जनता से वित्तपोषित, UPI, PhonePe, और PayTM: 9219129243

जिला मजिस्ट्रेट की अध्यक्षता में मोहर्रम एवं श्रावण मास के दृष्टिगत शांति एवं कानून व्यवस्था की बैठक आहुत

0


परम्परागत जलूसों से हटकर किसी नई परम्परा एवं जलूस की नहीं दी जाएगी अनुमति

अलीगढ़ मीडिया डिजिटल, अलीगढ : जिला मजिस्ट्रेट विशाख जी की अध्यक्षता में कलैक्ट्रेट सभागार में मोहर्रम एवं श्रावण मास में शांति एवं कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए बैठक आहुत की गई। बैठक में पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारी, संभ्रात नागरिक, मौलवी एवं विभिन्न मंदिरों के पुजारी व महंत उपस्थित रहे। डीएम ने कहा कि पिछले सभी त्योहार सौहार्दपूर्ण एवं भाईचारे के साथ मनाए गए हैं। ठीक इसी प्रकार से आने वाले त्योहारों को भी अच्छे से मनाया जाए। उन्हांेंने कहा कि किसी भी छोटी से छोटी घटना की जानकारी अधिकारियों को समय रहते उपलब्ध करा दें। उन्हांेने विभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया कि प्राप्त समस्याओं व समस्याओं का तत्परता के साथ समाधान सुनिश्चित कराया जाए। 


जिला मजिस्ट्रेट ने कहा कि 22 जुलाई से पवित्र श्रावण मास आरम्भ हो रहा है। इस अवधि में श्रावणी शिवरात्रि, नागपंचमी, रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जाएगा। परम्परागत ढ़ंग से काबड़ यात्राएं भी निकलेंगी। मौहर्रम एवं गुरू पूर्णिमा का भी पावन त्योहार है, ऐसे में सभी को संवेदनशीलता के साथ सतर्क एवं सावधान रहने की आवश्यकता है। डीएम ने पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों को निर्देशित किया कि वह जन सामान्य से समन्वय बनाए रखें। कावड़ यात्रा मार्ग पर स्वच्छता एवं पर्याप्त प्रकाश व्यवस्था होनी चाहिए। धर्म स्थलों के आसपास समुचित साफ सफाई व्यवस्था के साथ ही प्रतिबंधित पॉलीथिन का प्रयोग न हो, सुनिश्चित किया जाए।

  डीएम ने मोहर्रम जुलूस के दौरान निकलने वाले ताजिया से जुड़ी समितियों और शांति समितियां के साथ समन्वय व संवाद कर ताजिया की ऊंचाई परंपरा के अनुरूप सुनिश्चित कराने के निर्देश देते हुए कहा कि किसी प्रकार की दुर्घटना से बचने के लिए सभी प्रकार के आवश्यक प्रबंध किए जाएं। कोई नई परंपरा ना डाली जाए। डीएम ने कहा कि शहर में कावड़ यात्रा के चार प्रमुख मार्गों से गुजरती है। उन्होंने शहरी क्षेत्र में इन मार्गों पर भारी वाहनों पर पाबंदी रखने के साथ ही बरसात से क्षत्रिग्रस्त मार्गों को दुरूस्त करने के निर्देश देते हुए कहा कि कहीं पर भी अतिक्रमण नहीं होने देना है। खेरेश्वर मंदिर एवं अचलेश्वर में काफी भीड़ रहती है प्रबंधन कमेटी के सहयोग से प्रवेश एवं निकासी का अलग अलग मार्ग बनाया जाए। डीएम ने नगर निगम, जलकल एवं विद्युत विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि अगले दो दिनों में क्षेत्रीय अवर अभियंता भ्रमण कर समस्याओं का स्वतः संज्ञान लेते हुए समस्याओं को दूर कराएं।


एसएसपी संजीव सुमन ने सभी सीओ एवं थाना प्रभारियों से कहा कि निर्देशों को गम्भीरता से लिया जाए। बारिश का समय है, विद्युत खम्भों में करंट उतरने की भी शिकायत रहती है, ध्यान रखा जाए। पुराने जर्जर भवनों पर लोग न चढ़ने पाए। उन्होंने आयोजकों से कांवड़ एवं ताजियों की ऊँचाई कम रखने की भी अपील की। 

पुलिस क्षेत्राधिकारी शहर प्रथम, द्वितीय, तृतीय, खैर, इगलास, बरला, अतरौली एवं छर्रा ने अपने अपने क्षेत्र में निकलने वाले ताजिया जुलूस एवं मार्गों के साथ ही बताया कि किसी प्रकार की समस्या नहीं है। सीओ प्रथम ने जल भराव की समस्या की ओर ध्यान आकृष्ट कराया। सभी थानों में पीस कमेटियों की बैठक अनिवार्य रूप से करने के निर्देश दिए गए। शस्त्र अस्त्र के प्रदर्शन पर पूरी तरह से पाबंदी रहेगी। 

बैठक मेंएडीएम सिटी अमित कुमार भट्ट, सीएमओ डॉ नीरज त्यागी, एसपी सिटी मृगांक शेखर पाठक, एसपी ग्रामीण पलाश बंसल, सभी एसडीएम, पुलिस क्षेत्रधिकारी, थानाध्यक्ष, विभागीय अधिकारी, प्रबुद्धजन, संभ्रांत नागरिक एवं आयोजक उपस्थित रहे।  

----

                                              

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)