जनता से वित्तपोषित, UPI, PhonePe, और PayTM: 9219129243

डीएम ने चालू वित्तीय वर्ष के लिए वार्षिक जिला ऋण योजना की पुस्तिका का किया विमोचन

0

 


जिला परामर्शदात्री समिति की बैठक संपन्न

अलीगढ़ मीडिया डिजिटल, अलीगढ: जिलाधिकारी विशाख जी0 की अध्यक्षता में कलैक्ट्रेट सभागार में जिला परामर्शदात्री समिति की बैठक आहूत की गई। बैठक में डीएम ने वित्तीय वर्ष 2024-25 के लिए वार्षिक जिला ऋण योजना की पुस्तिका का भी विमोचन किया। समीक्षा में चालू वित्तीय वर्ष के लिए जिले की वार्षिक ऋण योजना, वित्तीय समायोजन, वित्तीय साक्षरता केंद्रों की स्थापना, वित्तीय समावेशन को बढ़ाने के लिए किए जाने वाले प्रयास, सीडी रेशियो पर गहनता के साथ विचार-विमर्श किया गया। इसके साथ ही किसान क्रेडिट कार्ड और फसली ऋण खरीफ और रबी के लिए लक्ष्य, जिला उद्योग केंद्र द्वारा संचालित योजनाओं की प्रगति पर भी समीक्षा की गई। एसबीआई कॉर्डिनेकर के बैठक से अनुपस्थित रहने एवं पीएमईजीपी योजना में प्रेषित आवेदन पत्रों को लम्बित रखने पर उनके विरूद्ध एसएलबीसी एवं जोनल हैड एसबीआई को कार्यवाही के लिए पत्र लिखने के निर्देश दिए गए। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत आच्छादित कृषकों की प्रीमियम धनराशि भेजने की प्रक्रिया समयबद्ध रूप से सुनिश्चित करने के लिए जिला कृषि अधिकारी को निर्देशित करने के साथ ही बैंकर्स के साथ जागरूकता कार्यशाला आयोजित करने के निर्देश दिए।  



     जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि स्वरोजगार योजना के अंतर्गत उद्योगों की स्थापना के लिए विभागों द्वारा भेजे गए आवेदन पत्रों पर बैंक ऋण आवंटन की कार्यवाही करें, यदि आवेदन पत्रों में कोई कमी है तो उसको पूरा कराया जाए। समीक्षा में पाया गया कि मार्च 2024 में जिले का ऋण जमानुपत 51.41 प्रतिशत रहा, जोकि दिसम्बर 2023 में 51.18 प्रतिशत था। जिलाधिकारी ने गिरते सीडी रेशियो पर चिंता व्यक्त करते हुए 60 प्रतिशत तक पहुंचाने के लिए बड़े कार्पाेरेट ऋण पर स्वीकृति के निर्देश दिए गए। 

     वार्षिक ऋण योजना की समीक्षा में पाया गया कि वित्तीय वर्ष 23-24 में वार्षिक ऋण योजना के अंतर्गत बैंकों को 10873.15 करोड़ के सापेक्ष तिमाही की उपलब्धि 10539.15 करोड़ रही, जो लक्ष्य की 96 प्रतिशत रही। वार्षिक ऋण योजना कृषि क्षेत्र में 60.23 प्रतिशत,  प्राथमिकता क्षेत्र में 74.65 प्रतिशतएवं गैर प्राथमिकता क्षेत्र में 665.48 प्रतिशत रहा। फसली ऋण वितरण में अपेक्षानुरूप प्रगति न पाए जाने पर विशेष कार्ययोजना तैयार कर लक्ष्य प्राप्ति के निर्देश दिए गए। चालू वित्तीय वर्ष में जिले में 199546 केसीसी का लक्ष्य दिया गया, जिसमे 60706 नए एवं 138840 नवीनीकरण के सापेक्ष 15 जून तक 24390 केसीसी का वितरण और फसली ऋण में लक्ष्य के सापेक्ष 402.74 करोड़ का ऋण वितरण किया गया।



*सीडी रेशियो:*

जिले में 40 से 60 प्रतिशत सीडी रेशियो वाले बैंकों में केनरा, पीएनबी, बीओबी, पंजाब एंड सिंध, यूको बैंक रहे। 40 प्रतिशत से नीचे सीडी रेशियो वाले बैंक एसबीआई, इंडियन बैंक, सीबीआई, यूबीआई, कोटक महेंद्रा, आईडीबीआई, आईओबी एवं यस बैंक पाए गए। जिले 13 बैंक ही ऐसे हैं जिनका सीडी रेशियो 60 प्रतिशत से अधिक है। 

----

                                                        

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)