जनता से वित्तपोषित, UPI, PhonePe, और PayTM: 9219129243

व्यय प्रेक्षक ने एमसीएमसी कक्ष, सोशल मीडिया मॉनिटरिंग कक्ष, कंट्रोल रूम एवं नामांकन कक्ष का निरीक्षण

0

 


व्यय प्रेक्षक ने बैठक कर नोडल एवं प्रभारी अधिकारियों से ली निर्वाचन संबंधी जानकारी, दिए आवश्यक निर्देश

जिला प्रशासन द्वारा अब तक किए गए कार्यों पर जताया सन्तोष

अलीगढ़ मीडिया डॉट कॉम, अलीगढ : लोकसभा सामान्य निर्वाचन 2024 को स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न कराने के लिए व्यय प्रेक्षक शैलेन्द्र कुमार देशमुख ने कलेक्ट्रेट सभागार में व्यय अनुवीक्षण से संबंधित नोडल एवं प्रभारी अधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा लोकसभा निर्वाचन के लिए प्रत्याशी को नामांकन से लेकर मतगणना तक सम्पूर्ण निर्वाचन के लिए 95 लाख की अधिकतम व्यय सीमा निर्धारित की गई है। व्यय अनुवीक्षण तंत्र के अंतर्गत गठित टीम प्रत्येक निर्वाचन व्यय पर पैनी नजर रखेंगे। व्यय प्रेक्षक ने एमसीएमसी कक्ष, सोशल मीडिया मॉनिटरिंग कक्ष, कंट्रोल रूम एवं नामांकन कक्ष का भी निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर पैनी निगाह रखने के साथ ही समिति द्वारा समाचार पत्रों में विज्ञापनों पर नजर रखते हुए पेड न्यूज़ के संदिग्ध मामलों को कमेटी के समक्ष रखने के निर्देश देते हुए पेड न्यूज की पुष्टि होने की दशा में नोटिस की कार्यवाही करते हुए पेड न्यूज़ को प्रत्याशी के व्यय में सम्मिलित किया जाए। उन्होंने सोशल मीडिया निगरानी टीम को निरन्तर सक्रिय रहने के भी निर्देश दिए। 


जिला निर्वाचन अधिकारी विशाख जी0 ने व्यय प्रेक्षक को जिले में लोकसभा चुनाव के लिए गठित विभिन्न टीमों की विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सोशल मीडिया सेल एवं मीडिया प्रमाणन एवं अनुवीक्षण टीम का गठन कर लिया गया है और टीम द्वारा सतत निगरानी भी की जा रही है। अलीगढ़ लोकसभा में 45 एफएसटी एवं 19 एसएसटी सक्रिय हैं। अंतरराज्यीय एवं अंतर्जनपदीय सीमा पर भी कड़ी चौकसी बरती जा रही है। प्रिंटिंग प्रेस संचालकों एवं राजनैतिक दलों के साथ बैठक कर भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशों से अवगत करा दिया गया है। नामांकन के दौरान प्रत्याशी को धारा 127 ए के अनुपालन के लिए एक प्रति भी  उपलब्ध कराई जा रही है। आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के मामलों पर कड़ी नजर रखने के लिए सी विजिल एप का वृहद प्रचार प्रसार कराया गया है। निर्वाचन में प्रयोग होने वाली प्रमुख वस्तुओं यथा चाय, नाश्ता, कुर्सी, पंडाल, समोसा, लंच एवं अन्य सामग्री की दरें भी निर्धारित कर दी गई हैं। निर्वाचन कंट्रोल रूम 24 घंटे संचालित हो रहा है।


व्यय प्रेक्षक शैलेन्द्र कुमार देशमुख ने कहा कि निर्वाचन आयोग की मंशा है कि निर्वाचन में मतदाताओं को प्रलोभन देने वाली वस्तुओं एवं धन-बल के प्रभाव को शून्य किया जाए। सभी अधिकारी भारत निर्वाचन आयोग द्वारा दी गई हस्तपुस्तिका का अच्छे से अध्ययन कर लें और पूर्ण मनोयोग के साथ सौंपे गए दायित्वों का निर्वहन करें। उन्होंने कहा कि एफएसटी एवं एसएसटी समेत अन्य टीम के सदस्य पूरी सतर्कता के साथ कार्य करते हुए अपनी प्रतिदिन की रिपोर्ट नोडल व्यय अधिकारी को देना सुनिश्चित करें ताकि प्रत्याशी के व्यय रजिस्टर में ससमय अंकन हो सके।

   जलूसों, रैलियों, सभाओं की भली-भाँति वीडियोग्राफी की जाए ताकि व्यय का सही और सटीक आकलन संभव हो सके। उन्होंने एफएसटी एवं एसएसटी को सक्रियता से कार्य करते हुए जांच के दौरान प्राप्त होने वाली अवैध सामग्री पर सीजर की वीडियोग्राफी अवश्य करने के निर्देश दिए।

   व्यय प्रेक्षक ने कहा कि प्रत्येक प्रत्याशी का नामांकन से पूर्व अपना नया बैंक खाता होना चाहिए, ताकि निर्वाचन के दौरान उस बैंक खाते से धनराशि का लेनदेन सुनिश्चित हो सके। संपूर्ण लोकसभा क्षेत्र में कहीं भी आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन नहीं होना चाहिए। व्यय प्रेक्षक ने जिले की भौगोलिक स्थिति,  मतदान एवं मतदेय स्थलों, स्वीप कार्यक्रमों, ईवीएम प्रशिक्षण, कंट्रोल रूम, विभिन्न कमेटियों के बारे में जानकारी करते हुए अब तक किए गए निर्वाचन कार्यो पर संतोष प्रकट किया और वीडियोग्राफी पर विशेष ध्यान देने की निर्देश दिए।

    बैठक में एडीएम वित्त मीनू राणा, एसपी ट्रैफिक मुकेश उत्तम, वरिष्ठ कोषाधिकारी योगेश कुमार, आयकर अधिकारी, राज्य उत्पाद शुल्क,  डिप्टी कमिश्नर जीएसटी, समस्त सहायक व्यय प्रेक्षक एवं एडी सूचना व सचिव एमसीएमसी संदीप कुमार व ईडीएम मनोज राजपूत उपस्थित रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)