जनता से वित्तपोषित, UPI, PhonePe, और PayTM: 9219129243

#Aligarh: जीबीसी 4.0 के तहत जिले में 11 हजार करोड़ के 262 परियोजनाओं की रखी जाएगी नींव

0


मा0 बेसिक शिक्षा मंत्री श्री संदीप सिंह ने जिलास्तरीय जीबीसी का किया शुभारंभ

एमएसएमई सेक्टर में 3700 करोड़ के 145, उद्यान विभाग में 1874.75 करोड़ के 24 एवं तकनीकी शिक्षा में 37.9 करोड़ के 15 निवेश प्रस्ताव प्राप्त

अलीगढ़ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ : लखनऊ में आयोजित ग्राउण्ड ब्रेकिंग सेरेमनी 4.0 के तहत मा0 प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा 10 लाख करोड़ के 14 हजार से अधिक निवेश प्रस्तावों एवं एमओयू का रिमोट का बटन दबाकर शिलान्यास किया गया। मा0 प्रधानमंत्री जी ने जीबीसी 4.0 को सम्बोधित करते हुए कहा कि आज हम यहां विकसित भारत के लिए विकसित उत्तर प्रदेश के निर्माण के लिए एकत्रित हुए हैं। उन्होंने कहा कि टेक्नोलॉजी के माध्यम से आज हमारे साथ यूपी की 400 से ज्यादा विधानसभा सीटों पर लाखों लोग इस कार्यक्रम के साथ जुड़े हुए हैं, मैं उन सभी परिवार जनों का भी हृदय से स्वागत करता हॅू। पहले जब हम यूपी को विकसित बनाने की बात करते थे तो कोई सुनने को भी तैयार नहीं होता था, आज उसी उत्तर प्रदेश की धरती पर लाखों करोड़ रूपये का निवेश उतर रहा है। मैं उत्तर प्रदेश से सांसद हूं और मेरे उत्तर प्रदेश में जब यह होता है तो मुझे सबसे ज्यादा आनंद होता है। यूपी में क्राइम कम हुआ तो बिजनेस कल्चर का विस्तार हुआ। बीते 7 वर्षों में यूपी में व्यापार, विकास और विश्वास का माहौल बना है। डबल इंजन सरकार ने दिखाया है कि अगर बदलाव की सच्ची नियत है उसे कोई रोक नहीं सकता। यूपी से होने वाले एक्सपोर्ट दो गुना हो चुका है। आज यूपी सबसे ज्यादा एक्सप्रेस वे, सबसे ज्यादा इंटरनेशनल एयरपोर्ट, पहली रैपिड रेल चल रही है। वेस्टर्न डेडीकेटेड फ्रेट कॉरिडोर और ईस्टर्न डेडीकेटेड ट्रेड कॉरिडोर का एक बड़ा नेटवर्क भी उत्तर प्रदेश से होकर गुजरता है। यूपी में नदियों के विशाल नेटवर्क का इस्तेमाल भी माल वाहक जहाज़ के लिए किया जा रहा है इससे यूपी में आवाजाही आसान हो रही है ट्रांसपोर्टेशन तेज और सस्ता हुआ है। आज आप दुनिया में कहीं भी जाए भारत को लेकर अद्भूतपूर्व पॉजिटिविटी दिख रही है। आजकल मोदी की गारंटी की बहुत चर्चा है लेकिन आज पूरी दुनिया भारत को बेहतर रिटर्न की गारंटी मानती है। प्रायः चुनाव के नजदीक लोग नए निवेश से बचते हैं लेकिन आज भारत ने यह धारणा भी तोड़ दी है। हमने गरीबों के लिए चार करोड़ पक्के घर बनाएं लेकिन साथ ही शहरों में रहने वाले मध्यम वर्गीय परिवारों को अपना घर का सपना पूरा करने के लिए हमने लगभग 60,000 करोड रुपए की मदद भी दी। इससे शहरों में रहने वाले 25 लाख मध्यम वर्गीय परिवारों को ब्याज में छूट मिली है इसमें डेढ़ लाख लाभार्थी परिवार मेरे यूपी के हैं। विकसित भारत संकल्प यात्रा में भी यूपी के लाखों लाभार्थियों को घर-घर जाकर योजनाओं से जोड़ा गया। मोदी की गारंटी वाली गाड़ी गांव गांव शहर शहर पहुंची है। यही सच्चा सामाजिक न्याय और सच्चा सेकुलरिज्म है। हमारी सरकार खुद गरीब के दरवाजे पर पहुॅच रही है। मोदी की गारंटी है कि जब तक हर लाभार्थी को उसका हक नहीं मिल जाता हमारी सरकार शांत नहीं बैठेगी। पीएम सम्मन निधि योजना से अभी तक देश भर में रेहडी-पटरी, ठेले वालों को लगभग 10000 करोड रुपए की मदद दी जा चुकी है यहां यूपी में भी 22 लाख रेहडी पटरी वालां को इसका लाभ मिला है। बैंकों से कोई मदद नहीं मिलती थी क्योंकि इनके पास बैंकों को देने के लिए कोई गारंटी नहीं थी आज उनके पास मोदी की गारंटी है। एक करोड़ से अधिक बहिनों को लखपति दीदी बनाया गया है आने वाले समय में 3 करोड़ दीदियों को लखपति बनाया जएगा। उन्होंने मा0 मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी की औद्योगिक नीतियों एवं उनके उत्तर प्रदेश को 01 ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था बनाने के लक्ष्य की मुक्तकंठ से सराहना करते हुए अन्य राज्यों को भी राजनैतिक भावना से इतर इससे प्रोत्साहित होकर विकसित भारत के लक्ष्य को प्राप्त करने में अपनी सक्रिय भूमिका निभाने का आव्हान किया। 

मा0 मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि हम सभी का सौभाग्य है आज भारत अमृत काल में प्रवेश कर चुका है। भारत के अमृत काल के सारथी के रूप में हमें प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी का मार्गदर्शन और नेतृत्व प्राप्त हो रहा है। आचार्य कौटिल्य ने कहा था की आर्थिक समृद्धि के लिए तीन तत्वों पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है पहले भूमि, दूसरी जनसंख्या, और तीसरी पूंजी और यह तीनों तत्व आज उत्तर प्रदेश में प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है। आदरणीय प्रधानमंत्री जी की प्रेरणा और आप सभी के सहयोग से जुलाई 2018 में पहले ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी आयोजित की गई जिसमें 61700 करोड रुपए के निवेश वाली परियोजनाओं का शुभारंभ किया गया। जुलाई 2019 में दूसरी ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी का आयोजन किया गया जिसमें 67000 करोड रुपए के निवेश के प्रस्ताव का शुभारंभ के साथ आयोजन संपन्न हुआ। कोविड कालखंड के बावजूद तीसरे ग्राउंड ब्रेकिंग समारोह में 80000 करोड रुपए की परियोजनाओं का शुभारंभ किया गया, इन सभी परियोजनाओं के माध्यम से प्रदेश के लाखों नौजवानों के लिए नौकरी और रोजगार की संभावनाएं आगे बढ़ी। 10 से 12 फरवरी 2023 के बीच आयोजित ग्लोबल इन्वेस्टर समिट में अब तक लगभग 40 लाख करोड रुपए के निवेश के प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं आज इन्हीं प्रयासों को धरातल पर उतारने का उत्सव है। मा0 प्रधानमंत्री जी के करकमलों से 10 लाख 11 हजार करोड रुपए की परियोजनाओं का शिलान्यास संपन्न हुआ है। इससे प्रदेश के 34 लाख से अधिक युवाओं के लिए नौकरी और रोजगार की अवसर भी प्रदान होंगे। नया उत्तर प्रदेश, उत्तम प्रदेश से उद्यम प्रदेश बनकर भारत के ग्रोथ इंजन के रूप में विकसित भारत के संकल्प में एक विकसित उत्तर प्रदेश बनने की ओर अग्रसर है। देश की दूसरी बड़ी अर्थव्यवस्था के रूप में उत्तर प्रदेश देश की अर्थव्यवस्था में 9.2 प्रतिशत का योगदान कर रहा है। देश का 55 प्रतिशत एक्सप्रेस वे उत्तर प्रदेश में है। सबसे बड़ा रेल और रोड नेटवर्क भी यहीं पर है। ईस्टर्न एंड वेस्टर्न डेडीकेटेड ट्रेड कॉरिडोर का जंक्शन उत्तर प्रदेश में है और सबसे ज्यादा एयरपोर्ट वाला प्रदेश भी उत्तर प्रदेश ही है। एक्सप्रेस वे राज्य के कोने कोने से मैन्यूफैक्चरिंग को कनेक्टिविटी प्रदान कर रहे हैं। लीड्स रैंकिंग में हम अचीवर स्टेट हैं यहां लैंड भी पर्याप्त है, बिजली भी भरपूर है, ना मैनपावर की कमी है ना विल पावर का अभाव। इज ऑफ डूइंग बिजनेस, निवेश मित्र पोर्टल, निवेश सारथी पोर्टल, इंसेंटिव मॉनिटरिंग सिस्टम के साथ ही प्रदेश की इन्वेस्टमेंट फ्रेंडली पॉलिसी का परिणाम है कि आज हर निवेशक यहां आना चाहता है। सुरक्षित निवेश यानी उत्तर प्रदेश। यहां मोदी जी की गारंटी है, इस पर यूपी को भी यकीन है और पूरा भारत पूरी मजबूती के साथ उनके साथ खड़ा है। इस संकल्प से जुड़ते हुए उत्तर प्रदेश नं स्वयं को 1 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य रखा है। आज उत्तर प्रदेश भारत के श्रम शक्तिपुंज को एक अर्थशक्ति कुंज के रूप में बनाने की ओर अग्रसर हुआ है। उन्होंने मा0 प्रधानमंत्री जी को आश्वस्त किया कि उत्तर प्रदेश के लिए उनका जो विजन है वह हम सब का मिशन है और उस मिशन को हम लोग पूरा करके रहेंगे। 

इससे पूर्व जनपद स्तरीय ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी का शुभारंभ कल्याण सिंह हैबिटेट सेंटर में मुख्य अतिथि मा0 बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतन्त्र प्रभार) श्री संदीप सिंह, विधायक श्री अनिल पराशर, श्रीमती मुक्ता संजीव राजा, श्री ऋषिपाल सिंह, मा0 जिला पंचायत अध्यक्ष प्रतिनिधि श्री प्रवीण राज सिंह, श्री आर0पी0 सिंह, मा0 महापौर श्री प्रशांत सिंघल, आयुक्त अलीगढ़ मण्डल श्री रविन्द्र, जिलाधिकारी श्री विशाख जी0, पीडी श्री भाल चन्द्र त्रिपाठी द्वारा मॉ0 सरस्वती की प्रतिमा के सम्मुख दीप प्रज्ज्वलन एवं माल्यार्पण कर किया गया। सभी अतिथियों को गमला, पुष्प गुच्छ एवं भगवान श्रीराम की प्रतिमा भेंट कर सम्मानित किया गया। जनपद स्तरीय कार्यक्रम में लखनऊ में आयोजित कार्यक्रम का सजीव प्रसारण किया गया, जिसे सैकड़ों उद्यमियों, निवेशकों, लाभार्थियों ने देखा और सुना।

मा0 मंत्री श्री संदीप सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि पिछले वर्ष आयोजित ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट में 40 लाख करोड़ से भी अधिक के निवेश के प्रस्ताव हम लोगों को प्राप्त हुए थे और आज 1 वर्ष के अंदर ही 10 लाख करोड़ से भी अधिक के कार्यों का शिलान्यास मा0 प्रधानमंत्री जी द्वारा किया गया है। उन्होंने कहा कि मा0 प्रधानमंत्री जी और मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में यानी डबल इंजन की सरकार के नेतृत्व में जो संकल्प लिया गया है वह उत्तर प्रदेश को एक नई दिशा देने का काम करेगा। आज विभिन्न योजनाओं के माध्यम से प्रत्येक परिवार तक सरकार के द्वारा चलाई गई योजनाओं का लाभ पहुंचाया जा रहा है। पहले जब कोई भी उद्योग लगाने की बात आती थी तो देखा जाता था कि उद्यमी धन एकत्रित करने का एक माध्यम बन जाता था। आज पारदर्शी तौर पर जब कोई इन्वेस्टर्स अपना नया उद्योग लगाने के लिए उनकी इच्छा होती है तो सरकार के द्वारा उनको सारी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाती है। जिस तरह से 10 वर्षों में हमारे देश की आर्थिक स्थिति सुधरी है हमारा देश 11वें पायदान से पांचवें पायदान तक पहुंचा और प्रधानमंत्री जी ने जो संकल्प लिया है कि भारत को 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनाना है उत्तर प्रदेश को 1 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनाकर के हम सब लोगों को देश और दुनिया के सामने रखना है जिसमें हम अपने लक्ष्य को प्राप्ति के लिए बहुत तेजी से आगे बढ़ रहे हैं आज लगभग 04 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी तक हमारा देश पहुंच चुका है। 

मा0 विधायक कोल श्री अनिल पराशर ने कहा कि 2017 के दौर से अब तक 07 वर्ष के  कार्यकाल में नीति, नियत और नेतृत्व का जो मिलन केंद्र व प्रदेश सरकार की डबल इंजन सरकार में हुआ है उससे प्रदेश में एक नये दौर की शुरुआत हुई है। विकास की नई-नई योजजनाएँ स्थापित हो रही हैं। अलीगढ़ माइक्रो इंडस्ट्री का क्षेत्र है, इसमें असीम संभावनाऐं हैं। पहले नोयडा तक ही औद्योगिक निवेश सीमित था, परन्तु अब पूरे प्रदेश में उद्यम स्थापित हो रहे हैं। जिले में डिफेंस कॉरिडोर, नजदीक जेवर एयरपोर्ट को धरातल पर उतारते हुए सरकार निवेशकों, उद्यमियों, व्यापारियों को नया माहौल प्रदान कर रही है। बेहतर कनेक्टिविटी के चलते अलीगढ़ एक समय मे नोयडा से आगे होगा। उन्होंने उद्यमियों निवेशकों को विकास यात्रा का सहभागी बनने की अपील भी की।  

मा0 एमएलसी चौ0 ऋषिपाल सिंह ने जिले के निवेश में सहभागी बने निवेशकों का आभार प्रकट करते हुए कहा कि आज का वातावरण सम्पूर्ण भारत वर्ष में सुरक्षा और उद्योग का वातावरण बन गया है। प्रदेश में निवेश का सकारात्मक वातावरण बना हुआ है। भारत जल्द ही विश्व की तीसरी अर्थव्यवस्था बनेगा। उद्यमी सामान्य नहीं होते, उद्योगों, उद्यमियों का सम्मान करने का काम मुख्यमंत्री जी कर रहे हैं। भारत से सभी देश मित्रता करना चाहते हैं। प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में सभी देश मित्र बन चुके हैं। हर क्षेत्र में नए कीर्तिमान स्थापित हो रहे हैं। विदेशी निवेश ने प्रदेश को सर्वोत्तम बना दिया है।

हैबिटेट सेंटर में आयोजित कार्यक्रम में प्लेज योजना के तहत प्रदेश के पहले उद्यम पार्क की स्थापना करने वाले निवेशक राकेश जी के प्रतिनिधि पी0 के0 शर्मा ने अपने अनुभवों को शेयर किया। उन्होंने बताया की प्रदेश की सुदृढ़ व्यवस्थाओं जिला प्रशासन के सक्रिय सहयोग से सम्भव हो सका। निवेशक आंशिका मित्तल ने प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री जी का आभार प्रकट करते हुए अपने प्रोजेक्ट वूमेन ट्रांसपोर्ट सर्विसेज के बारे में बताया कि अगले महीने तक प्रोजेक्ट धरातल पर आ जाएगा। चन्द्र शेखर शर्मा ने अपने अनुभव साझा करते हुए बताया कि वर्तमान समय उधोग के लिए सकारात्मक है। उद्यमियों की हर संभव मदद की जा रही है। पहले पेपर, फॉर्म चलता था, अब पोर्टल पूरी पारदर्शिता के साथ निष्पक्षता से कार्य कर रहा है। अभी हाल ही में वित्त मंत्री द्वारा की गई घोषणा की तारीफ़ करते हुए कहा कि उद्यमी के बकाया धन वसूली के लिए आयकर विभाग को जिम्मेदारी दी है। हर्ष उद्यान रिसोर्ट से कुलदीप ने अपने अनुभव साझा करते हुए बताया कि मैं 32 वर्ष से उद्यम क्षेत्र में हूँ। मेरी आकांक्षा को पंख उस समय लगे जब मुझे इन्वेस्टर समिट के माध्यम से कार्य करने का अवसर मिला। जल्द ही जिम कार्बेट नेशनल पार्क की भांति ही अपर गंग नहर कासिमपुर के शांतिपूर्ण माहौल में एक रिसॉर्ट निमार्ण कार्य आरम्भ होगा। 

संयुक्त आयुक्त उद्योग ने जनपद स्तरीय कार्यक्रम को संबोधित करते हुए बताया कि जिले के सभी तहसील एवं ब्लॉक मुख्यालयों पर मा0 जनप्रतिनिधियों, अधिकारियों, उद्यमियों एवं निवेशकों की उपस्थिति में लखनऊ में आयोजित कार्यक्रम का सजीव प्रसारण देखा व सुना गया। उन्होंने बताया कि जिले में 265 से अधिक निवेश इकाइयों के लिए 11 हजार करोड़ के निवेश के लिए एमओयू किया गया है। 103 उद्यमियों ने एक वर्ष में 3 हजार करोड़ निवेश के साथ उद्यम की शुरुआत भी कर दी है। 


11 हजार करोड़ के 262 प्रस्ताव :

एमएसएमई एवं निर्यात उद्यम के 3700 करोड़ के 145, हार्टीकल्चर के 1874.75 करोड़ के 24, पर्यटन विभाग के 247.80 करोड़ के 13, शहरी विकास के 849 करोड़ के 02, यूपीसीडा के 863.65 करोड़ के 05, सहकारिता के 141.85 करोड़ के 07, दुग्ध विकास के 274.94 करोड़ के 10, आवास विकास के 1154 करोड़ के 06, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य के 152.5 करोड़ के 05, चिकित्सा शिक्षा के 74 करोड़ के 04,  तकनीकी शिक्षा के 37.09 करोड़ के 15, आयुष के 23.44 करोड़ के 02, हथकरघा के 20 करोड़ का 01, पशुपालन के 13.03 करोड़ के 06, अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत के 508.29 करोड़ के 03, खाद्य सुरक्षा एवं औषधि का 3.5 करोड़ का 01, वन विभाग के 12.59 करोड़ के 08, कृषि विभाग के 102 करोड़ का 02, औद्योगिक विकास विभाग 757 करोड़ के 02, परिवहन विभाग के 25 करोड़ के 02 समेत लगगभ 11 हजार करोड़ के 262 प्रोजेक्ट ग्राउण्ड ब्रेकिंग सेरेमनी में एमओयू किया गया। इनके धरातल पर क्रियान्वित होने के उपरान्त जिले में हजारों नये रोजगार सृजित होंगे। 

जिले में सर्वाधिक 145 निवेश प्रस्ताव 3700 करोड़ के एमएसएमई विभाग से प्राप्त हुए। इसके अतिरिक्त 24 विशेष निवेश प्रस्ताव 1874.75 करोड़ के उद्यान विभाग से और 15 निवेश प्रस्ताव 37.9 करोड़ के तकनीकी शिक्षा विभाग से प्राप्त हुए हैं।

ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी में प्रदेश के मा0 बेसिक शिक्षा मंत्री, स्थानीय जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों द्वारा मेटल हैंडीक्राफ्ट के लिए संजीव कुमार, शंकर सिंह, अजय कुमार, मोहम्मद मुजाहिद, निर्मल कुमार, ललित मोहन शर्मा, प्रमोद कुमार, नसीर अहमद, मंगल सिंह व विजेंद्र सिंह को टूलकिट प्रदान की गई।

ओडीओपी वित्त पोषण योजना में स्वरोजगार स्थापना के लिए जितेंद्र कुमार नवलानी को 50 लाख, ललित कुमार को 53 लाख 20 हजार, अमित कुमार एवं दीपक राघव को 10-10 लाख रुपए के चैक प्रदान किए गए। 

 एमओयू के उपरांत इकाइयों की स्थापना कर उत्पादन शुरू करने के लिए वंडर सीमेंट से आशीष सिंह चंद्रावत, विधि एक्सपोर्ट से अभिषेक जिंदल,  हर्ष उद्यान तमेवतज से कुलदीप आर्या, निजी औद्योगिक प्लेज पार्क से राकेश अग्रवाल, नीलकंठ फूड एंड बेवरेज से  अनुरंजन सिंघल, वेदान्त आइस एंड कोल्ड स्टोर से वैभव प्रताप सिंह, कल्पना इंटरनेशनल से नलिन कुमार और गजानंद फूड प्रोडक्टस से राजेश कुमार गर्ग को सम्मानित किया गया।

--

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)