जनता से वित्तपोषित, UPI, PhonePe, और PayTM: 9219129243

...जब 237 बोरिंग हो गए हैं तो ओवरहेड टैंक क्यों नहीं बन सके? डीएम का सवाल

0


*जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जल जीवन मिशन की बैठक सम्पन्न*

*शिथिल प्रगति पर कंपनियां बहाना न बनाते हुए कार्य योजना बनाकर निर्धारित अवधि में लक्षित कार्य पूर्ण करें*


अलीगढ़ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ़ 02 जून 2023 (सू0वि0)। भारत सरकार द्वारा 2024 तक प्रत्येक ग्रामीण परिवार को क्रियाशील पेयजल संयोजन दिए जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए 2019 में जल जीवन मिशन आरंभ किया गया है। जल जीवन मिशन के तहत हर घर नल योजना में प्रत्येक व्यक्ति को प्रतिदिन 55 लीटर पानी की आपूर्ति उपलब्ध कराना है। 

उक्त उद्गार जिला अधिकारी इन्द्र विक्रम सिंह ने कलेक्ट्रेट सभागार में जल जीवन मिशन की समीक्षा बैठक में व्यक्त किए। समीक्षा के दौरान उन्होंने वर्तमान की कार्य प्रगति पर असंतोष प्रकट करते हुए कहा कि शिथिल प्रगति पर कंपनियां बहाना ना बनाएं, बल्कि कार्य योजना बनाएं की निर्धारित अवधि में लक्षित कार्य कैसे पूर्ण करना है। उन्होंने सहायक अभियंता जल निगम अतुल त्यागी को निर्देशित किया कि अनुबंध के मुताबिक कंपनियों पर अर्थदंड लगाया जाए।

सहायक अभियंता जल निगम अतुल त्यागी ने बताया कि जनपद में तीन कंपनियां पीएनसी, जेएमसी एवं आयन एक्सचेंज द्वारा हर घर नल योजना में कार्य किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि आयन एक्सचेंज और जेएमसी पर 1 प्रतिशत और पीएनसी पर 2 प्रतिशत का अर्थदंड का आगणन किया जा रहा है। 

समीक्षा के दौरान पीएनसी से गौरव शर्मा ने बताया कि 655 ग्रामों को आच्छादित करते हुए 418 डीपीआर पर कार्य करना है। अब तक 237 बोरिंग का कार्य कर लिया गया है। 118 बोरिंग होना शेष हैं। अब तक की कार्य प्रगति के अनुसार 84 ग्रामों को संतृप्त करना था, जबकि 51 ग्रामों को ही संतृप्त किया जा सका है। 192 ओवर हैड टैंक ही बन सके हैं। जिस पर जिलाधिकारी ने सवाल किया कि जब 237 बोरिंग हो गए हैं तो ओवरहेड टैंक क्यों नहीं बन सके हैं। पाइप लाइन बिछाने की समीक्षा में पाया गया कि प्रति सप्ताह 142 किलोमीटर के सापेक्ष मात्र 57 किलोमीटर पाइपलाइन ही डाली जा रही है। क्रियाशील गृह नल संयोजन कार्य भी प्रति सप्ताह 968 के सापेक्ष 200 ही किया जा रहा है। जिलाधिकारी ने कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि एसडब्ल्यूएसएम द्वारा लक्षित कार्यों को पूर्ण न करना खेदजनक है। पीएनसी से आए गौरव शर्मा में जिलाधिकारी को आश्वस्त किया कि कार्य में तेजी लाकर मासिक लक्ष्य की पूर्ति कराई जाएगी। 

  इसी प्रकार जेएमसी से आए ज्ञान प्रकाश ने बताया कि उन्हें 208 ग्राम आवंटित हुए थे, 152 डीपीआर तैयार कर कार्य प्रगति पर है। अब तक 78 बोरिंग कर दी गई है। इनके द्वारा भी क्रियाशील गृह नल संयोजन प्रति सप्ताह 210 पर कार्य करना था जिसके सापेक्ष 190 ही कर रहे हैं।

आयन एक्सचेंज से राजेश शर्मा ने बताया कि 206 ग्रामों के लिए 155 डीपीआर बनाई गई थी 136 बोरिंग का कार्य पूर्ण हो गया है। 131 पंप चालू कर दिए गए हैं। क्रियाशील गृह नल संयोजन में 150 के लक्ष्य के सापेक्ष मात्र 75 क्रियाशील गृह नल संयोजन ही दे पा रहे हैं। 

सहायक अभियंता जल निगम अतुल त्यागी ने बताया कि सामूहिक रूप से जनपद के लिए प्रति सप्ताह 1006 क्रियाशील गृह नल संयोजन के लक्ष्य के सापेक्ष 500 पर ही कार्य हो रहा है।  जिलाधिकारी ने सहायक अभियंता को डिटेल रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं।

--

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)