जनता से वित्तपोषित, UPI, PhonePe, और PayTM: 9219129243

#AMU News: राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 पर एएमयू में दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन

0

अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ़| अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के आधुनिक भारतीय भाषा विभाग के मराठी अनुभाग एवं केन्द्रीय हिन्दी संस्थान, आगरा के संयुक्त तत्वावधान से 21 एवं 22 फरवरी 2024 को अंतराष्ट्रीय मातृभाषा भाषा दिवस के अवसर पर “राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 और भाषाएं’’ विषय पर दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया जा रहा है। इस संगोष्ठी में मुख्य अतिथि के तौर पर केन्द्रीय हिन्दी संस्थान आगरा एवं केन्द्रीय हिन्दी निदेशालय, शिक्षा मंत्रालय, भारत सरकार दिल्ली के निदेशक प्रो. सुनील बाबूराव कुलकर्णी शामिल होंगे।स्कूल ऑफ लेंगवेज स्टडीज एण्ड रिसर्च सेंटर के निदेशक और कवियत्री बहिनाबाई चैधरी, उत्तर महाराष्ट्र विश्वविद्यालय, जलगांव के अंग्रेजी भाषा विभाग के अध्यक्ष प्रो. मुक्ता महाजन, कला संकाय के अधिष्ठाता प्रो. आरिफ नजीर अतिथि के तौर पर उपस्थित रहेंगे। उद्घाटन सत्र की अध्यक्षता विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. मोहम्मद गुलरेज करेंगे।

संगोष्ठी के समापन सत्र के मुख्य अतिथि श्री मोहम्मद इमरान (आईपीएस) होंगे। इस सत्र में अतिथि के तौर सावित्रीबाई फुले पुणे विश्वविद्यालय, पुणे के अध्यक्ष प्रो. तुकाराम रोंगटे, भारत सरकार में रोजगार समाचार के पूर्व जनरल मेनेजर हसन जिया साथ ही अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के उर्दू विभाग से प्रो. जियाउररहमान सिद्दीकी भी उपस्थित रहेंगे। इस सत्र की अध्यक्षता सामाजिक विज्ञान संकाय के अधिष्ठाता प्रो. मिर्जा असमेर बेग करेंगे।

इस संगोष्ठी में देश से आये हुए शोद्यार्थी एवं विद्वान “राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 और भाषाएं’’ पर अपने-अपने विचार रखेंगे और राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 की चुनौतियाँ, अवसर, महत्व, भूमिका

एवं उद्देश्य पर विचार मंथन करेंगे।

इस संगोष्ठी का उद्घाटन सत्र दिनांक 21 फरवरी, 2024 को सुबह 11 बजे कला संकाय के सभागार

में और समापन सत्र दिनांक 22 फरवरी, 2024 को शामः 03 बजे आधुनिक भारतीय भाषा विभाग में होगा। राष्ट्रीय संगोष्ठी निदेशक डॉ. ताहेर पठान, समन्वयक प्रो. क्रान्ति पाल, डॉ चंद्रकान्त कोठे, और विभाग के चेअरपर्सन प्रो. एम.ए. झरगर ने सभी से इसमें शामिल होने का आग्रह यिका है।

--------------------------------

प्रोफेसर सतीश वन्यजीव विज्ञान विभाग के अध्यक्ष नियुक्त

अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ़ अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के वन्यजीव विज्ञान विभाग के प्रोफेसर सतीश कुमार को तीन साल की अवधि के लिए विभाग का नया अध्यक्ष नियुक्त किया गया है।

वह विभाग में शामिल होने के बाद पिछले 28 वर्षों से शिक्षण और अनुसंधान में लगे हुए हैं और उन्होंने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय ख्याति की पत्रिकाओं में 30 से अधिक शोध पत्र प्रकाशित किए हैं। उनकी अनुसंधान रुचि के क्षेत्र में भारत में ग्रे वुल्फ, शिकारी-शिकार संबंधों का अध्ययन, भेड़िया पैक का स्थानिक संगठन, नेटल पैक से फैलाव, प्रजनन जीव विज्ञान आदि शामिल है।

उन्होंने अमेरिकी वन सेवा के उत्तरी अनुसंधान स्टेशन, काविशिवी फील्ड लैब में बड़े मांसाहारी पारिस्थितिकी में उन्नत प्रशिक्षण प्राप्त किया और सुपीरियर नेशनल फॉरेस्ट, मिनेसोटा में डॉ. एल. डेविड मेच और डॉ. माइकल नेल्सन के साथ काम किया।

डॉ. कुमार ने उत्तर प्रदेश में जंगली जलपक्षियों में बर्ड फ्लू की जांच के लिए बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी के सहयोग से पक्षियों का भी अध्ययन और सैटेलाइट टेलीमेट्री और बर्ड रिंग्स का उपयोग करके बार-हेडेड गीज के प्रवासी व्यवहार का अध्ययन किया। उन्होंने बाबा गुलाम शाह बादशाह विश्वविद्यालय, राजौरी के जैव विविधता अध्ययन केंद्र के सहयोग से जीव-जंतुओं की विविधता के दस्तावेजीकरण के लिए भी काम किया है।

उन्होंने कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों, संगोष्ठियों और प्रशिक्षण कार्यक्रमों में भाग लिया है।

------------------------------

सीएचआईईएल इंडिया के उपाध्यक्ष ने विज्ञापन में करियर पर व्याख्यान दिया

अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ़ सीएचआईईएल, भारत के वरिष्ठ उपाध्यक्ष आतिफ रहमान ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग में ‘विज्ञापन की गतिशील दुनिया और एक कैरियर विकल्प के रूप में इसकी क्षमता‘ पर व्याख्यान दिया।

श्री रहमान ने विज्ञापन उद्योग के विभिन्न पहलुओं और इस क्षेत्र में उभरते रुझानों, चुनौतियों और अवसरों पर प्रकाश डाला। अपने व्यापक अनुभवों के बारे में बताते हुए, उन्होंने प्रभावी विज्ञापन रणनीतियों, उपभोक्ता व्यवहार गतिशीलता और विकसित डिजिटल परिदृश्य में मूल्यवान अंतर्दृष्टि साझा की।

उन्होंने छात्रों को कुछ ऐतिहासिक विज्ञापनों के पीछे की कहानियों के बारे में भी बताया और युवाओं प्रतिभाओं के पोषण और विज्ञापन उद्योग में नवाचार को बढ़ावा देने के महत्व पर जोर दिया।

एएमयू के पूर्व छात्र, रहमान ने एएमयू में अपने छात्र दिनों को याद किया।

इससे पहले, अतिथि वक्ता का स्वागत करते हुए जनसंचार विभाग के अध्यक्ष प्रो. पीताबास प्रधान ने आज के प्रतिस्पर्धी परिदृश्य में विज्ञापन की जटिलताओं पर विस्तार से प्रकाश डाला।

व्याख्यान के बाद एक इंटरैक्टिव सत्र हुआ, जिसमें प्रो. आफरीना रिजवी, डॉ. जीके साहू, मोहम्मद अनस और डॉ. हुमा परवीन सहित छात्रों और संकाय सदस्यों ने भाग लिया। डा हुमा ने परवीन ने धन्यवाद भी दिया।

----------------------------

दंत आघात पर डेंटल कालिज में कार्यशाला का आयोजन

अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ़|  डॉ. जियाउद्दीन अहमद डेंटल कॉलेज, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के ओरल और मैक्सिलोफेशियल सर्जरी विभाग ने अंतर्राष्ट्रीय ओरल और मैक्सिलोफेशियल सर्जन दिवस के अवसर बेसिक ट्रॉमा मैनेजमेंट‘ पर एक कार्यशाला का आयोजन किया, जिसे विशेष रूप से सदस्यों के लिए डिजाइन किया गया था। प्रोजेक्ट संजीवनी के तहत इंडियन डेंटल एसोसिएशन।

मुख्य अतिथि श्रीमती मीनू राणा ने कहा कि निजी डेंटल सर्जनों को ट्रॉमा प्रबंधन का कौशल विकास प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए एसोसिएशन ऑफ ओरल एंड मैक्सिलोफेशियल सर्जन ऑफ इंडिया (एओएमएसआई) द्वारा संजीवनी परियोजना शुरू की गई थी।

उन्होंने कहा, आईडीए के साथ इस अभूतपूर्व सहयोग का उद्देश्य सभी दंत विशेषज्ञों को दंत चिकित्सा अभ्यास और सामय जीवन में चिकित्सा आपात स्थितियों के प्रबंधन में आवश्यक कौशल से लैस करना है।

इससे पहले, अतिथियों का स्वागत करते हुए, आयोजन अध्यक्ष और विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर जी.एस. हाशमी ने कार्यशाला के उद्देश्य के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने कहा कि संजीवनी परियोजना केवल प्रशिक्षण के बारे में नहीं है, यह एओएमएसआई सदस्यों और के बीच गहरे संबंध को बढ़ावा देने के बारे में है। स्थानीय आईडीए शाखाओं में दंत पेशेवरों को सुरक्षित और अधिक प्रभावी रोगी देखभाल प्रदान करने के लिए चिकित्सा आपात स्थिति की पहचान करने और प्रबंधन पर ज्ञान प्रदान करना।

मेडिसिन संकाय की डीन प्रोफेसर वीना माहेश्वरी, जेडए डेंटल कॉलेज के प्रिंसिपल प्रोफेसर आर. के तिवारी ने कहा कि इस कार्यशाला के माध्यम से स्थानीय दंत चिकित्सक दंत आघात के प्रबंधन में नए विकास से परिचित होंगे।

कार्यक्रम का संचालन डॉ. आफिया अंबरीन और डॉ. जिंगशाई ने किया, जबकि आयोजन सचिव डॉ. सज्जाद ए. रहमान ने धन्यवाद ज्ञापन दिया।

जेएनएमसी के जैव रसायन विभाग के प्रोफेसर मोइनुद्दीन ने प्रतिभागियों को भागीदारी का प्रमाण पत्र वितरित किया। कार्यशाला में डॉ. अब्दुल बारी, डॉ. अमित गर्ग, डॉ. लोकेश तोमर, डॉ. रवि गुप्ता, डॉ. आस्था, डॉ. प्रवेलेंद्र और डॉ. स्वाति समेत अलीगढ़ के लगभग 45 दंत चिकित्सकों ने भाग लिया।

------------------------------

एएसएचआरएई ने एएमयू को 14990 अमेरिकी डॉलर मूल्य की 3 परियोजनाएं प्रदान की

अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ़| मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग, जेड.एच. कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के दो शिक्षकों को सत्र 2024-25 के लिए अमेरिकन सोसाइटी ऑफ हीटिंग, रेफ्रिजरेटिंग एंड एयर-कंडीशनिंग इंजीनियर्स (एएसएचआरएई), यूएसए द्वारा तीन प्रोजेक्ट प्रदान किये गये हैं, जिनकी कीमत यूएस डाॅलर 14990 है।

इंवेस्टीगेटर और संकाय सलाहकार डॉ. तालिव हुसैन और डॉ. मोहम्मद आसिफ को यह प्रोजेक्ट प्रदान किये गये हैं। जिसके तहत वह श्री स्टेज मल्टी कम्पे्रशन रेफ्रीजरेशन सहित आदि पर कार्य करेंगे।

उन्होंने कहा कि विभाग को पिछले दो वर्षों से एएसएचआरएई से इस तरह का अनुदान प्राप्त हो रहा है, और अब तक एएसएचआरएई से कुल 9 परियोजनाएँ प्राप्त हुई हैं।

--------------------------

जेएन मेडिकल कालिज के कार्डियोलॉजी के छात्रों ने जीते पुरस्कार

अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ़| अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जेएन मेडिकल कार्डियोलॉजी विभाग से डीएम पासआउट डॉ. प्रियंका सिंह ने हाल ही में आगरा में आयोजित कार्डियोलॉजिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया (यूपीसीएसआई) के यूपी चैप्टर के राष्ट्रीय सम्मेलन में अपनी प्रस्तुति के लिए स्वर्ण पदक हासिल यिका। उन्हें यूपी के सर्वश्रेष्ठ डीएम उम्मीदवारों में से पुरस्कार के लिए चुना गया था।

अब्बास असगर, वरिष्ठ कैथ लैब तकनीशियन और अवधेश शर्मा (नर्सिंग स्टाफ) को भी उनकी संबंधित श्रेणियों में स्वर्ण पदक के लिए चुना गया, जबकि डॉ. विकास मल और डॉ. शीराज आलम ने क्विज में भाग लिया और तीसरा स्थान प्राप्त किया।

सर्वश्रेष्ठ डीएम थीसिस प्रस्तुत करने पर डॉ. प्रियंका सिंह को दूसरा स्थान मिला और उन्हें रजत पदक मिला। विशेषज्ञों द्वारा कई मूल्यांकन सत्रों के बाद, पूरे देश से प्रतियोगिता के लिए चुने गए 200 थीसिस में से उनकी थीसिस का चयन किया गया।

प्रोफेसर मलिक अजहरुद्दीन के साथ कार्डियोलॉजी विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर आसिफ हसन ने सम्मेलन में एक व्याख्यान प्रस्तुत किया, जिसमें स्नातकोत्तर और डीएम छात्रों से अपने क्षेत्र में हाल के विकास से परिचित होने के लिए नियमित रूप से ऐसी शैक्षणिक और प्रशिक्षण गतिविधियों में भाग लेने का आग्रह किया गया।

---------------------------------

वेरिलॉग एचडीएल पर व्यावहारिक प्रशिक्षण का आयोजन

अलीगढ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ़|  इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग अनुभाग, विश्वविद्यालय महिला पॉलिटेक्निक, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय ने वेरिलॉग एचडीएल‘ पर दो दिवसीय व्यावहारिक प्रशिक्षण का आयोजन किया। एएमयू के इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग विभाग में सहायक प्रोफेसर डॉ. मोहम्मद तौसीफ रिसोर्स पर्सन थे। प्रशिक्षण में भाग लेने के लिए 80 से अधिक छात्रों और संकाय सदस्यों ने पंजीकरण कराया ।

डॉ. मोहम्मद तौसीफ और उनकी टीम ने फील्ड प्रोग्रामेबल गेट एरेज (एफपीजीए) का उपयोग करके डिजिटल सर्किट डिजाइन करने में वेरिलॉग एचडीएल प्रोग्रामिंग की मूल अवधारणाओं और इसके व्यावहारिक अनुप्रयोगों को समझाया।

प्रिंसिपल डॉ. सलमा शाहीन ने मेहमानों का स्वागत किया और प्रतिभागियों से वेरिलॉग एचडीएल की मूल बातें सीखने का आग्रह किया क्योंकि इससे उन्हें डिजिटल सर्किट की जटिलताओं को समझने में बहुत मदद मिलेगी।

कार्यक्रम के संयोजक डॉ. मोहम्मद अजमल कफील ने डिजिटल डिजाइन के महत्व पर प्रकाश डाला और इस तरह के और अधिक तकनीकी कार्यक्रमों की व्यवस्था करने का आश्वासन दिया।

डॉ. शाहनवाजुद्दीन, डॉ. अमीर बेग, मोहम्मद काशिफ,  आतिफा अकील,  एस. शिरा मोईन और शाहबाज हुसैन ने कार्यक्रम के दौरान विभिन्न तकनीकी सत्रों की अध्यक्षता की।

-

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)