जनता से वित्तपोषित, UPI, PhonePe, और PayTM: 9219129243

#Education_News: मुख्य सचिव ने राजा महेन्द्र प्रताप सिंह में सत्र आरम्भ करने के दिए निर्देश

0


मा0 मुख्य सचिव ने वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों के साथ आरएमपीयू का निरीक्षण कर की बैठक

अलीगढ़ मीडिया डिजिटल, अलीगढ : मा0 मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश शासन श्री दुर्गा शंकर मिश्र द्वारा शनिवार को राजा महेन्द्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय का निरीक्षण किया गया। प्रातः अलीगढ़ सर्किट हाउस पहुॅचे मा0 मुख्य सचिव श्री मिश्र का मण्डलायुक्त चैत्रा वी., आईजी शलभ माथुर, डीएम विशाख जी0 एवं नगर आयुक्त अमित आसेरी ने पुष्प् गुच्छ भेंट कर स्वागत एवं आगवानी की। मुख्य सचिव श्री दुर्गा शंकर मिश्र ने सर्किट हाउस पर मान प्रमाण ग्रहण किया। 

मा0 मुख्य सचिव ने राजा महेन्द्र प्रताप सिंह विश्वविद्यालय के सम्पूर्ण परिसर का बरसात मौसम में भ्रूमण व निरीक्षण के उपरान्त प्रशासनिक एवं तकनीकी विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की। जिलाधिकारी विशाख जी0 ने मा0 मुख्य सचिव को बताया कि राज्य विश्वविद्यालय की आधार शिला मा0 प्रधानमंत्री जी द्वारा 14 सितम्बर 2021 को रखी गई। 100.35 एकड़ में फैले विश्वविद्यालय भवन को 101.41 करोड़ की अनुबंध लागत से अक्टूबर 2021 में ईश्वर सिंह एसोशिएट्स कंसट्रक्शन प्रा0 लि0 द्वारा कार्य आरम्भ किया गया। प्रथम चरण में आरम्भ हुए कार्य को 08 जनवरी 2023 को पूरा करना था। आरएमपीएसयू को और अधिक भव्यता प्रदान करने के लिए 05 करोड़ की लागत से फसाड इम्पूवमेंट का कार्य आरम्भ किया गया है, जिसे 31 अगस्त 2024 तक पूरा करना है। 

मुख्य अभियंता लोनिवि भवन निर्माण सुरेन्द्र कुमार ने बताया कि विश्वविद्यालय को नागर शैली के आधार पर बनाया जा रहा है। इसमें एकेडमिक ब्लॉक, एडमिनिस्ट्रेटिव ब्लॉक, ब्यायज एवं गर्ल्स होस्टल, फैसेलिटी सेंटर समेत आवासीय भवन बनकर तैयार हो चुके हैं एवं एकेडमिक ब्लॉक, एडमिनिस्ट्रेटिव ब्लौल एवं लाइब्र्रेरी में फसाड वर्क अपने अंतिम चरण में है। सम्पूर्ण परिसर को रेन वाटर हार्वेस्ट्रिंग से आच्छादित किया गया है। ईश्वर सिंह एसोशिएट्स की तरफ से सुरजीत कुंडू ने आग्रह किया कि जो भवन तैयार हो चुके हैं उन्हें हैण्डओवर लिया जाए। 


मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश शासन श्री दुर्गा शंकर मिश्र ने वाइस चासंलर राजा महेन्द्र प्रताप सिंह विश्वविद्यालय के निर्मित भवन हैण्डओवर लेते हुए सत्र आरम्भ करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय का पूरा कैम्पस लगभग बनकर तैयार है। एकेडमिक एवं एडमिनिस्ट्रेटिव ब्लॉक, हॉस्टल, फैसेलिटी सेंटर, विभिन्न प्रकार के आवास जो बनकर तैया हैं एवं जिन पर फिनिशिंग का कार्य अंतिम चरण में है। उन्होंने कहा कि यहां मा0 पूर्व सांसद श्रीमती शीला गौतम के परिवार द्वारा एक बहुत अच्छा उपहार विश्वविद्यालय को सेंटर ऑफ लर्निंग के नाम पर दिया गया है। यह इमारत भी लगभग बनकर तैयार है। इसमें 250 क्षमता वाली लाइब्रेरी, 650 क्षमतायुक्त ऑडीटोरियम के साथ ही एक बड़ा ओपन एयर स्पेस भी रखा गया है। ऑडीटोरियम एवं ओपन स्पेस विश्वविद्यालय की आवश्यकताओं को पूरा करने के साथ शहर की भी विभिन्न आवश्यकताओं की पूर्ति करेगा। 

राहुल गौतम ने कहा कि पूज्य माता शीला गौतम जी दूरगामी सोच की धनी थीं। उनका सपना था कि विद्यार्थियों को किताबी ज्ञान के साथ एक अच्छा माहौल एवं स्थान प्राप्त हो। लाइब्रेरी एवं ऑडीटोरियम को वास्तु को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है। लाइब्रेरी में एक साथ 250 विद्यार्थी किताबी ज्ञान के साथ ही डिजिटल लाइब्र्रेरी का भी उपयोग कर सकेंगे। आधुनिक सुविधाओं युक्त 650 की क्षमता का ऑडीटोरियम बनाया गया है बहुउद््देशीय साबित होगा। दिव्यांग विद्यार्थियों की सुविधा के दृष्टिगत आसान व सुविधाजनक रैम्प भी बनाई गई है। इस अवसर पर मा0 मुख्य सचिव, कमिश्नर, डीएम एवं सीडीओ ने विश्वविद्यालय परिसर में पीपल, पाकड़ एवं अन्य पौधे रोपे। 

इस अवसर पर मण्डलायुक्त चैत्रा वी. वीसी चन्द्रशेखर, डीएम विशाख जी0, सीडीओ आकांक्षा राना, रजिस्ट्रार महेश कुमार, मुख्य अभियंता सुरेन्द्र कुमार, एसई पीडब्लूडी रविन्द्र सिंह, अधिशासी अभियंता संजीव पुष्कर, ए0के0 राही, एसई विद्युत सुबोध कुमार, डीएसटीओ संजय कुमार समेत अन्य अधिकारी उपस्थित रहे। 

-----

                                                      

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)