जनता से वित्तपोषित, UPI, PhonePe, और PayTM: 9219129243

इंडिया टुडे बेस्ट कॉलेज सर्वे में एएमयू के इंजीनियरिंग और मास कम्युनिकेशन विभाग की रैंकिंग में सुधार

0

 


अलीगढ़ मीडिया डिजिटल, अलीगढ: मार्केटिंग एंड डेवलपमेंट रिसर्च एसोसिएट्स (एमडीआरए) के सहयोग से किए गए इंडिया टुडे बेस्ट कॉलेज ऑफ इंडिया सर्वे 2024 में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जाकिर हुसैन कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (जेडएचसीईटी) को सभी इंजीनियरिंग कॉलेजों में देश में 22वां स्थान मिला है।

इस सालजेडएचसीईटी ने 2023 में अपनी 24वीं रैंक से दो पायदान ऊपर की छलांग लगाई है और 2000 में से 1411.5 का कुल स्कोर (टीएस) प्राप्त किया है। 2023 में इसका स्कोर 1404.6 था।

इसी प्रकारमास कम्युनिकेशन विभाग को देश में 21वीं रैंक मिली है जो 2023 में 23वीं रैंक की तुलना में दो पायदान ऊपर है। इस विभाग ने 2000 में से 1133.4 का टोटल स्कोर प्राप्त किया है जबकि 2023 में इसे 1123.2 का स्कोर प्राप्त हुआ था।

जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज देश में अपना 17वां स्थान बरकरार रखने में सफल रहा है। इसे 2000 में से 1451.7 अंक मिले हैं। डॉ. जियाउद्दीन अहमद डेंटल कॉलेज और आर्किटेक्चर विभाग ने भी 2000 में से क्रमशः 1572 और 1397.4 के समग्र स्कोर के साथ अपने 8वें और 9वें स्थान को बरकरार रखा है। विधि संकाय को 1407.6 स्कोर के साथ देश में 14वां समग्र रैंक प्राप्त हुआ हैजबकि सामाजिक कार्य विभाग को 2000 में से 1342.6 स्कोर के साथ 14वां समग्र रैंक मिला है।

कुलपति प्रोफेसर नईमा खातून ने विश्वविद्यालय के विभागों और कॉलेजों के उल्लेखनीय रैंकिंग परिणामों के लिए विश्वविद्यालय बिरादरी को बधाई दी। उन्होंने कहा कि यह रैंकिंग विश्वविद्यालय को नई ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए उनकी कड़ी मेहनत और ईमानदारी का प्रमाण है। विश्वविद्यालय की रैंकिंग समिति के अध्यक्ष प्रो. एम. सालिम बेग ने कहा कि कॉलेजों की रैंकिंग के दौरानएमडीआरए ने कॉलेजों की सबसे व्यापक और संतुलित तुलना प्रदान करने के लिए प्रत्येक स्ट्रीम में 112़ विशेषताओं को समायोजित किया है। इन प्रदर्शन संकेतकों यानी इनटेक क्वालिटी एंड गवर्नेंस (आईक्यूजी)अकादमिक उत्कृष्टता (एसीई)इंफ्रास्ट्रक्चर एंड लिविंग एक्सपीरियंस (आईएलई)पर्सनालिटी एंड लीडरशिप डेवलपमेंट (पीएलडी) और करियर प्रोग्रेसन एंड प्लेसमेंट (पीसीपी) को 5 व्यापक मापदंडों में शामिल किया गया था।

उन्होंने कहा कि उपरोक्त के अलावासंबंधित कॉलेज के प्रत्येक विषय के लिए ऑब्जेक्टिव स्कोर (ओएस) और परसेप्शन स्कोर (पीएस) की भी अलग-अलग गणना की गई हैइस प्रकार 2000 में से कुल स्कोर की गणना की गई है जो सम्बंधित विभाग अथवा कॉलेज के समग्र रैंक का सूचक है।

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)