जनता से वित्तपोषित, UPI, PhonePe, और PayTM: 9219129243

#AMU NEWS| 75वां गणतंत्र दिवस धूमधाम से मनाया, मुजफ्फर अली के साथ उनके संस्मरण पर हुयी पैनल चर्चा

0

अलीगढ़ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ| अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के कुलपति प्रोफेसर मोहम्मद गुलरेज़ ने स्ट्रेची हॉल के समक्ष 75वें गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने के बाद छात्रों, शिक्षकों और गैर-शिक्षण कर्मचारियों की सभा को संबोधित करते हुए कहा कि स्वतंत्रता के समय अंतरराष्ट्रीय सहायता की दया पर निर्भर रहने से लेकर अपने पूर्व उपनिवेशवादी को पछाड़कर 5वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने और निकट भविष्य में एक ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने के लक्ष्य तक; खाद्यान्न के लिए अन्य देशों पर निर्भर रहने से लेकर विश्व के सबसे बड़े निर्यातकों में से एक होने तक, चंद्रमा के अनछुए हिस्से पर उतरने तक, और नए युग के कौशल और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और ग्रीन हाइड्रोजन जैसी भविष्य की प्रौद्योगिकियों को प्राथमिकता देने के लिए सुशोभित होने तक, भारत ने पिछले 75 वर्षों में अभूतपूर्व विकास का रास्ता तय किया है, और इसकी विकास की कहानी न केवल विश्व स्तर पर स्वीकार की गई है, बल्कि विश्व शक्ति के रूप में इसकी स्थिति के बारे में आम धारणा में भी बड़ा बदलाव आया है।


प्रोफेसर गुलरेज़ ने कहा कि जो चीज़ एक ‘लोकतांत्रिक संविधान’ को अन्य प्रकार के संविधान से अलग करती है, वह ‘क़ानून का शासन’ स्थापित करने और व्यक्तिगत गरिमा की रक्षा करने और सामाजिक एकजुटता स्थापित करने की प्रतिज्ञा है।


उन्होंने कहा कि यदि समाज में भीड़ का न्याय आदर्श है तो ‘कानून के समक्ष समानता’ की धारणा निरर्थक है, यदि समाज में अमीर और गरीब के बीच कि खाई बढ़ रही है तो कल्याणकारी राज्य के विचार का कोई अर्थ नहीं है और इसी प्रकार सहनशीलता और समायोजन के अभाव में भाईचारा का कोई महत्व नहीं है।


उन्होंने कहा कि एक संस्था के रूप में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय खुद को देश के संवैधानिक सिद्धांतों और इसके लोकतांत्रिक आदर्शों के साथ मानता है और इसने भारत के लोगों के शैक्षिक उत्थान और सामाजिक सशक्तिकरण में अपना भरपूर योगदान दिया है। इसके छात्र सर सैयद के दृष्टिकोण के ध्वजवाहक और भारत की विकास गाथा के ब्रांड एंबेसडर हैं।

#Republic Day Celebration| बेसिक शिक्षा मंत्री श्री संदीप सिंह ने पुलिस लाइन में गणतंत्र दिवस परेड की ली सलामी

उन्होंने छात्रों से भारतीय संविधान की पवित्रता को अक्षरश संरक्षित करने का संकल्प लेने और हर तरह से भारत की स्वतंत्रता, एकता और एकजुटता की सुरक्षा के लिए काम करने का आग्रह किया।


बाद में कुलपति ने एथलेटिक्स क्लब, यूनिवर्सिटी गेम्स कमेटी द्वारा आयोजित मिनी मैराथन के विजेताओं को पुरस्कार वितरित किए। छात्र-छात्राओं के मुकाबलों में ‘हाफ मैराथन रेस फॉर यूनिटी’ जीतने वाले अहमदी स्कूल फॉर विजुअली चैलेंज्ड के छात्रों को भी पुरस्कार दिए गए। इस अवसर पर, प्रोफेसर गुलरेज़ ने अपनी पत्नी, प्रोफेसर नईमा खातून के साथ एसएस हाल परिसर में  पौधे लगाए और विश्वविद्यालय स्वास्थ्य सेवा (यूएचएस) में भर्ती छात्रों से मुलाकात की और उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली। उन्होंने भर्ती छात्रों को फल भी वितरित किये।


विश्वविद्यालय की छात्रा सुमराना मुजफ्फर (बीएससी) और छात्र शाहान उस्मानी (एमबीबीएस) ने भी इस अवसर पर अपने विचार व्यक्त किये। ध्वजारोहण समारोह का संचालन रजिस्ट्रार, श्री मोहम्मद इमरान (आईपीएस) ने किया। उन्होंने उपस्थितजनों को सत्यनिष्ठा की शपथ भी दिलाई।


विश्वविद्यालय के सभी कार्यालयों, संकायों, कॉलेजों, विभागों और स्कूलों में गणतंत्र दिवस का जश्न हर्षाेल्लास से मनाया गया। प्रशासनिक ब्लॉक भवन, कुलपति आवास, मौलाना आजाद पुस्तकालय, कला संकाय, विश्वविद्यालय के सभी स्कूलों और कॉलेजों, सभी डीन और डीएसडब्ल्यू के कार्यालयों, सभी प्रोवोस्ट कार्यालयों और प्रॉक्टर कार्यालय पर भी राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया।


इससे पूर्व दिन में, एसटीएस स्कूल द्वारा लड़कों के लिए और अब्दुल्ला हॉल द्वारा लड़कियों के लिए प्रभात फेरी कार्यक्रम का आयोजन किया गया। उर्दू विभाग ने 25 और 26 जनवरी की मध्यरात्रि को एक मुशायरा (काव्य संध्या) का आयोजन किया, जिसमें कुलपति प्रोफेसर गुलरेज़ ने मुशायरे की अध्यक्षता की।


वीमेंस कॉलेज में मुजफ्फर अली के साथ उनके संस्मरण पर पैनल चर्चा  का आयोजन

अलीगढ़, 26 जनवरीः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के डिबेटिंग एंड लिटरेरी क्लब द्वारा प्रसिद्ध फिल्म निर्माता निर्देशक तथा कलाकार और एएमयू के पूर्व छात्र मुजफ्फर अली के साथ उनके संस्मरण ज़िक्रः समय की रोशनी और छाया में (पेंगुइन, 2022), पर विमेंस कॉलेज सभागार में एक पैनल चर्चा का आयोजन किया गया जिसमें छात्रों, शिक्षकों और कला और साहित्य प्रेमियों ने भरपूर रूचि के साथ भाग लिया।


चर्चाकर्ता अंग्रेजी विभाग के अध्यक्ष, प्रोफेसर मोहम्मद आसिम सिद्दीकी, जिनकी संस्मरण की समीक्षा पहले ही प्रकाशित हो चुकी है, और कला और संस्कृति क्यूरेटर और जामिया मिलिया इस्लामिया में विजिटिंग फैकल्टी सुश्री अंबरीन खान ने मुजफ्फर अली से कई प्रासंगिक प्रश्न पूछे, जिनके उत्तर देते हुए श्री अली ने बातचीत को उपयुक्त दोहों और वक्तव्यों से संदर्भित किया। उन्होंने एक अनुभवी कवि की तरह सहजता से अपनी कुछ रचनाओं से दोहे सुनाए।


गमन (1978), उमराव जान (1981), आगमन (1982), अंजुमन (1986) आदि फिल्मों के निर्माता ने अपने संस्मरण और अपने कलात्मक प्रयासों के विभिन्न रंगों पर चर्चा की।

इस सवाल पर कि उन्होंने किस तरह प्रेरणा महसूस की और पेंटिंग सीखी और किस प्रकार कविता में रुचि ली, मुजफ्फर अली ने कहा कि ‘कविता और पेंटिंग का गहरा रिश्ता है’। उन्होंने कहा कि जब तक कोई सभ्यता अन्य सभ्यताओं का सम्मान नहीं करती, सभ्यताएँ न तो विकसित हो सकती हैं और न ही जीवित रह सकती हैं।


एक अन्य प्रश्न के जवाब में उन्होंने कहा कि अस्तित्व का अर्थ सह-अस्तित्व है। मुजफ्फर अली ने बड़ी संख्या में उपाख्यानों के माध्यम से अपनी फिल्म निर्माण शैली, सिद्धांतों और दृष्टिकोणों के बारे में गहन अंतर्दृष्टि से दर्शकों को अपने आर्ट द्वारा अपेक्षित कलात्मक अभिव्यक्ति की गहराई से अवगत कराया। पैनल चर्चा के बाद, प्रोफेसर एम. शाफ़े किदवई (जनसंचार विभाग, एएमयू) ने अपना संबोधन गायत्री चक्रवर्ती स्पिवक के उद्धरण के साथ शुरू किया कि आत्मकथा एक घाव है जहां इतिहास का खून नहीं सूखता है। उनके शब्दों से दर्शकों को मुजफ्फर अली की आत्मकथा के बारे में अच्छी जानकारी प्राप्त करने में मदद मिली।


इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि, एएमयू के कुलपति, प्रोफेसर मोहम्मद गुलरेज़ और मानद अतिथि प्रोफेसर नईमा खातून भी मौजूद रहीं।प्रोफेसर गुलरेज़ ने अपने संबोधन में आत्मकथाओं के महत्व पर प्रकाश डाला और कहा कि आत्मकथाएँ लेखक के जीवन के अनुभवों और उपलब्धियों को चित्रित करती हैं जो युवा पीढ़ी को प्रभावित करती हैं और कई बार उनका मार्गदर्शन भी करती हैं। अपने उद्घाटन भाषण में, यूनिवर्सिटी डिबेटिंग एंड लिटरेरी क्लब की अध्यक्ष डॉ. सदफ फरीद ने मेहमानों का स्वागत किया।


प्रोफेसर एफ.एस. शेरानी, समन्वयक, सांस्कृतिक शिक्षा केंद्र, प्रोफेसर विभा शर्मा, प्रोफेसर हुमा और प्रोफेसर नाज़िया हसन ने मेहमानों को गुलदस्ते भेंट किए। इस अवसर पर उपस्थित लोगों ने लेखक से हस्ताक्षरित संस्मरण प्राप्त किया।


‘अली दिवस’ के उपलक्ष्य में दुर्लभ पांडुलिपियों और पुस्तकों की प्रदर्शनी का उद्घाटन


अलीगढ़, 26 जनवरीः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की मौलाना आज़ाद लाइब्रेरी व ‘अली सोसाइटी’ द्वारा मनाये जानेवाले ‘अली दिवस’ के तहत मौलाना आजाद लाइब्रेरी में दुर्लभ पांडुलिपियों और पुस्तकों की एक प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। 25 जनवरी को इस कार्यक्रम का उद्घाटन एएमयू के कुलपति प्रोफेसर मोहम्मद गुलरेज़ ने किया।

प्रदर्शनी में ऐतिहासिक कलाकृतियों का खजाना प्रदर्शित किया गया, जिसमें नहज-अल-बालागा की 900 साल पुरानी प्रति, हज़रत अली के भाषणों और सूक्तियों का संग्रह शामिल है, जो उपमहाद्वीप में सबसे पुरानी मौजूद प्रति है। प्रोफेसर गुलरेज़ ने विभिन्न हस्तलिखित पांडुलिपियों और पवित्र कुरान की विविध प्रतियों का निरीक्षण किया। यूनिवर्सिटी लाइब्रेरियन प्रोफेसर निशात फातिमा और ओरिएंटल सेक्शन के प्रभारी डॉ. टीएस असगर ने कुलपति को प्रदर्शित पांडुलिपियों के ऐतिहासिक और शैक्षणिक महत्व के बारे में जानकारी दी।


प्रदर्शित दुर्लभ वस्तुओं में ‘क़सिदा-ए-हाफ़िज’ शामिल है, जो हज़रत अली की प्रशंसा में लिखित एक कविता है, जिसे ख़त-ए-नाख़ून की अनूठी शैली में नुकीले नाखूनों से जटिल रूप से लिखा गया है। प्रदर्शनी में पवित्र कुरान का एक टुकड़ा भी शामिल है, जिसके बारे में माना जाता है कि इसे हज़रत अली ने चर्मपत्र पर कुफि शैली में हाथ से लिखा था। हज़रत अली के जीवन और गुणों का वर्णन करने वाली विभिन्न भाषाओं की किताबें, साथ ही पांडुलिपियों को सजाने के लिए उपयोग किए जाने वाले विभिन्न प्रकार के चमड़े के कवर, प्रदर्शन की समृद्धि को बढ़ाते हैं।


कार्यक्रम में प्रोफेसर आबिद ए खान (अध्यक्ष, अली सोसायटी), एएमयू के प्रॉक्टर प्रोफेसर वसीम अली, प्रोफेसर अली नवाज जैदी (डिप्टी प्रॉक्टर), श्री उमर एस पीरजादा (पीआरओ, एएमयू) डॉ. जाफर आबिदी, प्रो. परवेज़ क्यू रिज़वी, डॉ. हुसैन हैदर, प्रो. तैय्यब रज़ा, प्रो. तौकीर आलम, डॉ. रज़ा अब्बास, सुश्री ग़ज़ाला तनवीर और डॉ. हैदर हुसैनी के अतिरिक्त, कई अन्य गणमान्य व्यक्ति भी शामिल हुए।


 

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)