जनता से वित्तपोषित, UPI, PhonePe, और PayTM: 9219129243

सौतेले पिता की बेटी पर गंदी नज़र, शिकायत पर माँ-बेटी को घर से निकला.. इंसाफ के लिए भटक रही है पीड़िता

0


अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ | रोरावर थाना इलाके मे एक सौतेले पिता ने अपनी ही बेटी को अपनी हवस का शिकार बनाने की कोशिश की| घटना की शिकायत उसकी मा ने थाने मे दर्ज करा दीं| शिकायत दर्ज कराने से उसे कोई इंसाफ तो नहीं मिला उल्टे उसके सर से आशियाना छीन गया | पुलिस के लचर रवैया के चलते आरोपी पिता ने अपनी पत्नि और दो मासूम बेटियों को घर से बाहर निकाल दिया| अब पीड़िता अपनी बेटियों सहित खुद खुले आसमान के नीचे जीवन काटने को मजबूर है |


असल मे पीड़िता अन्जुम निशा की शादी शिराज पुत्र इत्माइल खां निवासी 6 अह‌मद नगर थाना रोरावर जिला अलीगढ़ के साथ दिनांक 05/01/2018 को मुस्लिम रीति रिवाज के अनुसार गय दान दहेज के संपन्न हुयी थी। पीड़िता के मुताबिक उसके बाद सिराज की मेरे पूर्व पति से उत्पन्न पुत्री इफा पर गलत नीयत थी जिसका मुकदमा भी लिखा गया था इसी बात को लेकर प्रार्थिया व व उसके पति का विपक्षी से झगड़ा हुआ और विपक्षी ने प्रार्थिनी व उसके बच्चों को मात्र पहने हुये कपड़ों में घर से निकाल दिया है और वह अपनी रिश्तेदारी में रहकर गुजर बसर कर रही है और प्रार्थिनी का दहेज का सारा सामान विपक्षी ने ताला डालकर कमरे में बन्द कर रखा है और उसकी नीयत सामान को हड़प लिया है उसकी पुत्री  के कपड़े आदि सामान भी उसके कब्जे में है जब जब उसने अपने सामान की मांग की तो विपक्षी ने सामान देने से मना कर दिया और कहा कि तेरा सारा सामान बेच दूंगा और तुझे कुछ नही दूंगा नहा पर जो किया जाये कर देनः । अथ हैं कमरे में प्रार्थिनी की पुत्री की जिसमेट इन्द है जिससे उसको आगामी पढ़ाई में बाधा पैदा हो रही है और पीड़िता व उसकी पुत्री को काफी कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है। अब प्रार्थिनी को अन्देशा पैदा हो गया है कि विपक्षी पार्थिनी के सामान को खुर्द बुर्द न करदे । पार्थिनी को जानकारी मिली है कि विपक्षी सामान को बेच चुका है|

  पीड़िता ने कई बार पुलिस से गुहार लगायी है कि उसका समस्त सामान जो कि विपक्षी के नाजायज रूप से कब्जे में है उसको तत्काल प्रार्थिनी की सुपुर्दगी में दिलाया जावे। अन्यथा की स्थिति में विपक्षी उसके समस्त सामान को निश्चित रूप से खुर्दबुर्द कर देगा।

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)