जनता से वित्तपोषित, UPI, PhonePe, और PayTM: 9219129243

अलीगढ़। एसडीएम कोल के यहाँ सर्वाधिक पैमाईश वाद लंबित

0

 


*मा0 अध्यक्ष राजस्व परिषद श्री संजीव मित्तल जी अलीगढ़ पहुंचे*

*मा0 मण्डलायुक्त अलीगढ़ एवं ज़िला मजिस्ट्रेट अलीगढ़ द्वारा पुष्प गुच्छ भेंट कर स्वागत किया गया*

*मा0 चेयरमैन बोर्ड ऑफ़ रेवेन्यू ने सर्किट हाउस में मान प्रणाम ग्रहण किया*

*विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर श्री संजीव मित्तल ने कमिष्नरी परिसर में मौलश्री पौधे का किया रोपण*


अलीगढ़ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ़ 05 जून 2023 (सू0वि0)। विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर मा0 अध्यक्ष राजस्व परिषद श्री संजीव मित्तल ने औषधीय गुणों से परिपूर्ण मौलश्री एवं मण्डलायुक्त अलीगढ़ श्री नवदीप रिणवा ने नीम के पौधे का रोपण करते हुए पर्यावरण संरक्षण का सन्देश दिया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि हम सभी को पर्यावरण के अनुकूल आदतों एवं व्यवहारों को अपनाते हुए पर्यावरण के प्रति जागरूक रहना चाहिए। इस दौरान उन्होंने कमिश्नरी सभागार में अधिकारियों को मिशन लाइफ के तहत पर्यावरण संरक्षण के लिए शपथ भी दिलाई।

इस अवसर पर ज़िला मजिस्ट्रेट श्री इन्द्र विक्रम सिंह, वन संरक्षक अलीगढ़ वृत्त श्रीमती अदिति शर्मा, प्रभागीय निदेशक सामाजिक वानिकी दिवाकर वशिष्ठ, महफूज अली, गौरव सिंह क्षेत्रीय वन अधिकारी उपस्थित रहे।

-----

*

माननीय अध्यक्ष राजस्व परिषद ने की राजस्व विभाग की कार्यक्रमों की मंडलीय समीक्षा*

*रियल टाइम खतौनी निर्माण, स्वामित्व योजना, वरासत प्रकरण एवं पैमाइश मामलों की की गई जनपद वार समीक्षा*

*ओरिएंटेशन वर्कशॉप में रियल टाईम खतौनियों के सबंध में चारों जनपदों के तहसीलदारों, एसडीएम व एडीएम की जिज्ञासाओं का किया गया समाधान*

*जून मासांत तक प्रदेश को मिलेंगे 8000 लेखपाल*

*मंडल में अब तक 400376 एवं अलीगढ़ में 121847, एटा में 82000, कासगंज में 97994 एवं  हाथरस में 104703 घरौनियों के वितरण पर की प्रशंसा*


अलीगढ़ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ़ 05 जून 2023 (सू0वि0)। माननीय अध्यक्ष राजस्व परिषद उत्तर प्रदेश शासन श्री संजीव मित्तल की अध्यक्षता में कमिश्नरी सभागार में राजस्व विभाग की कार्यक्रमों की मंडलीय समीक्षा की गई। समीक्षा बैठक में रियल टाइम खतौनी निर्माण, स्वामित्व योजना, वरासत प्रकरण एवं पैमाइश मामलों की जनपद वार समीक्षा की गई। बैठक के आरम्भ में मंडल आयुक्त अलीगढ़ नवदीप रिणवा ने माननीय अध्यक्ष राजस्व परिषद का पुष्प गुच्छ भेंट कर स्वागत किया। उन्होंने बताया कि मंडल में अलीगढ़, एटा, कासगंज, हाथरस सहित कुल 4 जिले एवं 15 तहसीलें हैं।

समीक्षा बैठक में रियल टाइम खतौनियों पर हो रहे कार्यों पर विस्तार से चर्चा की गई। मा0 अध्यक्ष ने कहा कि इस बैठक को सभी राजस्व अधिकारी ’’ओरियंटेशन वर्कशॉप’’ का नाम भी दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि रियल टाइम खतौनी एक महत्वपूर्ण कार्य है, इससे राजस्व व्यवस्था में बहुत बड़ा बदलाव आएगा। यह कार्य अत्यंत ही संवेदनशील है। लेखपाल से लेकर एसडीएम, डीएम तक को अत्यंत ही गम्भीरता संवेदनशीलता के साथ कार्य करना है। उन्होंने कहा कि इस कार्य को जल्दबाजी में नहीं करना है। मा0 अध्यक्ष राजस्व परिषद ने बार-बार कहा कि लक्ष्य पूर्ण करने के चक्कर मे गलतियाँ न करें। रियल टाइम खतौनी का कार्य तभी सफल माना जाएगा जब जिला, तहसील एवं भूमि स्वामी को भविष्य में किसी प्रकार की परेशानी न आये। उन्होंने बताया कि जून मासांत तक प्रदेश को 8000 लेखपाल मिल जाएंगे, जिससे राजस्व मामलों के निस्तारण में और तेजी आएगी। 

उन्होंने कहा कि सभी को कार्य की महत्ता को समझते हुए कार्य करना है। रियल टाइम खतौनी पर कार्य करते समय यदि कोई त्रुटि हो जाती है तो साफ्टवेयर में सुधारने की भी प्रक्रिया संरक्षित है। उन्होंने बताया कि श्रेणी परिवर्तन के प्रकरणों में परिषद द्वारा दिए गए आदेशों का अक्षरशः अनुपालन किया जाए। ओरिएंटेशन वर्कशॉप में रियल टाईम खतौनियों के सबंध में चारों जनपदों के तहसीलदारों, एसडीएम व एडीएम की जिज्ञासाओं का बड़ी ही सरलता के साथ समाधान किया गया।      उन्होंने बताया कि खतौनियों के सही अपडेट होने से जमीनों की धोखाधड़ी में कमी आएगी। जमीन खरीदने के इच्छुक लोग जान सकेंगे कि इस जमीन का मालिक कौन है। जब वह यह जान जाएंगे कि जमीन का वास्तविक स्वामी कौन है तो वह फालतू के विवादों से बच सकेगा। उन्होंने नाबालिग के बालिग़ होने पर बालिग दर्ज करने, केवल नाम को खतौनी से हटाने, अधिग्रहण के आदेशों का अनुपालन, लगान संशोधन का विकल्प एडमिन पर प्रदर्शित होने की भी जानकारी दी गईं। 

रियल टाइम खतौनी की समीक्षा में बताया गया कि मंडल में 3553 राजस्व ग्राम हैं। अब तक 781 खतौनी को लॉक किया गया है। जिसमें अलीगढ़ द्वारा 299, एटा द्वारा 108, कासगंज द्वारा 248, हाथरस द्वारा 126 खतौनियों को अभिलेख पोर्टल पर लॉक किया गया है। वर्तमान में कार्य प्रगति पर है। मा0 अध्यक्ष ने कहा कि ग्राम में प्रचार प्रसार किया जाए ताकि जनसामान्य देख लें और कोई मानवीय या तकनीकी त्रुटि है तो समय रहते ठीक भी किया जा सकता है। कभी कोई समस्या है तो राजस्व परिषद से निःसंकोच बात की जा सकती है। 

स्वामित्व योजना में मंडल में अधिसूचित ग्राम 3553 में 3253 ग्रामों में ड्रोन सर्वे कराया गया। अब तक 400376 घरौनियों का वितरण करा दिया गया है। अलीगढ़ में 121847, एटा में 82000, कासगंज में 97994 एवं हाथरस में 104703 घरौनियों का वितरण कराया गया। स्वामित्व योजना में मंडल भर की अच्छी प्रगति पर प्रशंसा की गई। न्यायालय में लंबित वाद निस्तारण समीक्षा में मा0 अध्यक्ष ने प्रचलित नए वादों के साथ ही पुराने वादों के निस्तारण को विशेष प्राथमिकता दिए जाने के निर्देश देते हुए न्यायालय के वाद प्रबंधन पर विशेष ध्यान दिए जाने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि पीठासीन अधिकारी पेशकारों पर निर्भर ना रहें। यदि कोई पद रिक्त है तो सक्षम अधिकारी से वादों का निस्तारण सुनिश्चित कराया जाए। उन्होंने विश्वास जताते हुए कहा कि यदि अधिकारियों को अवसर दिया जाए तो वह अवश्य ही कार्य करेंगे। मंडल स्तर पर 1 से 3 वर्ष के 395 वाद, 3 से 5 वर्ष तक के 328 वाद एवं 5 वर्ष से अधिक पुराने 235 मामले लंबित पाए गए। मा0 अध्यक्ष राजस्व परिषद ने लंबित मुकदमों और नियमित सुनवाई करते हुए अतिशीघ्र निर्णीत करने के निर्देश दिए। इसी प्रकार अलीगढ़ में 1 से 3 वर्ष के 516, तीन से 5 वर्ष तक के 291 और 5 वर्ष से अधिक के 356 वाद लंबित पाए गए। उन्होंने कहा कि हर तहसील में एसडीएम न्यायिक हैं, उनसे निस्तारण कराया जाए। अधिक समय तक वाद लंबित रहने पर न्याय की संभावना प्रभावित होने की आशंका बढ़ जाती है। तहसीलदार कोल के पास 1375 वाद और तहसीलदार न्यायिक के यहां 2,000 से अधिक वाद लंबित पाए गए। उन्होंने बारी-बारी से सभी जनपदों के एडीएम, एसडीएम एवं तहसीलदार, तहसीलदार न्यायिक न्यायालयों में लंबित वादों की भी समीक्षा की। जनसुनवाई के साथ ही राजस्व वाद निस्तारण की भी प्राथमिकता से सुनवाई की जाए।

पैमाइश (धारा 24) के जनपद अलीगढ़ में 271 मामले लंबित पाए गए। जिसमंे सर्वाधिक एसडीएम कोल के यहाँ 59 वाद लंबित पाए गए। एटा में 1657 वाद विचाराधीन पाए गए। सदर तहसील में सर्वाधिक 1034, अलीगंज में 397 मामले लंबित पाए जाने पर नाराजगी प्रकट की। हाथरस में 398 मामले विचाराधीन पाए गए। कासगंज में 114 मामले लंबित पाए गए। उन्होंने कहा कि नियमानुसार मामले पंजीकृत करते हुए निस्तारण सुनिश्चित किए जाएं। वरासत मामलों की समीक्षा के दौरान निर्धारित समय सीमा के उपरांत मंडल में एक मामला जनपद एटा में लंबित पाया गया। जिलाधिकारी वरासत के निरस्तीकरण मामलों पर विशेष ध्यान दें। वरासत मामलों में अभियान का इंतज़ार न किया जाए बल्कि स्वतः संज्ञान लेते हुए कार्यवाही की जाएं। समीक्षा बैठक में लखनऊ से पधारे उप भूमि व्यवस्था आयुक्त भीष्म लाल वर्मा, ओएसडी सुनील कुमार झा एवं वरिष्ठ निदेशक आई0टी0 नेशनल इंफोर्मेटिक सेंटर राजेश त्रिपाठी ने राजस्व पोर्टल के संचालन एवं तकनीकी जानकारियों के बारे में विस्तार से जानकारी उपलब्ध कराई। बैठक के अन्त में मण्डलायुक्त नवदीप रिणवा ने मा0 अध्यक्ष के अलीगढ़ आगमन एवं दिए गए मार्गदर्शन के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि मा0 अध्यक्ष द्वारा जिन बिन्दुओं पर ध्यानाकर्षण किया गया है और जिन बिन्दुओं पर सुधार की आवश्यकता है उन पर दिये गये निर्देशों का अक्षरशः अनुपालन कराया जाएगा। 

इस अवसर पर मण्डलायुक्त अलीगढ़ नवदीप रिणवा, जिलाधिकारी अलीगढ़ इन्द्र विक्रम सिंह, जिलाधिकारी एटा अंकित अग्रवाल, जिलाधिकारी हाथरस अर्चना वर्मा, जिलाधिकारी कासगंज हर्षिता माथुर समेत सभी चारों जनपदों के एडीएम, एसडीएम एवं तहसीलदार उपस्थित रहे।


*डीएम अलीगढ़ ने कलैक्ट्रेट में कराए कार्यों को पीपीटी के माध्यम से दिखाया:*

डीएम अलीगढ़ इन्द्र विक्रम सिंह ने कलक्ट्रेट में कराए गए सौंदर्यीकरण, जीर्णाेद्धार एवं मरम्मतीकरण कार्यों की पीपीटी भी दिखाई। अपनी पीपीटी में कार्यों से पहले और नवीन कार्यों के बाद कि स्थिति को बड़े अच्छे ढंग से दर्शाया गया। मा0 अध्यक्ष जी ने जिलाधिकारी इन्द्र विक्रम सिंह के इस नवाचार को देखकर मुक्तकंठ से सराहना करते हुए उनकी दूरगामी सोच को अन्य जिलाधिकारियों के लिए प्रेरणादायक भी बताया। उन्होंने कहा कि आप सभी को इस तरह के नवाचार करते रहना चाहिए। इससे शासन ही नहीं सरकार के कार्यों की छवि पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।


*डूडा कार्यालय एवं नवीन सभागार का किया लोकार्पण:*

मा0 चेयरमैन बोर्ड ऑफ रेवेन्यू श्री संजीव मित्तल जी ने मण्डलायुक्त अलीगढ़ श्री नवदीप रिणवा, मंडल के सभी जनपदों के जिला मजिस्ट्रेट की गरिमामयी उपस्थिति में जिला नगरीय विकास अभिकरण डूडा एवं जिलाधिकारी कार्यालय स्थित नवीन सभागार का लोकार्पण किया।

---

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)