रोफेसर मंसूर ने कहा कि हमने ई-लर्निंग में तेजी देखी है। हर स्कूल, कॉलेज और शैक्षणिक संस्थान ने ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म का लाभ उठाकर महामारी प्रेरित प्रतिबंधों के दौरान शिक्षण और सीखने की प्रक्रिया को जारी रखा। इस बदलाव ने शिक्षा और ज्ञान साझा करने की अवधारणा को बदल दिया। डिजिटल लर्निंग शिक्षा उद्योग के लिए एक आवश्यकता बनकर उभरी है।


उन्होंने विश्वास दिलाया कि एएमयू प्रशासन छात्रों और विश्वविद्यालय के लाभ के लिए पूर्व छात्रों के सभी सुझावों पर गंभीरता से काम करना चाहता है। उन्होंने हमें कॉर्पाेरेट नेटवर्क, परोपकार परिषद और अन्य नेटवर्क बनाने के लिए उपयोगी सुझाव दिए हैं।


कुलपति, प्रो तारिक मंसूर; प्रो वाइस चांसलर, प्रो मोहम्मद गुलरेज़ और एएमयू रजिस्ट्रार, श्री मोहम्मद इमरान (आईपीएस) ने शिक्षकों के साथ मेहमानों को स्मृति चिन्ह भेंट किये।


संयुक्त राज्य अमेरिका से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से उद्घाटन समारोह में शामिल होने वाले डॉ कोहकन शम्सी (अलीगढ़ मेडिकल एलुमनाई एसोसिएशन ऑफ नॉर्थ अमेरिका-अमाना, न्यूयॉर्क) ने कहा कि शब्द उस गौरव और सम्मान को व्यक्त नहीं कर सकते हैं जो मुझे आज यहां बोलने के लिए आमंत्रित किये जाने से आभास हो रहा है। मैंने तीन अलग-अलग महाद्वीपों के पांच देशों में काम किया है, लेकिन मेरे जीवन का सबसे अच्छा समय अलीगढ़ में गुज़रा है। एएमयू ने न केवल मुझे सर्वश्रेष्ठ शिक्षा प्रदान की है, बल्कि मुझे जीवन की चुनौतियों से निपटने के लिए प्रशिक्षित भी किया है।


नए अवसरों पर बोलते हुए, उन्होंने कहा कि कोविड महामारी ने श्रम बाजारों को बाधित कर दिया, लेकिन कई लोग घर से काम करने के लिए तेजी से समायोजित हो गए। अब अवसरों के नए आयाम हैं जिनका उपभोग, बढ़ी हुई उत्पादकता और नवाचार पर दीर्घकालिक प्रभाव पड़ेगा।


उन्होंने आगे कहा कि महामारी के दौरान, मैं दूर से एक रेडियोलॉजी कंपनी का प्रबंधन कर रहा था और हमने उनसे मिले बिना 30 लोगों को काम पर रखा, यह एक आदर्श बदलाव है। हालाँकि दूरस्थ कार्य की अपनी चुनौतियाँ हैं, प्रौद्योगिकी, प्रशिक्षण, मानव संसाधन, कार्य मनोविज्ञान और कार्यबल के वैश्वीकरण के संदर्भ में नए अवसर उपलब्ध हैं। हमें अपने छात्रों को इन क्षेत्रों में तैयार करने की जरूरत है।


अलीगढ़ एलुमनाई एसोसिएशन वाशिंगटन डीसी का प्रतिनिधित्व करते हुए, डॉ रफत हुसैन (वरिष्ठ वैज्ञानिक, खाद्य एवं औषधि प्रशासन-एफडीए, यूएसए) ने कहा कि अलीगढ़ एलुमनी एसोसिएशन वाशिंगटन डीसी हर साल 350 से अधिक एएमयू छात्रों की वित्तीय जरूरतों का समाधान कर रहा है।


उन्होंने उन परिस्थितियों को प्रोत्साहित करने पर ज़ोर डाला जो फ्रंटलाइन शिक्षकों को लचीलापन और अधिक स्वायत्तता प्रदान करते हैं और बताया कि महामारी के चरम पर भी जब यूनेस्को ने बताया कि 1.5 बिलियन छात्रों की शिक्षा में लॉक डाउन के कारण बाधा आ रही थी, यह उल्लेखनीय है कि भारत दूरस्थ शिक्षा तक पहुँच बनाने में अन्य वैश्विक देशों के बराबर था क्योंकि 54 प्रतिशत से अधिक लोगों की इंटरनेट सुविधा उपलब्ध थी।


श्री मनोज यादव (आईपीएस अधिकारी और महानिदेशक, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग) ने एएमयू के छात्रों को अधिक से अधिक सरकारी नौकरियों में जाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि भारत में, सरकारी नौकरियां आकर्षक हैं और परिणामस्वरूप, इनकी मांग अधिक है। सरकारी नौकरियों के पिरामिड के शीर्ष पर प्रशासनिक/सिविल सेवाएं हैं, लेकिन अन्य सरकारी नौकरियां भी हैं जिन पर छात्रों को ध्यान केंद्रित करना चाहिए।


मुख्य आयकर आयुक्त, अमृतसर, डॉ जहांजेब अख्तर ने एएमयू में अपने छात्र जीवन के किस्से साझा किए और छात्रों को पर्यावरण की रक्षा के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने कहा कि पर्यावरण के संरक्षण के लिए सबसे महत्वपूर्ण कदमों में से एक प्लास्टिक को ना कहना होगा।


डॉ जहांजेब ने कहा कि प्लास्टिक न केवल उत्पाद और क्षय की दृष्टि से पर्यावरणीय रूप से हानिकारक है, बल्कि यह आपके स्वास्थ्य पर भी प्रतिकूल प्रभाव डालता है और प्राकृतिक वातावरण में इसे खराब होने में अविश्वसनीय रूप से लंबा समय लगता है। इनमें से कई प्रकार की प्लास्टिक जानवरों द्वारा खाने से उनके स्वास्थ को भी प्रभावित करता है।


श्री मंसूर अहमद (अध्यक्ष, इसूजू मोटर्स इंटरनेशनल, यूएई) ने दुनिया के प्रमुख रुझानों पर चर्चा की जो शिक्षा प्रणाली के लिए मौलिक चुनौतियों और अवसरों को प्रस्तुत करते हैं।


भविष्य के आवश्यक कौशल सीखने की आवश्यकता पर जोर देते हुए उन्होंने कहा कि एक महत्वपूर्ण बात यह है कि दुनिया एक औद्योगिक अर्थव्यवस्था से एक ज्ञान अर्थव्यवस्था में स्थानांतरित हो रही है। दूसरी तरफ उभरती हुई इंटरनेट पर पली-बढ़ी नयी पीढ़ी है जो सीखने के लिए अलग तरह से प्रेरित है।


श्री मंसूर ने कहा कि छात्रों को सांस्कृतिक संवेदनशीलता विकसित करनी चाहिए और वैश्विक टीमों का नेतृत्व करने के लिए कौशल सीखने के साथ ही लचीलापन और अनिश्चितता और अस्पष्टता से निपटने की क्षमता विकसित करनी चाहिए। आज की दुनिया में यह जानना भी महत्वपूर्ण है कि काम की एक हाइब्रिड दुनिया में सहयोग कैसे स्थापित किया जाए।


डॉ शम्स तबरेज़ सिद्दीकी (प्रबंध निदेशक, क्रॉस रोड्स ग्रुप ऑफ़ डेंटल क्लीनिक, दुबई) ने क्रॉसरोड्स डेंटल क्लिनिक्स ग्रुप की स्थापना के पीछे अपने अनुभव और दृष्टिकोण को साझा किया।


उन्होंने यह भी बताया कि कैसे उन्होंने दंत चिकित्सक बनने से पहले एसटीएस स्कूल में स्कूली शिक्षा प्राप्त करने के लिए कम उम्र में घर छोड़ दिया। उन्होंने भारत और विदेशों में काम करने के अनुभव के बारे में बताया।


उन्होंने जोर देकर कहा कि उनकी सभी उपलब्धियों में, उन्हें लगता है कि पूर्व छात्रों की बैठक में मानद् अतिथि के रूप में भाग लेना सबसे महत्वपूर्ण है।


स्वागत भाषण में प्रो एम एम सुफियान बेग (अध्यक्ष, पूर्व छात्र मामलों की समिति) ने सभी अतिथियों का आभार व्यक्त किया और छात्रों को ऑनलाइन कौशल बढ़ाने वाले पाठ्यक्रमों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने छात्रों से भारत सरकार द्वारा शुरू किए गए स्वयं के पाठ्यक्रमों में शामिल होने का आग्रह किया।प्रो गीता सिंह (एएमयू कार्यकारी परिषद सदस्य) ने भी कार्यक्रम में भाग लिया और छात्रों, पूर्व छात्रों और शिक्षकों के साथ बातचीत की।प्रोफेसर मोहम्मद मोबिन (उपाध्यक्ष, पूर्व छात्र मामलों की समिति) ने धन्यवाद ज्ञापित किया।कार्यक्रम का संचालन डॉ फ़ायज़ा अब्बासी ने किया।




17 अक्टूबर को एएमयू में यातायात व्यवस्था में बदलाव


अलीगढ़, 16 अक्टूबरः 17 अक्टूबर को सर सैयद डे पर मुख्य कार्यक्रम हेतु सुचारू आवागनम के दृष्टगत अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के बाबे सैयद द्वार एवं सेंटेनरी द्वार (पुरानी चुंगी) प्रातः 10.30 बजे से 11.00 बजे तक पूर्णतया बंद रहेंगे। इस अवधि में मेडीकल अथवा उस ओर जाने वाले यात्रियों की सुविधा के लिए वैकल्पिक मार्ग खुले रहेंगे जिरमें हबीब हाल गेट वाया मेडिकल कालोनी, ठंडी सड़क (नक्वी पार्क) वाया एडीएम कम्पाउंड तथा जमालपुर से वाया नाला रोड शामिल हैं।


विश्वविद्यालय ने सभी अतिथियों, आगुंतकों, प्रतिभागियों, छात्रों एवं स्टाफ से सहयोग की अपेक्षा करते हुए आग्रह किया है कि सर सैयद दिवस समारोह स्थल गुलिस्तान-ए-सैयद में प्रातः 10.30 बजे तक अपना स्थान ग्रहण कर लें ताकि उन्हें किसी प्रकार की असुविधा न ह


 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.